हिंदू और मुस्लिम महिलाओं ने एक-दूसरे के पतियों को डोनेट की किडनी
Maharashtra News in Hindi

हिंदू और मुस्लिम महिलाओं ने एक-दूसरे के पतियों को डोनेट की किडनी
प्रतीकात्मक तस्वीर

दोनों ही परिवारों को किडनी की जरूरत थी पर रिश्तेदारों से किसी तरह की मदद नहीं मिल पा रही थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 18, 2019, 3:46 PM IST
  • Share this:
मामला ठाणे और बिहार के दो परिवारों का है, जो 6 महीने पहले तक एक-दूसरे से बिल्कुल नहीं जानते थे. दोनों का इलाज कर रहे नेफ्रॉलजिस्ट दोनों परिवारों को करीब लेकर आए और एक टीम के तौर पर मिलकर काम किया, जिसका नतीजा पिछले सप्ताह सफल ट्रांसप्लांटेशन के तौर पर मिला.

ये भी पढ़ें: सावधान! अगर नहीं किया यह काम, तो 1 अप्रैल से बेकार हो जाएगा यहां लगाया हुआ पैसा

वर्ल्ड किडनी डे के मौके पर 14 मार्च को सैफी हॉस्पिटल में हुई सर्जरी के बाद ठाणे निवासी नदीम (51) और नजरीन (45) की बिहार निवासी रामस्वार्थ यादव (53) और उनकी पत्नी सत्यादेवी (45) के साथ जान पहचान हुई थी. एक तरफ जहां 3 बच्चों के पिता नदीम पिछले 4 सालों से डायलिसिस पर चल रहे हैं, वहीं किडनी की बीमारी से ग्रस्त रामस्वार्थ को इलाज की वजह से नालासोपारा को ही दूसरा घर बनाना पड़ा था.



मैं वामपंथी और पर्रिकर थे संघी, पर दोस्ती के बीच दीवार नहीं बनी विचारधारा: सुधींद्र कुलकर्णी
दोनों ही परिवारों को किडनी की जरूरत थी पर रिश्तेदारों से किसी तरह की मदद नहीं मिल पा रही थी. जब उसी अस्पताल में नेफ्रॉलजिस्ट के तौर पर काम कर रहे हेमल शाह को इस बात का पता चला तो उन्होंने किडनी स्वैप की योजना बनाई. इसके बाद रामस्वार्थ का ब्लड ग्रुप (A) नाजरीन के साथ मैच कर गया, जबकि नदीम का ब्लड ग्रुप (B) सत्यादेवी के साथ मैच कर गया. एक महीने तक सोच-विचार के बाद दोनों ही परिवार स्वैप ट्रांसप्लांटेशन के लिए राजी हो गए. अभी दोनों का स्वास्थ्य ठीक बताया जा रहा है.
एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading