चार बहुओं ने तोड़ी परंपरा, कहा- सास होकर भी हमें मां का प्यार दिया, कांधा भी हम ही देंगे

Suresh | News18Hindi
Updated: September 9, 2019, 2:49 PM IST
चार बहुओं ने तोड़ी परंपरा, कहा- सास होकर भी हमें मां का प्यार दिया, कांधा भी हम ही देंगे
सुंदरबाई की बहुओं ने बताया कि उनकी सास सुशिक्षित महिला थी और उन्होंने पूरे परिवार को एक सूत्र में बांध रखा था.

महाराष्ट्र के बीड में महिला की मौत के बाद अंतिम यात्रा में शामिल हुई बहुएं, कहा- कभी कोई कमी का अहसास नहीं होने दिया इसलिए सास नहीं ये हमारी मां हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 9, 2019, 2:49 PM IST
  • Share this:
बीड. बीड (Beed) जिले में एक ऐसी घटना हुई जिसकी अब देशभर में चर्चा हो रही है. यहां पर एक परिवार ने अपनी मां को ऐसी विदाई (Last Ritual) दी जिसको देखकर हर किसी को उन पर गर्व हुआ. दरअसल यहां पर 83 साल की एक बुजुर्ग महिला सुंदरबाई दगडू नाइकवाड़े का हार्ट अटैक (Heart Attack) के चलते सोमवार सुबह 4 बजे निधन हो गया. जिसके बाद उनकी चारों बहुओं ने उन्हें कांधा दिया. परंपरा से हटकर किए गए इस काम की अब हर तरफ सराहना की जा रही है.

बच्चों जैसा दिया प्यार
सुंदरबाई की बहुओं ने बताया कि उनकी सास सुशिक्षित महिला थी और उन्होंने पूरे परिवार को एक सूत्र में बांध रखा था. उन्होंने ही अपने चारों बेटों को उनके पैरों पर खड़ा होने की हिम्मत और साथ दिया था. बहुओं ने बताया कि इस घर में शादी करके आने के बाद कभी भी उन्हें अपने पीहर की तरफ नहीं देखना पड़ा. उन्हें किसी भी कमी का अहसास सुंदरबाई ने नहीं होने दिया. उनकी बहु लता, उषा, मनीषा और मीना ने कहा कि सास ने उन्हें अपने बच्चों की तरह ही प्यार दिया और बेटियों की तरह देखभाल की. उन्होंने बताया कि परिवार में कभी भी किसी से भेदभाव नहीं किया. इसलिए हमने यह निर्णय लिया कि बेटे ही क्यों हम भी अपनी मां को कांधा देंगी.

गौरी गणपति की पूजा के बाद दिया गौरी सम्मान

बताया जा रहा है कि सुंदरबाई को एक तरह से गौरी सम्मान दिया गया है. उनके निधन के बाद पहले गौरी गणपति की पूजा की गई और उसके बाद उनकी अंतिम यात्रा शुरू हुई.

ये भी पढ़ेंः कश्मीरी गायक का दावाः आर्टिकल 370 हटने के बाद मुंबई में किराए के घर से निकाला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 9, 2019, 2:46 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...