महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम अजित पवार ने खारिज की बैलेट से वोटिंग की अटकलें, कहा- EVM पर पूरा यकीन

डिप्टी सीएम अजित पवार ने EVM और बैलेट से चुनाव के सवाल पर प्रतिक्रिया  दी. (फाइल फोटो)

डिप्टी सीएम अजित पवार ने EVM और बैलेट से चुनाव के सवाल पर प्रतिक्रिया दी. (फाइल फोटो)

महाराष्ट्र (Maharashtra Government) के डिप्टी सीएम अजित पवार (Ajit Pawar) ने कहा 'जब ईवीएम थे तब भी पंजाब, राजस्थान में कांग्रेस सरकार चुनी गई थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 11, 2021, 3:01 PM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Government) में डिप्टी सीएम अजीत पवार (Ajit Pawar) ने कहा है कि उन्हें ईवीएम से कोई दिक्कत नहीं है. पवार का बयान उन खबरों के बीच आया है जिसमें कहा जा रहा था कि राज्य सरकार बैलट पेपर से चुनाव कराने के लिए विधानसभा में विधेयक पेश करेगी.

महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम ने कहा 'जब ईवीएम थे तब भी पंजाब, राजस्थान में कांग्रेस सरकार चुनी गई थी. अक्सर जब वे चुनाव हारते हैं तो कई दल ईवीएम को दोष देते हैं लेकिन जब वे जीतते हैं, तो सब कुछ ठीक होता है. मुझे ईवीएम पर पूरा भरोसा है.'

पवार ने बीते दिनों की खबरों का हवाला देते हुए कहा कि नाना पटोले अब कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष हैं. इससे पहले वह विधानसभा अध्यक्ष थे. विधानसभा अध्यक्ष किसी पार्टी का नहीं होता. उन्होंने अगर कोई बयान दिया है तो उस पर चर्चा हो सकती है. उन्होंने कहा कि पेपर लेस काम अच्छा होता है. मुझे ईवीएम में पूरा विश्वास है.

नाना पटोले ने क्या कहा था?
गौरतलब है कि इस महीने की शुरुआत में News18 से नाना पटोले ने कहा था कि उन्होंने उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) सरकार को ईवीएम के साथ बैलेट पेपर पर चुनाव कराने के लिए एक ड्राफ्ट तैयार करने का निर्देश दिया है. पटोले ने कहा था, 'अगर ड्राफ्ट तैयार है तो विधेयक को आगामी बजट सत्र में पेश किया जा सकता है.' संभावित विधेयक के कानूनी पक्ष के बारे में पटोले ने News18 को बताया था कि राज्य में चुनाव के लिए ऐसे कानून को बनाने के लिए संविधान के अनुच्छेद 328 के तहत शक्तियां मिली हुई हैं. उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग के अधिकारियों सहित इससे संबंधित कई लोगों के साथ बैठक हो चुकी है.

पटोले ने कहा था, 'अनुच्छेद 328 राज्य सरकार को इस तरह का कानून बनाने का अधिकार देता है. ' उन्होंने कहा कि चुनाव, ईवीएम से होना है या बैलेट पेपर से यह फैसला राज्य करेगा. उन्होंने कहा, 'जो लोग लोकतंत्र में विश्वास करते हैं. जो लोग बैलेट पेपर में यकीन रखते हैं. वह इससे खुश होंगे.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज