Whatsapp ग्रुप पर एक्टिव ड्रग माफिया गिरोह का भंडाफोड़, ऐसे करते थे डीलिंग

Vivek Gupta | News18Hindi
Updated: August 29, 2019, 2:46 PM IST
Whatsapp ग्रुप पर एक्टिव ड्रग माफिया गिरोह का भंडाफोड़, ऐसे करते थे डीलिंग
एंटी नारकोटिक्स सेल के डीसीपी शिवदीप लांडे के मुताबिक, हमने एक आरोपी को गिरफ्तार किया है, जो ड्रग्स तस्कर है. वो WhatsApp ग्रुप बना कर मुंबई के बड़े-बड़े कॉलेजों में ड्रग्स सप्लाई करता था.

एंटी नारकोटिक्स सेल के डीसीपी शिवदीप लांडे के मुताबिक, हमने एक आरोपी को गिरफ्तार किया है, जो ड्रग्स तस्कर है. वो WhatsApp ग्रुप बना कर मुंबई के बड़े-बड़े कॉलेजों में ड्रग्स सप्लाई करता था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 29, 2019, 2:46 PM IST
  • Share this:
आज के समय में WhatsApp ने सबकी जिंदगी को काफी आसान बना दिया है. WhatsApp पर ग्रुप बनाईए और फिर एक साथ इस ग्रुप के जरिए जरिए लोगों से जुड़कर बातें कीजिए. लेकिन अब यह WhatsApp के इस फीचर का फायदा ड्रग्स माफिया भी उठा रहे हैं. दरअसल मुंबई पुलिस की एंटी नारकोटिक्स सेल ने एक बड़े मामले का खुलासा किया है, जिसमें ड्रग्स का पूरा खेल WhatsApp ग्रुप पर चलता था. और इस ग्रुप में मुंबई के नामचीन और बड़े कॉलेजों के छात्र-छात्राएं शामिल हैं.

जरुर पढ़ें: ड्राइवर की नौकरी के मामले में बेंगलूरू, मुंबई सबसे आगे

मुंबई पुलिस का मानना है कि इस गैंग ने WhatsApp ग्रुप इसलिए बनाया था कि जिसको भी जितनी भी ड्रग्स चाहिए वो इस ग्रुप में मांग करता था और इसी ग्रुप में ड्रग्स के पैसे और डिलीवरी की जगह तय हो जाती थी.मुंबई पुलिस की एंटी नारकोटिक्स सेल के मुताबिक मुंबई में कई ऐसे WhatsApp ग्रुप बन गए हैं जो ड्रग्स का काला खेल, खेल रहे हैं. मुंबई पुलिस ने एक ऐसे ड्रग्स तस्कर को गिरफ्तार किया है जो बड़े-बड़े कॉलेजों में WhatsApp ग्रुप बनाकर लड़के-लड़कियों को ड्रग्स सप्लाई करता था.

एक आरोपी गिरफ्तार

एंटी नारकोटिक्स सेल के डीसीपी शिवदीप लांडे के मुताबिक, हमने एक आरोपी को गिरफ्तार किया है, जो ड्रग्स तस्कर है. वो WhatsApp ग्रुप बना कर मुंबई के बड़े-बड़े कॉलेजों में ड्रग्स सप्लाई करता था. उन्होंने बताया कि ड्रग्स की मांग उसी ग्रुप में होती थी और WhatsApp लोकेशन शेयर कर के ही ड्रग्स की सप्लाई भी होती थी.

WhatsApp पर ही होती थी पूरी डील
मुंबई पुलिस के अनुसार WhatsApp पर ही पूरी डील होती थी. डील और लोकेशन शेयर होने के बाद सभी लोग वो मैसेज डिलीट कर देते थे, जिससे कोई सबूत न रह जाए. इस मामले से जुड़ा मास्टरमाइंड फरार है. हमें शक है कि यह मास्टरमाइंड मुंबई के कई बड़े कॉलेजों में गैंग चलाता है और बड़े-बड़े घरों के लड़के-लड़कियों को ड्रग्स सप्लाई करता है. एंटी नाक्रोटिक सेल के डीसीपी शिवदीप लांडे के मुताबिक, यह सभी लोग मैसेज को डिलीट कर देते थे, पर हमने सारे मैसेज रिकवर कर लिए हैं. उन्होंने कहा कि लेकिन Whattapp पर इस तरह के गैंग का यह पहला मामला है.
Loading...

ग्रुप से मिले लड़के-लड़कियों के नम्बर
मुंबई पुलिस अब WhatsApp ग्रुप में मिले लड़के-लड़कियों के फोन नंबर निकाल कर, उनके माता-पिता को पुलिस के सामने पेश करने की कोशिश कर रही है, ताकी पुलिस यह बता सके कि उनके बच्चे जो बड़े-बड़े कॉलेजों पर पढ़ते हैं, कैसे ड्रग्स के चक्कर में फंस गए हैं. और इस मामले के मास्टरमाइंड को पकड़ने के लिए पुलिस की छापेमारी जारी है.

मुंबई: अवैध आश्रम तोड़ने पहुंची पुलिस तो समाधि पर बैठ गए बाबा 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 29, 2019, 2:44 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...