अपना शहर चुनें

States

महाराष्ट्र : कोरोना के नए स्ट्रेन का डर, इंस्टीट्यूशनल क्वारंटीन में रहेंगे ब्रिटेन से आए कोविड-19 मरीज

यह एसओपी 25 नवंबर से 23 दिसंबर के बीच ब्रिटेन से भारत लौटे सभी यात्रियों पर लागू होगी.  (pic- AP)
यह एसओपी 25 नवंबर से 23 दिसंबर के बीच ब्रिटेन से भारत लौटे सभी यात्रियों पर लागू होगी. (pic- AP)

New strains of Coronavirus: केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोविड-19 की बीमारी के लिए जिम्मेदार सार्स-कोव-2 वायरस के नए प्रकार के सामने आने के बाद महामारी निगरानी एवं प्रतिक्रिया एसओपी जारी की.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 23, 2020, 7:46 PM IST
  • Share this:
मुंबई. कोरोना वायरस के नए प्रकार स्ट्रेन (New strains of coronavirus) को लेकर बढ़ी चिंता के बीच महाराष्ट्र सरकार (Government of Maharashtra) ने बुधवार को कहा कि ब्रिटेन से आने वाले उन यात्रियों को संस्थागत पृथकवास (इंस्टीट्यूशनल क्वारंटीन) में रखा जाएगा जिन्हें जांच में संक्रमित पाया जाएगा. सरकार के अधिकारी ने कहा कि यह केंद्र द्वारा जारी मानक परिचालन प्रक्रिया (एसओपी) के अनुरूप है. उन्होंने बताया कि नेगेटिव जांच रिपोर्ट वाले अन्य यात्रियों को गृह पृथकवास (होम क्वारंटीन) में रखा जाएगा और रोजाना जिला निगरानी अधिकारी उनसे रिपोर्ट लेंगे.

उल्लेखनीय है कि बुधवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोविड-19 की बीमारी के लिए जिम्मेदार सार्स-कोव-2 वायरस के नए प्रकार के सामने आने के बाद महामारी निगरानी एवं प्रतिक्रिया एसओपी जारी की.

इन यात्रियों पर लागू होगी यह एसओपी
यह एसओपी 25 नवंबर से 23 दिसंबर के बीच ब्रिटेन से भारत लौटे सभी यात्रियों पर लागू होगी. इसके तहत आरटी-पीसीआर जांच में जिन यात्रियों के कोविड-19 होने की पुष्टि हुई है उनकी जांच दोबारा नए वायरस के स्ट्रेन के लिए की जाएगी. केंद्र द्वारा जारी एसओपी के मुताबिक अगर यात्री में नए वायरस पाए जाते हैं तो उन यात्रियों को आगे के इलाज के लिए अन्य कोविड-19 मरीजों से अलग किया जाएगा.




14 दिन बाद दोबारा कोविड-19 जांच
नई एसओपी के मुताबिक इन मरीजों की 14 दिन बाद दोबारा कोविड-19 जांच की जाएगी. अंतरराष्ट्रीय यात्रियों से ‘एयर सुविधा’ पोर्टल पर पिछले 14 दिनों की यात्रा जानकारी भी स्व घोषित फार्म भरकर साझा करने को कहा गया है. (इनपुट भाषा से)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज