Covid-19: मुंबई पुलिस ने इन 4 इलाकों में दिए फुल लॉकडाउन की सलाह, BMC बोली- संभव नहीं
Maharashtra News in Hindi

Covid-19: मुंबई पुलिस ने इन 4 इलाकों में दिए फुल लॉकडाउन की सलाह, BMC बोली- संभव नहीं
मुंबई पुलिस ने गोरेगांव से लेकर दहिसर तक फुल लॉकडाउन लगाने की बात कही है, क्योंकि यहां सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पूरी तरह से पालन नहीं किया जा रहा है.

देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) से महाराष्ट्र, तमिलनाडु, दिल्ली और गुजरात सबसे अधिक प्रभावित हैं. राष्ट्रीय राजधानी और तीन राज्यों में संक्रमित होने वाले लोगों की कुल संख्या 2 लाख 70 हजार 476 है, जो देशभर में अब तक इस वायरस से संक्रमित कुल आबादी का 65.90 प्रतिशत है.

  • Share this:
मुंबई. देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) का सबसे ज्यादा असर महाराष्ट्र (Maharashtra) में देखने को मिल रहा है. अब तक के कुल 4 लाख संक्रमितों में 31.03 % मरीज सिर्फ महाराष्ट्र से हैं. मुंबई में लॉकडाउन (Lockdown) तोड़ने के ज्यादा मामले आ रहे हैं, जिससे संक्रमण के मामलों में इजाफा हो रहा है. ऐसे में मुंबई पुलिस ने चार इलाकों में फुल लॉकडाउन की सलाह दी है. हालांकि, बृहन्मुंबई म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन (BMC) का कहना है कि लॉकडाउन को दोबारा से लागू करना समस्या का समाधान नहीं है और न ही ये तर्कसंगत है.

दरअसल, मुंबई पुलिस ने गोरेगांव से लेकर दहिसर तक फुल लॉकडाउन लगाने की बात कही है, क्योंकि यहां सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पूरी तरह से पालन नहीं किया जा रहा है. आर-नॉर्थ सिविक वार्ड के अंतर्गत आने वाले दहीसार में बीते 16 दिनों में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले डबल हो गए हैं. शुक्रवार तक यहां कोरोना के 1,318 केस आए. वहीं, आर-सेंट्रल वार्ड (जिसमें बोरीवली वेस्ट भी शामिल है) में 18 दिनों में 1,882 केस रिकॉर्ड किए गए.

ये भी पढ़ें:- महाराष्‍ट्र में कोरोना से एक दिन में 160 लोगों की मौत और 3873 नए केस, कुल आंकड़ा 1,28,205



एक आईपीएस अधिकारी ने कहा, 'पिछले 10 दिनों से मलाड पूर्व में अप्पपाड़ा और कोकानीपाड़ा क्षेत्रों में पूर्ण तालाबंदी हुई थी, जिसके अच्छे परिणाम आए थे. संक्रमण के मामलों की संख्या कम दर्ज की गई थी. इसके बाद हमने BMC को सुझाव दिया है कि लॉकडाउन को वहां और दो और स्थानों पर बढ़ाया जाए. इसमें कांदिवली पूर्व में काजुपड़ा और दहिसर पश्चिम में गणपत पाटिल नगर शामिल है. हालांकि, बीएमसी अधिकारियों के आदेश का इंतजार किया जा रहा है,
मुंबई में आबादी अधिक होने से खतरा भी ज्यादा
मुंबई में अधिकतम जनसंख्या घनत्व है. मालवणी, म्हाडा कंपाउंड, मारवे रोड, कुरार गांव में लगभग 10 लाख लोग रहते हैं. ऐसे में यहां संक्रमण बढ़ने से हालात क्या होंगे, समझा जा सकत है. मलाड पूर्व (पी-नॉर्थ वार्ड में भी) में पिछले हफ्ते के लिए पूर्ण लॉकडाउन लगाया गया था, क्योंकि क्षेत्र में कोविड-19 मामलों की संख्या बढ़ गई थी. 13 जून तक यहां कोरोना के 2,664 केस आए थे. पी-नॉर्थ वार्ड में 19 जून तक कोरोना के 3,488 हो गए हैं.


देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) से महाराष्ट्र, तमिलनाडु, दिल्ली और गुजरात सबसे अधिक प्रभावित हैं. राष्ट्रीय राजधानी और तीन राज्यों में संक्रमित होने वाले लोगों की कुल संख्या 2 लाख 70 हजार 476 है, जो देशभर में अब तक इस वायरस से संक्रमित कुल आबादी का 65.90 प्रतिशत है
.

ये भी पढ़ें:- महाराष्ट्र ने शुरू किया टेली-आईसीयू का परीक्षण, घर में ही मरीज को मिलेगा ICU जैसा इलाज

महाराष्ट्र में अभी कितने केस?
कोरोना की महामारी से सर्वाधिक प्रभावित महाराष्ट्र में पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस के संक्रमण के 3874 मामले दर्ज किए गए. 91 लोगों की मौत भी हुई है. इसके साथ ही राज्य में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 1,28,205 और मृतकों की संख्या बढ़कर 5984 हो गई है. इस दौरान राज्य में 1380 रिकवर हुए हैं, जिसके बाद स्वस्थ होने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 64,153 हो गई है.

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज