Home /News /maharashtra /

भीमा-कोरेगांव मामला: हाईकोर्ट ने FIR रद्द करने की मांग वाली याचिका की खारिज

भीमा-कोरेगांव मामला: हाईकोर्ट ने FIR रद्द करने की मांग वाली याचिका की खारिज

demo pic

demo pic

अपनी याचिका में आनंद ने सभी आरोपों से इनकार किया था और दावा किया कि उन्हें इस मामले में फंसाया गया है और उनके पास इसका पर्याप्त साक्ष्य है.



    बॉम्बे हाईकोर्ट ने शुक्रवार को नागरिक अधिकार कार्यकर्ता आनंद तेलतुम्बडे की याचिका को खारिज कर दिया. इस याचिका में उन्होंने अपने खिलाफ पुणे पुलिस की ओर से एल्गार परिषद कोरेगांव भीमा हिंसा मामले में उनकी कथित भूमिका तथा माओवादियों के साथ उनके कथित संबंधों के लिए उनके खिलाफ दर्ज प्राथमिकी रद्द करने की मांग की थी.


    अपनी याचिका में आनंद ने सभी आरोपों से इनकार किया था और दावा किया कि उन्हें इस मामले में फंसाया गया है और उनके पास इसका पर्याप्त साक्ष्य है. बॉम्बे हाईकोर्ट के जज बीपी धर्माधिकारी एवं जज एसवी कोटवाल की खंडपीठ ने उनकी याचिका को खारिज कर दिया.


    DM ऑफिस के बाहर युवक ने किया आत्मदाह, अतिक्रमण हटाने की कर रहा था मांग


    हालांकि, अदालत ने उन्हें गिरफ्तारी से तीन हफ्ते के लिए अंतरिम राहत प्रदान की और कहा कि इस दौरान वह उच्चतम न्यायालय से संपर्क कर सकते हैं. इससे पहले कार्यकर्ता के वकील एवं वरिष्ठ अधिवक्ता मिहिर देसाई ने पीठ को बताया कि पिछले साल 30 और 31 दिसंबर को उनके मुवक्किल गोवा में थे. वह पुणे में नहीं थे, इतना ही नहीं वह कोरेगांव भीमा हिंसा स्थल के आस-पास भी मौजूद नहीं थे.

    अगर मंत्री नहीं सुनते हैं तो उन पर प्याज फेंके किसान: राज ठाकरे


    देसाई ने अदालत में दलील दी कि पुणे पुलिस ने उनके खिलाफ जो प्राथमिकी दर्ज की है और एल्गार परिषद कोरेगांव भीमा मामले में उन्हें सह आरोपी बनाया गया है तो उसे रद्द कर दिया जाए.

    Tags: Bombay high court, Maharashtra

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर