होम /न्यूज /महाराष्ट्र /Earthquake: महाराष्ट्र के नासिक के पास आया 3.6 तीव्रता का भूकंप

Earthquake: महाराष्ट्र के नासिक के पास आया 3.6 तीव्रता का भूकंप

नासिक के करीब आया रिक्टर स्केल पर 3.6 तीव्रता का भूकंप.  (News18)

नासिक के करीब आया रिक्टर स्केल पर 3.6 तीव्रता का भूकंप. (News18)

Nashik earthquake: नासिक से 89 किलोमीटर पश्चिम में सुबह आज करीब 4 बजे एक हल्का भूकंप महसूस किया गया.

हाइलाइट्स

बुधवार तड़के महाराष्ट्र के नासिक के पास रिक्टर स्केल पर 3.6 तीव्रता का भूकंप महसूस किया गया.
नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी (एनसीएस) ने यह जानकारी दी है.
नासिक से 89 किलोमीटर पश्चिम में सुबह करीब 4 बजे आए भूकंप गहराई जमीन से 5 किमी. नीचे थी.

नासिक. बुधवार तड़के महाराष्ट्र के नासिक के पास रिक्टर स्केल पर 3.6 तीव्रता का भूकंप महसूस किया गया, नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी (एनसीएस) ने यह जानकारी दी. एनसीएस के मुताबिक नासिक से 89 किलोमीटर पश्चिम में सुबह करीब 4 बजे धरती की सतह के नीचे टेक्टोनिक प्लेटों की हलचल महसूस की गई. भूकंप की गहराई जमीन से 5 किमी नीचे थी. राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र ने एक ट्वीट करके कहा कि ‘महाराष्ट्र के नासिक से 89 किमी पश्चिम में आज सुबह करीब 04:04 बजे 3.6 तीव्रता का भूकंप आया. भूकंप की गहराई जमीन से 5 किमी नीचे थी.’

गौरतलब है कि इंडोनेशिया के जावा द्वीप पर सोमवार को आए भूकंप से मरने वालों की संख्या मंगलवार को बढ़कर 268 हो गई, क्योंकि ढही इमारतों के मलबों से और शव निकाले गए जबकि 151 लोग अभी भी लापता हैं. बताया गया है कि सियांजुर शहर के पास सोमवार दोपहर आए 5.6 तीव्रता के भूकंप में अन्य 1,083 लोग घायल हो गए. भूकंप के चलते ग्रामीण क्षेत्र के आसपास की इमारतें ढह गईं. अधिकारियों ने बताया कि मारे गए लोगों के अलावा 300 से अधिक लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं और कम से कम 600 से अधिक लोगों को मामूली चोटें आईं हैं. राष्ट्रीय तलाश एवं बचाव एजेंसी ने बताया कि सियांजुर के उत्तर-पश्चिम स्थित सिजेडिल गांव में भूकंप से भूस्खलन हुआ, जिससे सड़कें अवरुद्ध हो गईं और कई घर ढह गए. ऐसी जगहों पर तलाशी अभियान को आगे बढ़ाया जा रहा है, जहां संदेह है कि अभी भी हताहत लोग हो सकते हैं.

कारगिल में भूकंप के झटकों ने डराया, रिक्टर स्केल पर इतनी मापी गई तीव्रता

बचाव टीम दूर-दराज के इलाकों में भी पहुंचने की कोशिश कर रही है. जबकि अस्पतालों में मरीजों की भीड़ है. मरीज बाहर लगे टेंट में स्ट्रेचर पर लेटे हुए आगे के इलाज का इंतजार कर रहे हैं. बताया जा रहा है कि मरने वालों में कई पब्लिक स्कूलों के छात्र हैं जो दिन की अपनी कक्षाएं समाप्त करने के बाद मदरसों में अतिरिक्त कक्षाएं ले रहे थे. शुरुआत में क्षतिग्रस्त सड़कों और पुलों, बिजली की आपूर्ति बाधित होने और भारी कंक्रीट मलबे को हटाने के लिए बड़े उपकरणों की कमी के कारण बचाव कार्य बाधित हुआ. मंगलवार तक, बिजली आपूर्ति और संचार व्यवस्था में सुधार शुरू हुआ.

(with agency inputs)

Tags: Earthquake, Earthquake News, Maharashtra, Nashik

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें