Cyclone Tauktae: बॉम्बे हाई के पास समुद्र में मिले 14 शव, गुजरात में 33 लोगों की मौत

  (AP Photo/Rafiq Maqbool)

(AP Photo/Rafiq Maqbool)

Cyclone Tauktae Updates: बजरे चक्रवात टाउते के गुजरात तट से टकराने से कुछ घंटे पहले मुंबई के पास अरब सागर में फंस गए थे.

  • Share this:

मुंबई. चक्रवाती तूफान टाउते (Cyclone Tauktae) के कारण बजरा पी-350 डूबने के बाद बॉम्बे हाई से समुद्र में 14 शव बरामद किए गए. मिली जानकारी के अनुसार अरब सागर से 14 शव बरामद किए गए हैं. ये लोग बजरा पी-305 पर सवार थे जो चक्रवाती तूफान टाउते के दौरान डूब गया था. अधिकारियों ने बताया कि मुंबई में पी-305 नौका पर सवार 78 लापता लोगों की तलाश अभियान अभी भी जारी है. दूसरी ओर गुजरात में तूफान के चलते होने वाली मौतों की संख्या बढ़कर 33 हो गई है.

नौसेना की ओर से बुधवार को बताया गया कि बेहद खराब मौसम से जूझते हुए उसके जवानों ने बजरा पी305 पर मौजूद 273 लोगों में से अब तक 184 को बचा लिया है. उसने बताया कि दो अन्य बजरों तथा एक ऑयल रिग पर मौजूद सभी लोग सुरक्षित हैं.

उल्लेखनीय है कि ये बजरे चक्रवात टाउते के गुजरात तट से टकराने से कुछ घंटे पहले मुंबई के पास अरब सागर में फंस गए थे. नौसेना के एक प्रवक्ता ने बताया, ‘बुधवार सुबह तक, पी305 पर मौजूद 184 कर्मियों को बचा लिया गया है. आईएनएस कोच्चि और आईएनएस कोलकाता इन लोगों को लेकर मुंबई बंदरगाह लौट रहे हैं.’ प्रवक्ता ने कहा, ‘आईएनएस तेग, आईएनएस बेतवा, आईएनएस ब्यास, पी81 विमान और हेलीकॉप्टरों की मदद से तलाश एवं बचाव अभियान जारी है.’

पी305 से बचाए गए लोगों में से 125 को लेकर मुंबई लौटा आईएनएस कोच्चि
नौसेना का युद्धपोत आईएनएस कोच्चि बजरे पी305 से बचाए गए लोगों में से 125 को लेकर बुधवार को मुंबई पहुंचा. यह बजरा चक्रवात टाउते में फंसने के कारण अरब सागर में डूब गया था. बजरे पर 273 लोग मौजूद थे जिसमें से नौसेना ने अब तक 184 लोगों को बचा लिया है.


आईएनएस कोच्चि के कमांडिंग ऑफिसर कैप्टन सचिन सेक्विरा ने संवाददाताओं को बताया, ‘‘हमारा पोत पी305 से अब तक बचाए गए 184 लोगों में से 125 को लेकर लौटा है.’ उन्होंने बताया, ‘समुद्र उफान पर है और हवा 90-100 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से चल रही है. समुद्र में नौ से दस मीटर ऊंची लहरें उठी रही हैं. ऐसे में तलाश एवं बचाव अभियान के लिहाज से परिस्थितियां कठिन हैं.’ बजरे पर मौजूद लोगों को बचाने के लिए आईएनएस कोच्चि मुंबई से सोमवार को रवाना हुआ था.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज