लाइव टीवी

Exclusive: RSS ने नितिन गडकरी को सौंपा शिवसेना से विवाद सुलझाने का जिम्मा, 7-8 नवंबर को शपथ लेगी नई सरकार

News18Hindi
Updated: November 6, 2019, 8:25 AM IST
Exclusive: RSS ने नितिन गडकरी को सौंपा शिवसेना से विवाद सुलझाने का जिम्मा, 7-8 नवंबर को शपथ लेगी नई सरकार
महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर सहयोगी दलों के बीच गतिरोध जारी है. 24 अक्टूबर को घोषित विधानसभा चुनावों के नतीजों में भाजपा ने 105 सीटें, सेना ने 56, एनसीपी ने 54 और कांग्रेस ने 44 सीटें जीतीं.

महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर सहयोगी दलों के बीच गतिरोध जारी है. 24 अक्टूबर को घोषित विधानसभा चुनावों के नतीजों में भाजपा ने 105 सीटें, सेना ने 56, एनसीपी ने 54 और कांग्रेस ने 44 सीटें जीतीं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 6, 2019, 8:25 AM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र  (Maharashtra) के विधानसभा चुनाव (Assembly election ) नतीजे आने के 12 दिन बाद भी सरकार बनाने को लेकर भारतीय जनता पार्टी (BJP) और शिवसेना (Shiv sena) में गतिरोध जारी है. एक ओर शिवसेना के नेता और सामना के संपादक संजय राउत लगातार कह रहे हैं कि राज्य में उनकी पार्टी का सीएम होगा, तो वहीं बीजेपी अपने पुराने दावे पर अडिग है कि सरकार देवेंद्र फडणवीस (Devendra fadanvis) की अगुवाई में ही बनेगी.

इन सबके बीच मंगलवार को फडणवीस ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के सरसंघचालक मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) से मुलाकात की. माना जा रहा है कि इस बैठक में राज्य में सरकार के गठन को लेकर चर्चा हुई. News18 को मिली एक्सक्लूजिव जानकारी के अनुसार राज्य में 7 या 8 नवंबर को नई सरकार शपथ ले सकती है.

गडकरी को मिल सकती है हालात संभालने की कमान
वहीं महाराष्ट्र में मौजूदा हालात को संभालने के लिए आरएसएस केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी को कमान सौंप सकता है.अटकलें लगाई जा रही हैं कि नितिन गडकरी को शिवसेना और बीजेपी को एक मंच पर साथ लाने आगे भेजा जा सकता है.

सूत्रों की मानें तो बीजेपी भी महाराष्ट्र सरीखे बड़े राज्य में कोई खतरा मोल लेने की स्थिति में नहीं है.  बताया जा रहा है कि फड़णवीस ने वर्तमान स्थिति और संभावित स्थितियों के बारे में सरसंघचालक को जानकारी दी. आरएसएस ने फड़णवीस को जल्द ही गतिरोध खत्म करने और राम मंदिर के फैसले से पहले सरकार बनाने का दावा पेश करने का सुझाव दिया है. आरएसएस चाहती है कि राम मंदिर पर फैसले से पहले राज्य में स्थिर सरकार हो.

24 घंटे का अल्टिमेटम
इस बीच कहा जा रहा है कि BJP की ओर से बातचीत की पहल बंद होने के बाद शिवसेना ने 48 घंटे और इंतज़ार करने का फैसला किया है. जिसके बाद महाराष्ट्र में सरकार के गठन पर शिवसेना प्लान B पर काम शुरू कर सकती है. जिसके तहत शिवसेना और NCP मिलकर सरकार बना सकते हैं, जबकि कांग्रेस इस सरकार को बाहर से समर्थन दे सकती है.
Loading...

विधानसभा की मौजूदा तस्वीर
महाराष्ट्र में 21 अक्टूबर को आए विधानसभा चुनाव के नतीजों में किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं मिला. 288 सीटों वाले विधानसभा में बीजेपी को 105, शिवसेना को 56, कांग्रेस को 44 और एनसीपी को 54 सीटें मिली हैं. वहीं, 13 निर्दलीय भी जीत हासिल कर विधानसभा पहुंचे हैं. सरकार बनाने के लिए किसी भी पार्टी को 145 विधायक चाहिए. शिवसेना और बीजेपी ने साथ मिलकर चुनाव लड़ा था, लेकिन अब सरकार बनाने को लेकर खींचतान चल रही है.

इनपुट- विनय देशपाण्डे

यह भी पढ़ें: महाराष्ट्र में सरकार बनाने पर गतिरोध के बीच फड़णवीस ने भागवत से की मुलाकात

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए महाराष्ट्र से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 6, 2019, 6:37 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...