• Home
  • »
  • News
  • »
  • maharashtra
  • »
  • नागपुर रेलवे स्टेशन पर चूहे पकड़ने के लिए हर दिन 166 कर्मचारियों की तैनाती, खर्च होते हैं 1.45 लाख रुपये

नागपुर रेलवे स्टेशन पर चूहे पकड़ने के लिए हर दिन 166 कर्मचारियों की तैनाती, खर्च होते हैं 1.45 लाख रुपये

नागपुर रेलवे स्टेशन पर 2 साल में चूहों पर इतनी बड़ी रकम खर्च होने का खुलासा आरटीआई से हुआ है. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

नागपुर रेलवे स्टेशन पर 2 साल में चूहों पर इतनी बड़ी रकम खर्च होने का खुलासा आरटीआई से हुआ है. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

भारतीय रेलवे (Indian Railways) चूहों (Rats) से परेशान है. चूहों को पकड़ने पर करोड़ों रुपये खर्च करने के साथ35-35 लाख रुपये की मशीनें भी खरीदी जा रही हैं.

  • Share this:
नागपुर. देश का एक रेलवे स्टेशन (Railway Station) चूहों (Rat) से इस कदर परेशान है कि रोज चूहे पकड़ने के लिए 166 कर्मचारी लगाए जाते हैं. इतना ही नहीं चूहे पकड़ने की कार्रवाई में रोजाना 1.45 लाख रुपये भी खर्च किए जाते हैं. इन आंकड़ों से आप चौंक सकते हैं, लेकिन यह हकीकत है. भारतीय रेलवे (Indian Railway) के सेंट्रल ज़ोन का नागपुर स्टेशन (Nagpur Station) इस भीषण समस्या से जूझ रहा है. बीते 2 साल (730 दिन) में इस स्टेशन पर चूहों से निपटने में 10.56 करोड़ रुपये खर्च किए जा चुके हैं. आरटीआई (RTI) अर्जी पर मिले जवाब से इसका खुलासा हुआ है.

देशभर में चूहों से जूझ रहे रेलवे की परेशानी किसी से छिपी नहीं है. भारतीय रेलवे का एकाध ही स्टेशन ऐसा होगा जहां चूहों पर पानी की तरह से पैसा न बहाया जा रहा हो. हाल ही में न्यूज18 हिन्दी ने चेन्नई डिवीजन द्वारा एक चूहा पकड़ने पर 22 हजार रुपये खर्च करने का खुलासा किया था. लेकिन, नागपुर रेलवे स्टेशन की हालत तो चेन्नई से भी बुरी नजर आ रही है.

सुबह से शाम तक चूहे पकड़ते हैं 166 कर्मचारी

नागपुर डिवीजन ऑफिस ने आरटीआई में पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए बताया है कि नागपुर रेलवे स्टेशन पर 8 प्लेटफार्म, 10 ट्रैक (रेलवे लाइन) और कई तरह के ऑफिस भी हैं. प्लेटफार्म और रेलवे ट्रैक सहित सभी कार्यालयों को चूहों से होने वाले नुकसान से बचाने के लिए हर रोज कुछ कर्मचारियों की तैनाती की जाती है. प्लेटफार्म नम्बर एक पर सबसे ज्यादा 10 कर्मचारी लगाए जाते हैं. इसके अलावा 2-3 पर 9 कर्मचारी और 6-7 पर 8 कर्मचारी लगाए जाते हैं. वहीं, ट्रैक नम्बर 1-4 पर 10, 5-6 पर 9 कर्मचारी आदि लगाए जाते हैं.

देशभर में रेल विभाग चूहों की परेशानी से जूझ रहा है.


1.45 लाख रुपये रोज खर्च करता है नागपुर स्टेशन

नागपुर से मिली आरटीआई में इस बात का खुलासा भी हुआ है कि हर रोज प्लेटफार्म, रेलवे ट्रैक और आफिसों में चूहों से निपटने के लिए कितने रुपये रोज खर्च किए जाते हैं. सबसे ज्यादा खर्च प्लेटफार्म नम्बर एक पर 12,137 रुपये खर्च किए जाते हैं. इसी तरह से दूसरे प्लेटफार्म, ट्रैक और आफिसों में भी चूहों से निपटने पर खर्च किए जाते हैं. आरटीआई अर्जी पर दिए गए जवाब के अनुसार, बीते 2 साल यानि 730 दिन में नागपुर स्टेशन चूहों से निपटने पर 10.56 करोड़ रुपये खर्च कर चुका है.

ये भी पढ़ें-

अयोध्या विवाद पर मौलाना रशीद फिरंगी का बयान- कभी दूसरा पक्ष जमीन देने की बात क्यों नहीं कहता

एक चूहा पकड़ने में 22 हजार रुपये खर्च करता है चेन्नई रेल डिवीजन, 3 साल में खर्च किए 6 करोड़!

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज