रामदास अठावले ने गुलाम नबी आजाद और कपिल सिब्बल से कहा- BJP में शामिल हो जाइए क्योंकि...'

केंद्रीय सामाजिक न्याय राज्य मंत्री मंत्री रामदास अठावले (PTI)

केंद्रीय सामाजिक न्याय राज्य मंत्री मंत्री रामदास अठावले (PTI)

कांग्रेस पार्टी में सोनिया गांधी को लिखी चिट्ठी से मचे बवाल के बाद रामदास अठावले (Ramdas Athawale) ने ये प्रतिक्रिया दी. उन्होंने कहा, राहुल गांधी ने सिब्बल, आजाद (Gulam Nabi Azad) पर भाजपा की ओर से काम करने का आरोप लगाया है. इसलिए मैं सिब्बल (Kapil Sibal) और आजाद से कांग्रेस से इस्तीफा देने को कहूंगा. उन्होंने कांग्रेस का विस्तार करते हुए कई साल बिताए हैं, लेकिन उन्हें अब वहां से बाहर निकलना चाहिए. दोनों को बीजेपी ज्वॉइन कर लेनी चाहिए.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 2, 2020, 2:42 PM IST
  • Share this:
मुंबई. केंद्रीय सामाजिक न्याय राज्य मंत्री मंत्री रामदास अठावले (Ramdas Athawale) ने वरिष्ठ कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद (Gulam Nabi Azad) और कपिल सिब्बल (Kapil Sibal) को कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा देकर भारतीय जनता पार्टी (BJP) में शामिल होने का सुझाव दिया है. अठावले ने दोनों नेताओं से कहा, 'कपिल सिब्बल, गुलाम नबी आजाद और अन्य दिग्गज कांग्रेसी नेताओं पर बीजेपी के साथ मिलीभगत का आरोप लगाया गया है. इसलिए उन्हें ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) की तरह इस्तीफा देना चाहिए और BJP में शामिल हो जाना चाहिए. क्योंकि, एनडीए सरकार (NDA Govt) सत्ता में वापसी करेगी और वर्षों तक सत्ता में ही रहेगी.

कांग्रेस पार्टी में सोनिया गांधी को लिखी चिट्ठी से मचे बवाल के बाद रामदास अठावले ने ये प्रतिक्रिया दी. उन्होंने कहा कि कांग्रेस प्रमुख के पद को लेकर विवाद है. राहुल गांधी ने सिब्बल, आजाद पर भाजपा की ओर से काम करने का आरोप लगाया है. इसलिए मैं सिब्बल और आजाद से कांग्रेस से इस्तीफा देने को कहूंगा. उन्होंने कांग्रेस का विस्तार करते हुए कई साल बिताए हैं, लेकिन उन्हें अब वहां से बाहर निकलना चाहिए. दोनों को बीजेपी ज्वॉइन कर लेनी चाहिए.'

PM मोदी ने Mann Ki Baat में किया था इन ऐप्स का जिक्र, प्ले स्टोर के टॉप 10 में हुए शामिल

अठावले ने कहा, 'अगर उनका अपमान किया जा रहा है तो उन्हें कांग्रेस वैसे ही छोड़ देना चाहिए जैसे ज्योतिरादित्य सिंधिया ने किया था. सचिन पायलट भी ऐसा कर रहे थे, लेकिन बाद में वह समझौता कर गए. राहुल गांधी का कांग्रेस को स्थापित करने वाले लोगों को दोषी ठहराना गलत है.'




वर्षों तक सत्ता में रहेगा NDA
केंद्रीय मंत्री ने आगे कहा, 'बीजेपी की अगुवाई में अभी कई वर्षों तक सत्ता में एनडीए ही रहेगी. बीजेपी आज जनता की पार्टी है. सभी जाति, संप्रदाय और धर्म के लोग बीजेपी में शामिल हो रहे . यह आने वाले चुनावों में जीत हासिल करती रहेगी और कांग्रेस का सफाया करेगी.'

Youtube Video


किन नेताओं ने लिखी थी चिट्ठी?
कांग्रेस में नेतृत्व को लेकर 23 नेताओं ने सोनिया गांधी को लेटर लिखा था. इनमें गुलाम नबी आजाद, राज्यसभा में कांग्रेस के उपनेता आनंद शर्मा, पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा, पृथ्वीराज चव्हाण, राजिंदर कौर भट्टल , पूर्व मंत्री मुकुल वासनिक, कपिल सिब्बल, एम वीरप्पा मोइली, शशि थरूर, सांसद मनीष तिवारी, पूर्व सांसद मिलिंद देवड़ा, जितिन प्रसाद, संदीप दीक्षित और कई अन्य नेताओं के नाम शामिल हैं.

हालांकि, इस चिट्ठी की खबर सामने आने के साथ ही पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और पार्टी के कई अन्य वरिष्ठ व युवा नेताओं ने सोनिया और राहुल गांधी के नेतृत्व में भरोसा जताया. उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि गांधी परिवार ही पार्टी को एकजुट रख सकता है.

राहुल गांधी ने क्या कहा था?
कांग्रेस में नेतृत्व के मुद्दे पर सोनिया गांधी को पत्र लिखने वाले नेताओं पर निशाना साधते हुए राहुल गांधी ने आरोप लगाये कि यह सब BJP की साठ-गांठ से हो रहा है. राहुल ने कहा कि जब पार्टी राजस्थान और मध्य प्रदेश में विरोधी ताकतों से लड़ रही थी और सोनिया गांधी अस्वस्थ थीं, तो उस समय ऐसा लेटर क्यों लिखा गया?

आजाद बोले-आरोप साबित करें, दे दूंगा इस्तीफा
राहुल के बयान पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद और कपिल सिब्बल ने नाराजगी जताई. आजाद ने कहा कि अगर आरोप सही साबित हुआ कि बीजेपी से साठ-गांठ है, तो मैं इस्तीफा दे दूंगा.

संसद के मॉनसून सत्र में प्रश्नकाल रद्द होने पर बवाल, TMC सांसद बोले- कोरोना के बहाने लोकतंत्र की हत्या

सिब्बल ने भी जताई नाराजगी
उधर, वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने ट्वीट कर नाराजगी जताई. सिब्बल ने कहा कि राहुल गांधी कहते हैं कि हमारी BJP के साथ साठ-गांठ है. मैंने राजस्थान हाईकोर्ट में पार्टी को सफलता दिलाई. मणिपुर में BJP के खिलाफ पूरी ताकत से पार्टी का बचाव किया. पिछले 30 सालों में BJP के पक्ष में एक भी बयान नहीं दिया. फिर भी हम पर BJP से साठ-गांठ का आरोप लग रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज