Home /News /maharashtra /

अनिल देशमुख की बढ़ी मुश्किलें, ED ने 7,000 पन्नों की चार्जशीट में बनाया मुख्य आरोपी

अनिल देशमुख की बढ़ी मुश्किलें, ED ने 7,000 पन्नों की चार्जशीट में बनाया मुख्य आरोपी

महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख की फाइट फोटो

महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख की फाइट फोटो

केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) द्वारा इस साल 21 अप्रैल को राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के वरिष्ठ नेता और महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख (Former Maharashtra Home Minister Anil Deshmukh) के खिलाफ भ्रष्टाचार और आधिकारिक पद के दुरुपयोग के आरोप में प्राथमिकी दर्ज किए जाने के बाद ईडी ने देशमुख और उनके सहयोगियों के खिलाफ जांच शुरू की थी.

अधिक पढ़ें ...

    मुंबई, प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) ने बुधवार को धनशोधन के एक मामले में महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख (Former Maharashtra Home Minister Anil Deshmukh) के खिलाफ पूरक आरोपपत्र दाखिल किया. जांच एजेंसी ने यहां धनशोधन निषेध अधिनियम (PMLA) से संबंधित मामलों की सुनवाई से जुड़ी एक विशेष अदालत के समक्ष 7,000 पन्नों का आरोपपत्र दायर किया, जिसमें देशमुख के बेटों को भी आरोपी बनाया गया है. ED के पूरक आरोपपत्र में महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख को मुख्य आरोपी बताया गया है.

    ईडी ने इससे पहले देशमुख के निजी सचिव (अतिरिक्त जिलाधिकारी स्तर के अधिकारी) संजीव पलांदे और निजी सहायक कुंदन शिंदे समेत 14 आरोपियों के खिलाफ आरोपपत्र दाखिल किया था. ईडी ने देशमुख को इस साल एक नवंबर को संबंधित मामले में गिरफ्तार किया था और फिलहाल वह न्यायिक हिरासत में हैं.

    CBI ने दर्ज किया था मामला
    केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) द्वारा इस साल 21 अप्रैल को राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के वरिष्ठ नेता के खिलाफ भ्रष्टाचार और आधिकारिक पद के दुरुपयोग के आरोप में प्राथमिकी दर्ज किए जाने के बाद ईडी ने देशमुख और उनके सहयोगियों के खिलाफ जांच शुरू की थी.

    ईडी का मामला यह है कि राज्य के गृह मंत्री के रूप में देशमुख ने कथित तौर पर अपने पद का दुरुपयोग किया और पुलिस अधिकारी सचिन वाजे के माध्यम से मुंबई के कई बार से 4.70 करोड़ रुपये की वसूली की थी. वाजे को ‘एंटीलिया’ बम और मनसुख हिरन की हत्या के मामलों में गिरफ्तारी के बाद सेवा से बर्खास्त कर दिया गया था.

    धनशोधन का यह मामला देशमुख परिवार के नियंत्रण वाले शैक्षणिक ट्रस्ट नागपुर स्थित श्री साईं शिक्षण संस्थान से संबंधित है. धनशोधन रोधी एजेंसी के अनुसार, पलांदे और शिंदे दोनों ने बेहिसाबी धन के प्रसार और शोधन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी. इस साल की शुरुआत में राज्य के गृह मंत्री पद से इस्तीफा देने वाले देशमुख ने अपने खिलाफ लगे आरोपों से बार-बार इनकार किया है.

    Tags: Anil deshmukh, Directorate of Enforcement, ED, Maharashtra, NCP

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर