• Home
  • »
  • News
  • »
  • maharashtra
  • »
  • 'कोतवाल ने कोर्ट में कैसी भीड़ लगा रखी है'- ऑनलाइन सुनवाई में बोलकर भागी वकील, जज ने ढूंढकर मंगवाई माफी

'कोतवाल ने कोर्ट में कैसी भीड़ लगा रखी है'- ऑनलाइन सुनवाई में बोलकर भागी वकील, जज ने ढूंढकर मंगवाई माफी

जस्टिस सारंग कोतवाल की कोर्ट में एक वकील ने गलत टिप्पणी कर दी. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Shutterstock)

जस्टिस सारंग कोतवाल की कोर्ट में एक वकील ने गलत टिप्पणी कर दी. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Shutterstock)

बॉम्बे हाईकोर्ट के जज जस्टिस सारंग कोतवाल ने वकील की टिप्पणी सुनी तो उन्होंने तुरंत यह पता लगाने को कहा कि यह किसने कहा था. हालांकि इस बीच उनकी जगह कोई दूसरा वकील आ गया था. ऐसे में जज ने उस वकील को ढूंढकर वापस बुलाने के लिए कहा और खूब क्लास लगाई.

  • Share this:
    मुंबई. बॉम्बे हाईकोर्ट (Bombay High Court) के जस्टिस सारंग कोतवाल (Sarang Kotwal) ने एक जूनियर वकील को अदालत के खिलाफ बयान देने के लिए फटकार लगाई. दरअसल, वकील इस बात से अनजान थीं कि उनका माइक्रोफोन ऑन है. उन्होंने अनजाने में कुछ ऐसा बोल दिया जो जज को बुरा लग गया. वकील ने मराठी में कहा , 'बाग कोतवाल चा कोर्ट मध्ये किती गर्दी आहे.'(कोतवाल ने कोर्ट में कैसी भीड़ लगा रखी है.) उस समय कोर्ट रूम के अंदर सरकारी वकील, पुलिस कांस्टेबल और कुछ अन्य लोग ही मौजूद थे. महामारी के दौरान सुनवाई वर्चुअली हो रही है, लेकिन कुछ लोगों को कोर्ट के कामकाज के लिए अदालत आना ही पड़ रहा है. हालांकि इसके लिए भी अनुमति की जरूरत है.

    जब जस्टिस कोतवाल ने वकील की टिप्पणी सुनी तो उन्होंने तुरंत यह पता लगाने को कहा कि यह किसने कहा था. जब तक जज को नाम पता चलता तब जानकारी मिली कि उसी कोर्ट रूम से उनकी जगह कोई दूसरा वकील मौजूद था. जस्टिस कोतवाल ने टिप्पणी करने वाली वकील को पेश होने के लिए कहा. हालांकि उस वक्त मौजूद वकील ने कहा कि वह अपने साथी महिला वकील से कह देंगी कि वह जस्टिस कोतवाल के चेंबर में पेश हों. लेकिन जज ने कहा 'नहीं जिन्होंने बयान दिया है, वह खुद वर्चुअली मौजूद होंगी. हर कोई यह देखे कि किसने बयान दिया है.'



    कानूनी ज्ञान के अलावा आचरण भी सीखिए- जज
    थोड़ी देर बाद, जब वकील वर्चुअली सुनवाई में पेश हुईं, तो उन्होंने तुरंत माफी मांगी और कहा कि उन्हें नहीं पता था कि उनका माइक्रोफोन ऑन था. वकील की माफी को मानने से इनकार करते हुए जस्टिस कोतवाल ने उन्हें उनके बयान के लिए फटकार लगाई. जस्टिस कोतवाल ने कहा, 'मेरे कोर्ट में किसे आने की अनुमति देना है या बुलाना करना मेरा विशेषाधिकार है. कानूनी ज्ञान के अलावा आपको आचरण सीखने की जरूरत है. आपको यह सीखना है कि कोर्ट को कैसे संबोधित करते हैं.'

    उन्होंने वकील से अपने सहयोगियों और वरिष्ठों से सीखने और व्यवस्था का सम्मान करने को कहा. जज ने कहा, 'यदि आप व्यवस्था का सम्मान नहीं करेंगी तो आपको सम्मान नहीं मिलेगा.' वकील ने फिर माफी मांगी लेकिन जस्टिस कोतवाल ने कहा कि उन्होंने उनकी माफी स्वीकार नहीं की और उन्हें सुनवाई से बर्खास्त कर दिया.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज