लाइव टीवी

Karad Assembly Exit Poll Results 2019: सतारा की कराद सीट पर करिश्मा दिखा पाएंगे पृथ्वीराज चव्हाण?

News18Hindi
Updated: October 21, 2019, 8:12 PM IST
Karad  Assembly Exit Poll Results 2019: सतारा की कराद सीट पर करिश्मा दिखा पाएंगे पृथ्वीराज चव्हाण?
पृथ्वीराज चव्हाण साल 2010 में वो पहली बार महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री बनाए गए.

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव (Maharashtra Assembly Election 2019) में कांग्रेस के पृथ्वीराज चव्हाण (Prithviraj Chavhan) कराद सीट से चुनाव मैदान में हैं. न्यूज़ 18-IPSOS के मुताबिक उनकी सीट फंस सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 21, 2019, 8:12 PM IST
  • Share this:
सतारा. महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव (Maharashtra Assembly Election 2019) के नतीजे 24 अक्टूबर को मतगणना के साथ आएंगे. लेकिन उससे पहले ही न्यूज़ 18-IPSOS का सर्वे आपको ये बता रहा है कि इस बार चुनाव में किन दिग्गजों की जीत की सबसे बड़ी संभावना है. न्यूज़ 18-IPSOS के मुताबिक पृथ्वीराज चव्हाण (Prithviraj Chavhan) कराद सीट फंस सकती है. वह इस सीट से हार भी सकते हैं. कांग्रेस नेता पृथ्वीराज चव्हाण सतारा जिले के कराद दक्षिण से चुनाव मैदान में हैं.

पृथ्वीराज चव्हाण के सामने बीजेपी ने अतुल भोंसले को उतारा है. लेकिन चव्हाण की असली मुसीबत उदय सिंह उंदालकर पाटिल हैं, जो कांग्रेस से ही हैं, लेकिन बागी बनकर अब चुनावी मैदान में हैं. वह विलास उंदालकर पाटिल के बेटे हैं, जो इस सीट से लगातार सात बार चुनाव जीत चुके हैं.

साल 2010 में कांग्रेस ने अशोक चव्हाण को हटाकर पृथ्वीराज चव्हाण को मुख्यमंत्री बनाया था. कांग्रेस ने पृथ्वीराज चव्हाण को सीएम बनाकर मराठा समीकरण साधा था. पृथ्वीराज चव्हाण उससे पहले पीएमओ में राज्य मंत्री थे. हालांकि दौड़ में उस वक्त राधाकृष्ण विखे पाटिल का भी नाम था. लेकिन पृथ्वीराज चव्हाण को तरजीह दी गई. उन्हें राज्य का 17वां मुख्यमंत्री बनाया गया. दरअसल, टेक्नोक्रेट पृथ्वीराज चौहान की साफ सुथरी छवि और सादगी उन्हें राजनेताओं में अलग बनाती है.

प्रधानमंत्री कार्यालय में पृथ्वीराज चव्हाण राज्यमंत्री थे. वो कांग्रेस के महासचिव भी रह चुके हैं. इसके अलावा वो जम्मू-कश्मीर, कर्नाटक, हरियाणा, गुजरात, त्रिपुरा और अरुणाचल प्रदेश के प्रभारी भी रह चुके हैं. पृथ्वीराज चव्हाण का जन्म 17 मार्च 1946 को मध्यप्रदेश के इंदौर में हुआ. पिलानी के बीआईटी से उन्होंने मैकेनिकल इंजीनियरिंग में ग्रेजुएट किया. 1967 में ग्रेजुएशन के बाद उन्होंने यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया के बर्कले कॉलेज से मास्टर कोर्स किया. इसके लिए उन्हें जर्मनी में यूनेस्को स्कॉलरशिप अवॉर्ड भी मिला.

पृथ्वीराज चव्हाण के पिता दाजीसाहब चव्हाण कराद संसदीय क्षेत्र से सांसद थे और 1957 से 1973 तक वो नेहरू, शास्त्री और इंदिरा सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे. उनके बाद कराद सीट से पृथ्वीराज की मां प्रेमालाकाकी 1973,1977,1984,1989 और 1991 तक सांसद रहीं. उनके निधन के बाद पृथ्वीराज चव्हाण कराद सीट से चुनाव लड़े और जीतकर सांसद बने.

कहते हैं कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी से मुलाकात के बाद पृथ्वीराज चव्हाण राजनीति में आए. वो काफी लंबे समय तक राज्यसभा सदस्य रहे. इसके बाद साल 1991में वो पहली बार लोकसभा चुनाव जीतकर सांसद बने. महाराष्ट्र की कराद सीट से पृथ्वीराज चव्हाण लगातार 3 बार चुनाव जीते. 1991,1996 और 1998 में चुनाव जीतने के बाद 1999 में उन्हें हार का मुंह देखना पड़ा. यूपीए सरकार में उन्हें पांच मंत्रालयों का जिम्मा दिया गया.

साल 2010 में वो पहली बार महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री बनाए गए. जानकार बताते हैं कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की पसंद की वजह से पृथ्वीराज चव्हाण को मौका मिला. दरअसल आदर्श सोसाइटी घोटाले की वजह से अशोक चव्हाण को अपने पद से इस्तीफा देना पड़ गया था. लेकिन बाद में महाराष्ट्र में कांग्रेस-एनसीपी गठबंधन टूटने की वजह से पृथ्वीराज चव्हाण को इस्तीफा देना पड़ गया. पृथ्वीराज चव्हाण ने सत्वशीला से 16 दिसंबर 1976 में विवाह किया. उनके दो बच्चे हैं अंकिता और जय.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए महाराष्ट्र से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 21, 2019, 8:09 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...