मुंबई: प्रवासी मजदूरों की भारी भीड़ के कारण रेलवे ने बंद की प्लेटफॉर्म टिकट की बिक्री

लोकमान्य तिलक टर्मिनस, कल्याण, ठाणे, दादर और सीएसटीएम स्टेशनों पर प्लेटफार्म टिकटों की बिक्री को अगले आदेश तक बंद कर दिया गया है. (PTI)

लोकमान्य तिलक टर्मिनस, कल्याण, ठाणे, दादर और सीएसटीएम स्टेशनों पर प्लेटफार्म टिकटों की बिक्री को अगले आदेश तक बंद कर दिया गया है. (PTI)

मुंबई सहित पूरे राज्य में महाराष्ट्र सरकार द्वारा 5 अप्रैल से लगाई गए कड़े नियम और पाबंदियां हैं. जिसके चलते काफी संख्या में मजदूर वर्ग के लोगों का फिर से पलायन होने लगा है. उत्तर प्रदेश और बिहार से मुंबई काम करने के लिए आने वाले तमाम मजदूर अपने राज्यों को फिर से वापस लौटने लगे हैं.

  • Share this:
मुंबई. देश में महाराष्ट्र कोरोना वायरस महामारी (Covid Pandemic Second Wave) की सबसे ज्यादा मार झेल रहा है. इस बीच लॉकडाउन (Lockdown) के डर से मुंबई से प्रवासी मजदूरों (Migrant Workers) का पलायान जारी है. मुंबई सेंट्रल और दादर रेलवे स्टेशनों में प्रवासी मजदूरों की भारी भीड़ देखी जा रही है. ऐसे में मध्य रेलवे ने एक बड़ा फैसला लिया है. इसके तहत लोकमान्य तिलक टर्मिनस, कल्याण, ठाणे, दादर और सीएसटीएम स्टेशनों पर प्लेटफार्म टिकटों की बिक्री को अगले आदेश तक बंद कर दिया गया है. प्लेटफार्म टिकटों की बिक्री पर पाबंदी लगाने की मुख्य वजह स्टेशनों पर लगातार उमड़ती भीड़ और उसमें कोविड नियमों की उड़ती धज्जियां हैं, जिसकी तस्वीरें कई दिनों से सामने आ रही थीं.

मुंबई के दादर, लोकमान्य तिलक टर्मिनस, कल्याण, ठाणे, और सीएसटीएम स्टेशनों पर भीड़ उमड़ने की कई वजहें हैं. पहली वजह यह है कि मुंबई सहित पूरे राज्य में महाराष्ट्र सरकार द्वारा 5 अप्रैल से लगाई गए कड़े नियम और पाबंदियां हैं. जिसके चलते काफी संख्या में मजदूर वर्ग के लोगों का फिर से पलायन होने लगा है. उत्तर प्रदेश और बिहार से मुंबई काम करने के लिए आने वाले तमाम मजदूर अपने राज्यों को फिर से वापस लौटने लगे हैं.

दूसरी वजह उत्तर प्रदेश में 15 अप्रैल से शुरू हो रहे पंचायत चुनाव हैं, जिसमें वोट डालने के लिए बड़ी संख्या में लोग अपने-अपने गांव को जा रहे हैं. तीसरी वजह बंगाल का चुनाव भी है. मुंबई में बंगाल के लोग भी बड़ी संख्या में रहते हैं. मौजूदा समय में बंगाल का चुनाव चल रहा है. इन चुनावों में वोट देने के लिए भी बड़ी संख्या में लोग बंगाल जा रहे हैं. इसके अलावा उत्तर प्रदेश और बिहार में शादियों का सीजन शुरू हो गया है. इसमें शामिल होने के लिए भी लोग अपने गांवों को जा रहे हैं. इस दौरान लोगों को छोड़ने के लिए भी बड़ी संख्या में लोग प्लेटफ़ार्म टिकट लेकर साथ मे ट्रेन तक जाते हैं. रेलवे ने प्लेटफार्म टिकट के दाम भी 50 रुपये कर दिया, लेकिन उसका कोई असर नही हुआ.

इतनी बड़ी संख्या में भीड़ उमड़ने के बाद भी रेलवे की तरफ से अभी तक करीब 40-44 ट्रेनें ही चलाई जा रही है. यानी ट्रेनें कम और लोगों की संख्या ज्यादा. कुछ दिन पहले ही 5 विशेष ट्रेनें मध्य रेलवे ने जरूर शुरू की, लेकिन उससे बावजूद भीड़ कम होने का नाम नहीं ले रही है, जिससे रेलवे की चिंता लगातार बढ़ रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज