अपना शहर चुनें

States

सुरक्षा मुहैया कराने वाली कंपनी के खिलाफ मामले में शिवसेना विधायक के ठिकानों पर ED के छापे

सरनाईक महाराष्ट्र विधानसभा में ओवला-माजीवाड़ा निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं. (Photo Credit-Twitter/@PratapSarnaik)
सरनाईक महाराष्ट्र विधानसभा में ओवला-माजीवाड़ा निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं. (Photo Credit-Twitter/@PratapSarnaik)

विधायक उस समय सुर्खियों में आए थे, जब उन्होंने आत्महत्या के लिए कथित तौर पर उकसाने के 2018 के मामले को फिर से खोलने की मांग करते हुए एक पत्र लिखा था. उसी मामले में हाल में रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी को मुंबई पुलिस ने गिरफ्तार किया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 24, 2020, 11:32 PM IST
  • Share this:
मुंबई. प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) ने सुरक्षा मुहैया कराने वाली एक कंपनी तथा अन्य लोगों के खिलाफ धनशोधन मामले (Money Laundering) की जांच के सिलसिले में मंगलवार को महाराष्ट्र (Maharashtra) में शिवसेना के विधायक प्रताप सरनाईक (Shivsena MLA Pratap Sarnaik) के परिसरों पर छापे मारे. आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी. विधायक की पार्टी ने छापेमारी को "राजनीतिक प्रतिशोध" करार दिया और कहा कि महाराष्ट्र सरकार या उसके नेता किसी के दबाव के आगे नहीं झुकेंगे.

सूत्रों ने बताया कि केन्द्रीय एजेंसी ने मुंबई (Mumbai) और ठाणे (Thane) में 10 ठिकानों पर छापेमारी की जो देर शाम तक जारी थी. ईडी की कार्रवाई सुबह के समय शुरू हुई और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (Central Reserve Police Force) के जवान एजेंसी के अधिकारियों की मदद करते देखे गए. आधिकारिक सूत्र ने कहा, ‘‘ये छापे ‘टॉप्स ग्रुप’ (सुरक्षा मुहैया कराने वाली एक कंपनी) के प्रवर्तकों और संबंधित लोगों तथा कुछ नेताओं के यहां मारे जा रहे हैं.’’

एजेंसी के अधिकारियों ने विधायक के बड़े पुत्र विहंग को अपराह्न लगभग तीन बजे बल्लार्ड स्थित ईडी कार्यालय लाकर उनसे पूछताछ की. सूत्रों ने कहा कि ईडी उनका बयान दर्ज कर रही है. सूत्रों ने बताया कि यह जांच कुछ संस्थाओं द्वारा विदेशी लेन-देन से संबंधित है. 56 साल के सरनाईक महाराष्ट्र विधानसभा में ओवला-माजीवाड़ा निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं.



ये भी पढ़ें- कांग्रेस पार्टी को जल्द मिल सकता है फुल टाइम अध्यक्ष, CWC चुनाव की तैयारी अंतिम चरण में
विधायक ने 2018 के आत्महत्या के मामले को दोबारा खोलने के लिए लिखा था पत्र
विधायक उस समय सुर्खियों में आए थे, जब उन्होंने आत्महत्या के लिए कथित तौर पर उकसाने के 2018 के मामले को फिर से खोलने की मांग करते हुए एक पत्र लिखा था. उसी मामले में हाल में रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी को मुंबई पुलिस ने गिरफ्तार किया था.

गोस्वामी फिलहाल जमानत पर बाहर हैं.

सरनाईक ने अभिनेत्री कंगना रनौत के खिलाफ कानूनी कार्रवाई के लिए महाराष्ट्र विधानसभा में एक सर्वसम्मत प्रस्ताव पारित करने की भी मांग की थी.

ये भी पढ़ें- Google Pay से अब फ्री में नही होगा मनी ट्रांसफर, यूजर्स को देना पड़ेगा चार्ज

संजय राउत ने ईडी की कार्रवाई को राजनीतिक प्रतिशोध बताया
शिवसेना सांसद संजय राउत ने संवाददाताओं से कहा, "यह कार्रवाई (ईडी के छापे) निश्चित रूप से राजनीतिक प्रतिशोध है. ईडी या अन्य एजेंसियों को किसी राजनीतिक दल की शाखा के तौर पर काम नहीं करना चाहिए." उन्होंने कहा कि सरनाईक की संपत्तियों पर उस समय छापे मारे गए जब वह घर पर नहीं थे. उन्होंने कहा कि चाहे कितने भी नोटिस जारी किए जाएं, महाराष्ट्र में केवल सच्चाई ही सामने आएगी.



राउत ने यह भी कहा कि किसी एजेंसी द्वारा जांच पर कोई प्रतिबंध नहीं है और सबूत होने पर वह कार्रवाई कर सकती है. ‘‘लेकिन, आप (राज्य) सरकार से जुड़े लोगों को मानसिक रूप से परेशान करना चाहते हैं. ऐसी कार्रवाइयों का आप पर ही उलटा असर होगा. और मुझे लगता है कि वह समय नजदीक आ रहा है."
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज