COVID-19: पुणे से लेकर औरंगाबाद तक महाराष्ट्र के कई शहरों में लगाई गई पाबंदियां- 10 खास बातें

महाराष्ट्र में लगातार बढ़ रहे हैं कोरोना के मामले

महाराष्ट्र में लगातार बढ़ रहे हैं कोरोना के मामले

Maharashtra Corona Cases: महाराष्ट्र में इससे पहले पिछले साल दो अक्टूबर को 15,000 से अधिक मामले आए थे, जिसके बाद से नए मामलों में लगातार गिरावट आ रही थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 13, 2021, 1:36 PM IST
  • Share this:
मुंबई.  देशभर में कोरोना वायरस (Coronavirus) का संक्रमण तेज़ी से फैल रहा है. खास कर महाराष्ट्र (Maharashtra) में हालात चिंताजनक हैं. यहां शुक्रवार को 15,817 नए मामले सामने आए. लगातार तीसरे दिन इस साल के अब तक के सबसे अधिक मामले सामने आए हैं. राज्य में संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 22,82,191 हो गए, जबकि बीमारी के कारण 56 नई मौत होने के साथ मरने वालों की संख्या 52,723 तक पहुंच गई. राज्य में पिछली बार पिछले साल दो अक्टूबर को 15,000 से अधिक मामले आए थे, जिसके बाद नए मामलों में गिरावट आई थी.

कोरोना संक्रमण के लगातार बढ़ रहे केस के चलते शनिवार और रविवार को औरंगाबाद में पूर्ण लॉकडाउन लगा दिया गया. औरंगाबाद जिले में कोरोना वायरस के संक्रमण मामलों की कुल संख्या 57755 है, जिनमें 5,569 केस एक्टिव हैं.

आईए एक नजर डालते हैं उन 10 बड़ी बातों पर जो इस बात के संकेत दे रहे हैं कि राज्य में हालात तेज़ी से बिगड़ रहे हैं...
केंद्र सरकार ने कहा है कि देश में फिलहाल कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित 10 में से 8 ज़िले महाराष्ट में है.
पुणे जिले में कोविड-19 के मामलों में हाल में देखी गई वृद्धि के मद्देनजर जिला प्रशासन ने स्कूलों और कॉलेजों को 31 मार्च तक बंद रखने का निर्देश दिया है. इसके साथ ही होटलों और रेस्त्रां को खुला रखने के समय में भी कटौती की गई है.
होटल और रेस्त्रांओं का परिचालन 50 प्रतिशत क्षमता के साथ करने की अनुमति होगी और उन्हें एक बोर्ड लगाना होगा, जिसमें एक समय में अधिकतम लोगों के उपस्थित होने की अनुमति संबंधी जानकारी होगी.
लोगों को रात 11 बजे से सुबह छह बजे तक बिना वजह सड़कों पर घूमने की अनुमति नहीं होगी. इसके साथ ही शादी, अंतिम संस्कार, राजनीतिक और अन्य सामाजिक कार्यक्रमों में 50 से अधिक लोगों के जमा होने पर रोक होगी.
मुंबई में पिछले जनवरी और फरवरी महीने में सामने आए कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामलों में से कम से कम 90 फीसदी ऊंची इमारतों में रहने वालों लोगों से संबंधित हैं, जबकि बाकी 10 फीसदी झुग्गी-बस्ती और चॉल में रहने वाले लोग हैं.
औरंगाबाद में कर्फ्यू शुक्रवार मध्य रात्रि से शुरू हुआ, जो सोमवार सुबह तक छह बजे तक चलेगा. जिले की नगरपालिका परिषदों, नगर पंचायतों और इन सीमाओं से बाहर तीन किलोमीटर क्षेत्र में कर्फ्यू लागू किया जाएगा. सरकारी कार्यालयों, मेडिकल स्टोर, अस्पतालों और आपातकालीन सेवाओं में लगे वाहनों को कर्फ्यू से छूट दी जाएगी.
मुंबई की मेयर किशोरी पेडनेकर ने शुक्रवार को कहा कि अगर लोग कोरोना की गाइडलाइंस की अनदेखी करेंगे और ऐसे ही मामले बढ़ते रहेंगे तो शहर में लॉकडाउन लागू हो सकता है.
महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे ने गुरुवार को कहा कि राज्य के कुछ हिस्सों में कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए सख्त लॉकडाउन लागू किए जाएंगे. इससे पहले ठाकरे ने 21 फरवरी को भी कहा था कि अगर कोविड-19 नियमों की धज्जियां उड़ाई जाती हैं, तो वर्तमान में लगाए गए प्रतिबंधों के अलावा एक सख्‍त लॉकडाउन लागू किया जाएगा.
महाराष्‍ट्र के अकोला जिले में आज रात से लॉकडाउन की घोषणा की गई है. आज रात 8 बजे से 15 मार्च की सुबह 6 बजे तक लॉकडाउन लगाया गया है. जरूरी सेवाओं को छोड़कर सब कुछ बंद करने का फैसला लिया गया है. पेट्रोल-डीजल सिर्फ अत्यावश्यक सेवा की गाड़ियों को देने का फैसला लिया गया है.
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया है कि महाराष्ट्र, केरल, पंजाब, कर्नाटक, गुजरात और तमिलनाडु से लगातार कोविड-19 के ज्यादा मामले आ रहे हैं और पिछले 24 घंटे में देश में सामने आए कुल मामलों में इन छह राज्यों की हिस्सेदारी 85.91 प्रतिशत रही.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज