सचिन वाझे पर बवाल, बीजेपी का शिवसेना पर बड़ा हमला, नौकरी वापस क्यों दी गई?

देवेंद्र फडणवीस,

देवेंद्र फडणवीस,

देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि मैंने वाझे की पूरी रिपोर्ट पढ़ी थी. वाझे को शिवसेना ने अहम विभाग दिया. वाझे के शिवसेना नेताओं से कारोबारी रिश्ते रहे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 17, 2021, 7:14 PM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) ने मुंबई के पुलिस अधिकारी सचिन वाझे (Sachin Vaze) के मामले पर शिवसेना पर कई आरोप लगाए हैं. फडणवीस ने कहा कि सचिन वाझे को लेकर शिवसेना ने दबाव बनाया था. उन्होंने कहा कि मुंबई में राजनीति का अपराधीकरण हुआ है. फडणवीस ने कहा कि मैंने अपने कार्यकाल में वाझे की नौकरी बहाल नहीं की थी, लेकिन 2020 में शिवसेना ने कोविड-19 का बहाना बनाकर वाझे को वापस बहाल कर दिया. फडणवीस ने कहा कि मैंने वाझे की पूरी रिपोर्ट पढ़ी थी. वाझे को शिवसेना ने अहम विभाग दिया. उनके शिवसेना नेताओं से कारोबारी रिश्ते रहे. मुंबई पुलिस में कमिश्नर के बाद वाझे का पद महत्वपूर्ण था.

फडणवीस ने कहा कि वह मुख्यमंत्री की ब्रीफिंग जैसे कई अहम मौकों पर नजर आते थे. उन्हें सीआईयू के प्रमुख के पद पर नहीं, बल्कि वसूली के लिए बैठाया गया था. पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि मुंबई के पॉश इलाके में जिलेटिन की छड़ों की गाड़ी को साजिश के तहत वहां खड़ा किया गया था, जिसके बाद मनसुख हिरेन को इसमें फंसाने की कोशिश की गई. फडणवीस ने कहा कि इस गाड़ी को कुछ महीने तक खुद वाझे ने इस्तेमाल किया था. फडणवीस ने आरोप लगाया कि सचिन वाझे ने इस मामले में साजिश के तहत मनसुख हिरेन से पूछताछ की.

ये भी पढ़ें- गाजियाबाद में 10 मई तक धारा 144 लागू, प्रशासन बरतेगा सख्ती



मनसुख हिरेन की मौत पर फडणवीस का बड़ा खुलासा
देवेंद्र फडणवीस ने हिरेन की मौत को लेकर बड़ा दावा करते हुए कहा कि मनसुख हिरेन की लाश को हाई टाइड में फेंकने की कोशिश की गई लेकिन ऐसा हो नहीं पाया. हाई टाइड की जगह लो टाइड आ गया जिसके चलते उनकी लाश मिल गई. फडणवीस ने कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में गला घोंटने की बात कही गई है, वहीं कुछ रिपोर्ट्स में कहा गया कि हिरेन की मौत डूबने से हुई है.

फडणवीस ने कहा कि मनसुख की मौत का मामला एटीएस के पास है, एटीएस को जैसी कार्रवाई करनी चाहिए वैसी हो नहीं रही है, एटीएस ने जांच में देरी की है. उन्होंने कहा कि हमारी मांग है कि हत्या का मामला एनआईए को टेकओवर कर लेना चाहिए. फडणवीस ने कहा कि इस पूरे घटनाक्रम को वाझे अंजाम नहीं दे सकता ऐसे में इसमें कौन कौन शामिल है इसकी जांच होनी चाहिए.

फडणवीस ने कहा कि ये पुलिस की नहीं सरकार की असफलता है क्योंकि उन्होंने ऐसे व्यक्ति को पद पर बैठाया जिसका अतीत पहले ही संशयपूर्ण रहा है. फडणवीस ने कहा कि इस पूरे मामले की तह तक जाना होगा और जिस लाभ के लिए इस व्यक्ति को पद पर बैठाया गया उसकी भी पूरी जांच होनी चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज