महाराष्ट्र में कब खुलेंगे धार्मिक स्थल? उद्धव ठाकरे ने कहा- दिवाली बीतने दीजिए

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray)
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray)

धार्मिक स्थलों को खोलने में हो रही देरी की बात को स्वीकारते हुए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने कहा कि ऐसा चरणबद्ध तरीके से सावधानियों का ख्याल रखते हुए किया जा रहा है, ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि राज्य में कोरोना वायरस (Covid-19) महामारी की पहले जैसी स्थिति न हो.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 10, 2020, 2:02 PM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने संकेत दिए हैं कि दिवाली के बाद धार्मिक स्थल दोबारा खोले जाएंगे. मार्च में कोरोना वायरस महामारी (Covid-19 Pandemic) के चलते लगाए गए लॉकडाउन (Lockdown) से धार्मिक स्थल बंद हैं. ठाकरे ने कहा, “लोग पूछते रहे हैं कि मंदिर फिर से कब खुलेंगे? हां, धार्मिक स्थल खोले जाएंगे, लेकिन एक बार दीवाली बीत जाने दीजिए. हम इस संदर्भ में मानक संचालन प्रक्रियाओं (एसओपी) का निर्माण करेंगे.”

धार्मिक स्थलों को खोलने में हो रही देरी की बात को स्वीकारते हुए उन्होंने कहा कि ऐसा चरणबद्ध तरीके से सावधानियों का ख्याल रखते हुए किया जा रहा है, ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि राज्य में कोरोनावायरस महामारी की पहले जैसी स्थिति न हो.

Coronavirus: 24 घंटे में मिले कोरोना के 38073 हजार नए मरीज, 448 मौतें, अब तक 85.91 लाख केस



सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा कि इस देरी को लेकर कुछ लोग उन्हें दोषी भी ठहरा रहे हैं. वह सारा दोष अपने ऊपर लेने को तैयार हैं, क्योंकि मामला लोगों की सेहत और जिंदगी से जुड़ा हुआ है. इस मुद्दे को लेकर विपक्षी भारतीय जनता पार्टी भी सत्तारूढ़ महा विकास अघाड़ी पर यह कहते हुए पिछले कुछ महीनों से निशाना साध जा रही है कि पार्टी ने अन्य गतिविधियों के दोबारा शुरू किए जाने की तो अनुमति दे दी है, लेकिन धार्मिक स्थलों को अभी भी बंद कर रखा है.
ठाकरे ने कहा कि पूजा स्थलों पर मास्क पहनना अनिवार्य होगा. उन्होंने लोगों से सार्वजनिक स्थानों पर पटाखे फोड़ने से बचने की भी अपील की. उन्होंने कहा, "मैं इस पर प्रतिबंध लागू नहीं करना चाहता. हमें एक-दूसरे पर विश्वास और भरोसा रखना चाहिए."



बता दें कि महाराष्ट्र में सोमवार को 3277 नए संक्रमित मिले. इसी के साथ मरीजों का आंकड़ा अब 17 लाख 23 हजार 135 हो गया है. स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, अभी 10 लाख लोग होम क्वारैंटाइन और 7586 लोग इंस्टीट्यूशनल क्वारैंटाइन में हैं. टेक्निकल प्रॉब्लम का हवाला देते हुए राज्य सरकार ने सोमवार को होने वाली मौतों और डिस्चार्ज होने वाले मरीजों का आंकड़ा नहीं जारी किया.(PTI इनपुट)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज