COVID-19 in Maharashtra: मुबंई के 62 प्राइवेट सेंटर्स में दो दिन बाद दोबारा शुरू हुआ कोरोना वैक्सीनेशन

मुंबई में करीब 40 हजार से 50 हजार लोगों का रोजाना वैक्सीनेशन किया जा रहा है. (PTI)

मुंबई में करीब 40 हजार से 50 हजार लोगों का रोजाना वैक्सीनेशन किया जा रहा है. (PTI)

Covid in Maharashtra: मुंबई में 49 नागरिक और सरकार द्वारा संचालित संस्थानों को वैक्सीन सेंटर के रूप में नामित किया गया है, जबकि 71 निजी अस्पतालों में कोरोना के टीकाकरण का इंतजाम किया गया था. ये 71 सेंटर दो दिन पहले वैक्सीन की कमी के चलते बंद हो गए थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 13, 2021, 12:43 AM IST
  • Share this:
मुंबई. देश में महाराष्ट्र कोरोना महामारी (COVID-19 Pandemic) की दोहरी मार झेल रहा है. एक तरफ लगातार कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं, जिससे राज्य में दोबारा लॉकडाउन (Lockdown) के हालात पैदा हो गए हैं. दूसरी ओर, मुंबई में वैक्सीन की कमी (Vaccine Shortage) के चलते कई वैक्सीनेशन सेंटर बंद हो गए थे. अब खबर आ रही है कि इन सेंटरों पर वैक्सीन मुहैया करा दी गई है. इसके बाद कुल 71 प्राइवेट वैक्सीनेशन सेंटर में से 62 में सोमवार से वैक्सीनेशन का काम शुरू हो गया है.

मुंबई में 49 नागरिक और सरकार द्वारा संचालित संस्थानों को वैक्सीन सेंटर के रूप में नामित किया गया है, जबकि 71 निजी अस्पतालों में कोरोना के टीकाकरण का इंतजाम किया गया था. ये 71 सेंटर दो दिन पहले वैक्सीन की कमी के चलते बंद हो गए थे.

Maharashtra Cabinet Meeting: महाराष्ट्र में लॉकडाउन लगाना चाहते हैं उद्धव ठाकरे, कोविड टास्क फोर्स ने दिए ये अहम सुझाव

Youtube Video

बीएमसी ने एक बयान में कहा, '9 अप्रैल की देर रात 99,000 खुराक मिली. 10 अप्रैल को 1,34,970 खुराक मिली. बीएमसी को पिछले दो दिनों में कुल 2,33,970 खुराक मुहैया कराई गई है. नागरिक निकाय ने निजी अस्पतालों को कुछ स्टॉक दिए हैं. 12 अप्रैल से 71 निजी अस्पतालों में से 62 में टीकाकरण शुरू हो गया.' बाकी सेंटर्स में भी आज शाम तक वैक्सीन की डोज पहुंचा दी जाएगी.

मुंबई में करीब 40 हजार से 50 हजार लोगों का रोजाना वैक्सीनेशन किया जा रहा है. 71 प्राइवेट सेंटर्स में 10 अप्रैल और 11 अप्रैल को टीके की कमी के कारण काम बंद हो गया था. हालांकि, सरकारी अस्पतालों में वैक्सीनेशन जारी रहा. बृहन्मुंबई म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन (BMC) ने घोषणा की थी कि नागरिक अस्पतालों को वैक्सीन की पर्याप्त खुराक मिलने के बाद ही निजी अस्पतालों में दोबारा टीकाकरण का काम शुरू किया जाएगा.

महाराष्ट्र के स्वास्थय मंत्री राजेश टोपे ने हाल ही में कहा था कि राज्य में वैक्सीन की भारी कमी है, बावजूद इसके केंद्र सरकार ने राज्य को वैक्सीन की सिर्फ साढ़े सात लाख डोज ही दी हैं. टोपे ने दावा किया कि जबकि उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, गुजरात और हरियाणा जैसे राज्यों को इससे ज्यादा वैक्सीन की डोज दी गई हैं.



राजेश टोपे ने कहा, ‘महाराष्ट्र के साथ भेदभाव हो रहा है, वो भी ऐसे समय जब महाराष्ट्र में कोरोना सबसे तेजी से बढ़ रहा है और हमारे पास एक्टिव मरीजों की संख्या भी ज्यादा है. हमें कम वैक्सीन क्यों दी जा रही हैं?’

महाराष्ट्र में कोरोना से बेहद बुरे हालात! बेड पड़ गए कम, मरीजों को कुर्सी पर ही चढ़ाई जा रही ऑक्सिजन

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, देश में कोरोना वायरस मामलों का 72.23 फीसदी पांच राज्यों महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश और केरल में है. महाराष्ट्र एक बार फिर से कोरोना मामलों में 10 लाख की संख्या को पार कर गया है. देश के कुल एक्टिव केस का 45.65 फीसदी 10 जिलों पुणे, मुंबई, ठाणे, नागपुर, बेंगलुरु शहरी, नासिक, दिल्ली, रायपुर, दुर्ग, औरंगाबाद में है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज