सक्रिय जांच से धारावी में काबू में आया कोविड-19, BMC के प्रयास की WHO ने की तारीफ
Maharashtra News in Hindi

सक्रिय जांच से धारावी में काबू में आया कोविड-19, BMC के प्रयास की WHO ने की तारीफ
WHO ने धारावी में मामलों पर लगाम लगाने की तारीफ की है (सांकेतिक फोटो)

बृहन्मुंबई महानगरपालिका (BMC) के जी उत्तरी वार्ड की असिस्टेंट कमिश्नर किरन दिघावकर ने कहा कि नगरपालिका ने मरीजों के इंतजार, आइसोलेशन और होम क्वारंटाइन (Home Quarantine) की पारंपरिक नीति को छोड़कर सक्रिय स्क्रीनिंग (proactive screening) शुरू की.

  • Share this:
मुंबई. दुनिया के सबसे बड़े झुग्गी बस्ती इलाके (Slum Area) में से एक मुंबई (Mumbai) के धारावी (Dharavi) में कोविड-19 (Covid-19) पर लगाम लगाने की प्रयासों में WHO से मिली तारीफ के बाद स्थानीय नगरपालिका (Local Civic Body) ने कहा है कि प्राइवेट डॉक्टरों (Private Doctors) और सामुदायिक समर्थन के जरिए सक्रिय स्क्रीनिंग (Proactive Screening) ने बीमारी के खिलाफ लड़ाई में मदद की.

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के डायरेक्टर-जनरल टेडरोस एडहानोम गेब्रेयेसुस (Tedros Adhanom Ghebreyesus), ने शुक्रवार को जेनेवा (Geneva) में एक वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस (Virtual Press Conference) के दौरान कहा कि पूरी दुनिया से ऐसे कई सारे उदाहरण हैं, जिनमें देखा गया कि चाहे प्रसार बहुत सघन रहा हो लेकिन इसे नियंत्रण (under control) में लाया जा सकता है.

WHO प्रमुख ने धारावी में कोविड-19 मामलों पर लगाम लगाने के प्रयास की तारीफ की
गेब्रेयेसुस ने कहा, "और ऐसे कुछ उदाहरण इटली, स्पेन और साउथ कोरिया, और यहां तक कि धारावी हैं. जो कि महानगर मुंबई में एक बहुत घना बसा हुई इलाका है." एशिया की सबसे बड़ी झुग्गी, जिसे कभी कोविड-19 हॉटस्पॉट घोषित किया गया था, वह अपने यहां वायरस प्रसार के वक्र को समतल करने (यानि तेज प्रसार को खत्म करने) में सफल रही है.
शनिवार को बृहन्मुंबई महानगरपालिका (BMC) के जी उत्तरी वार्ड की असिस्टेंट कमिश्नर किरन दिघावकर ने कहा कि नगरपालिका ने मरीजों के इंतजार, आइसोलेशन और होम क्वारंटाइन की पारंपरिक नीति को छोड़कर सक्रिय स्क्रीनिंग शुरू की. धारावी का यह इलाका 2.5 वर्ग किमी में फैला है और इसकी जनसंख्या 227136 प्रति वर्ग किमी है.



सिर्फ धारावी में की गई 6 से 7 लाख लोगों की स्क्रीनिंग
वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, सक्रिय स्क्रीनिंग ने शुरु में ही मामले का पता लगाने, समय से इलाज और फिर से स्वस्थ होने में लोगों की मदद की. वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, धारावी में कम से कम 6 से 7 लाख लोगों की स्क्रीनिंग की गई, जबकी 14 हजार लोगों का टेस्ट किया गया और 13 हजार लोगों को इंस्टीट्यूशनल क्वारंटाइन में मुफ्त दवाओं और सामुदायिक किचन की सुविधाओं के साथ रखा गया.

नगरपालिका के जरिए किए गये प्रयासों और स्थानीय सहयोग का धारावी में मामलों के दोगुने होने की दर पर सीधा प्रभाव देखा जा सकता है. आधिकारिक आंकड़े के अनुसार अप्रैल में मामलों के दोगुना होने की दर 18 दिन थी जबकि मई में इसमें सुधार हुआ और यह 43 दिन हो गई और जून और जुलाई में क्रमश: यह 108 और 430 दिन है.

नगरपालिका ने ट्विटर पर WHO को कहा- धन्यवाद
धारावी में अब तक कोविड-19 के मामलों की कुल संख्या 2,359 है. इस समय केवल 166 मरीज उपचाराधीन हैं और 1,952 मरीजों को अब तक अस्पतालों से छुट्टी मिल चुकी है.

दिघावकर ने कहा, ‘‘धारावी की कम से कम 80 प्रतिशत जनसंख्या 450 सामुदायिक शौचालयों पर निर्भर है और प्रशासन ने एक दिन में कई बार इन शौचालयों को संक्रमण मुक्त किया.’’ नगरपालिका ने ‘मिशन धारावी’ की प्रशंसा करने के लिए डब्ल्यूएचओ को ट्विटर (WHO) पर धन्यवाद दिया. (भाषा के इनपुट सहित)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading