गौतम नवलखा को जेल में चश्मा दिए जाने से मना, महाराष्ट्र सरकार ने दिए जांच के आदेश

महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने इस मामले में जांच के आदेश दिए हैं. (फाइल फोटो)

अनिल देशमुख ने कहा, 'भीमा-कोरेगांव मामले (Bhima koregaon Case) में आरोपी गौतम नवलखा को जेल प्रशासन ने चश्मा नहीं दिया क्योंकि उन्होंने उनके परिवार से आया पार्सल भी लौटा दिया.'

  • Share this:
    मुंबई. ऐल्गार परिषद-माओवादियों से संबंध होने के आरोप में गिरफ्तार गौतम नवलखा (Gautam Navlakha) को तालोजा जेल में कथित रूप से चश्मा नहीं दिए जाने पर महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) ने जांच के आदेश दिए हैं.

    अनिल देशमुख ने कहा, 'भीमा-कोरेगांव मामले (Bhima koregaon Case) में आरोपी गौतम नवलखा को जेल प्रशासन ने चश्मा नहीं दिया क्योंकि उन्होंने उनके परिवार से आया पार्सल भी लौटा दिया. मैंने इस मामले की जांच का आदेश दिया है. मुझे लगता है कि इसमें संवेदनशीलता दिखानी चाहिए थी, भविष्य में ऐसी घटनाओं के दोहराव से बचना होगा.'

    नवलखा के परिवारों के सदस्यों ने किया ये दावा
    नवलखा के परिवार के सदस्यों ने दावा किया था कि 27 नवंबर को तालोजा जेल में उनका चश्मा चोरी हो गया है. उन्होंने दावा किया है कि चश्मा के बिना नवलखा लगभग ‘दृष्टिहीन हैं' इसके बावजूद जब उन्होंने (परिवार ने) इस महीने की शुरुआत में डाक से नया चश्मा भेजा तो जेल प्रशासन ने उसे अस्वीकार कर दिया और वापस भेज दिया.

    क्या है पूरा मामला?
    राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने अपनी सप्लीमेंट्री चार्जशीट में उन पर पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी इंटर सर्विस इंटेलीजेंस (आईएसआई) से संबंध होने का आरोप लगाया है. नवलखा के साथ स्टेन स्वामी, आनंद तेलतुंबड़े, हनी बाबू, सागर गोरखे जैसे अधिकार कार्यकर्ता भी जेल में हैं. एनआईए ने उन पर आपराधिक साजिश, राजद्रोह और गैरकानून गतिविधियां (निरोधक) अधिनियम (यूएपीए) की धाराओं के तहत आरोप लगाए हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.