गणपति उत्सव पर कोरोना महामारी का असर, इस बार नहीं बैठेंगे लालबागचा राजा

कोरोना महामारी को देखते हुए लालबाग गणपति मंडल ने बुधवार को ये फैसला लिया.
कोरोना महामारी को देखते हुए लालबाग गणपति मंडल ने बुधवार को ये फैसला लिया.

महाराष्ट्र (Maharashtra) मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने सभी मंडलों को आदेश दिया था कि इस साल गणपति उत्सव (Ganesh Utsav) हर साल की तरह न मनाया जाए, क्योंकि इसमें बड़ी तादाद में लोग जमा होते हैं. साथ ही उन्होंने कहा था कि गणपति की मूर्ति की ऊंचाई 4 फीट तक ही रखी जाए.

  • Share this:
मुंबई. कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) का असर तीज-त्यौहार पर पड़ने लगा है. महाराष्ट्र के सबसे मशहूर गणपति मंडलों में शुमार लालबागचा इस बार गणपति उत्सव (Ganesh Utsav) नहीं मनाएगा. कोरोना महामारी को देखते हुए लालबागचा गणपति मंडल (Lalbaugcha Raja Mandal) ने बुधवार को ये फैसला लिया. इस बार गणेश चतुर्थी 22 अगस्त से शुरू हो रही है.

मंडल के अधिकारियों का कहना है कि गणपति की लंबाई कम नहीं की जा सकती है. अगर छोटी मूर्ति भी लाई जाती है तो बप्पा के दर्शन के लिए भी बड़ी तादाद में लोग जमा होंगे. ऐसे में लोगों की सुरक्षा का ध्यान रखते हुए इस साल न ही कोई मूर्ति होगी, न ही मूर्ति विसर्जन किया जाएगा.

गणेश उत्सव में लगाएंगे ब्लड डोनेशन कैंप, करेंगे पुलिसवालों की मदद
लालबागचा मंडल इस बार गणपति उत्सव को आरोग्य उत्सव के तौर पर मनाएगा. इसके तहत ब्लड डोनेशन कैंप लगाए जाएंगे. प्लाज्मा थेरेपी को प्रमुखता दी जाएगी. वहीं, कोरोना से मरने वाले पुलिसकर्मियों के परिवार की आर्थिक मदद भी की जाएगी.
लालबागचा राजा गणेशोत्सव मंडल के सेक्रेटरी सुधीर साल्वी ने कहा- 'इस बार गणेश उत्सव के बजाय मंडल सीएम रिलीफ फंड में दान करेगा. साथ ही एलओसी और एलएसी में शहीद हुए जवानों के परिवार की मदद की जाएगी.'





अधिकारियों का कहना है कि लालबागचा के राजा अपने भक्तों को स्वस्थ देखना चाहते हैं. ऐसे में सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखते हुए इस साल न कोई मूर्ति होगी, न ही विसर्जन किया जाएगा.

उद्धव ठाकरे ने गणेश उत्सव को लेकर ये आदेश
मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने सभी मंडलों को आदेश दिया था कि इस साल गणपति उत्सव हर साल की तरह न मनाया जाए, क्योंकि इसमें बड़ी तादाद में लोग जमा होते हैं. साथ ही उन्होंने कहा था कि गणपति की मूर्ति की ऊंचाई 4 फीट तक ही रखी जाए.

ये भी पढ़ें: मुंबई से सटे इन इलाकों में लगाया गया संपूर्ण लॉकडाउन, सिर्फ इन दुकानों को खुलने की परमिशन

बता दें कि लालबागचा का राजा मुंबई का सबसे अधिक लोकप्रिय सार्वजनिक गणेश मंडल है. लालबागचा राजा सार्वजनिक गणेशोत्सव मंडल की स्थापना साल 1934 में हुई थी. यह मुंबई के लालबाग, परेल इलाके में स्थित है. यह गणेश मंडल अपने 10 दिवसीय समारोह के दौरान लाखों लोगों को अपनी ओर आकर्षित करता है.

इस प्रसिद्ध गणपति को ‘नवसाचा गणपति’ (इच्छाओं की पूर्ति करने वाला) के रूप में भी जाना जाता है. हर वर्ष दर्शन पाने के लिए यहां करीबन 5 किलो मीटर की लंबी कतार लगती है. लालबाग के गणेश मूर्ति का विसर्जन गिरगांव चौपाटी में दसवें दिन किया जाता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज