लॉकडाउन: अंतिम संस्कार से जुड़ी सभी सुविधाओं के लिए ऑनलाइन प्लेटफार्म
Maharashtra News in Hindi

लॉकडाउन: अंतिम संस्कार से जुड़ी सभी सुविधाओं के लिए ऑनलाइन प्लेटफार्म
कम्पनी का लक्ष्य परिवार को मृतक का मृत्यु प्रमाण पत्र प्राप्त करने, अरथी का इंतजाम करने, पार्थिव शरीर को श्मशान ले जाने, श्मशान पास प्राप्त करने, पुजारी और अंतिम संस्कार के लिए आवश्यक सामग्री मुहैया कराने में मदद करना है.

कम्पनी का लक्ष्य परिवार को मृतक का मृत्यु प्रमाण पत्र प्राप्त करने, अरथी का इंतजाम करने, पार्थिव शरीर को श्मशान ले जाने, श्मशान पास प्राप्त करने, पुजारी और अंतिम संस्कार के लिए आवश्यक सामग्री मुहैया कराने में मदद करना है.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
पुणे. कोरोना वायरस (Coronavirus) से निपटने के लिए लगाए गए लॉकडाउन (lockdown) के कारण आवाजाही पर प्रतिबंध लगे हुए हैं. पुणे के एक स्टार्ट-अप ने प्रार्थना समारोहों के लिए पुजारी और अन्य आवश्यक सामग्री उपलब्ध कराने के एक ऑनलाइन मंच तैयार किया है. जिसके माध्यम से अंतिम संस्कार संबंधी सेवाएं मुहैया कराई जा रही है. ‘मोक्ष सेवा’ के जरिए कम्पनी का लक्ष्य परिवार को मृतक का मृत्यु प्रमाण पत्र प्राप्त करने, अरथी का इंतजाम करने, पार्थिव शरीर को श्मशान ले जाने, श्मशान पास प्राप्त करने, पुजारी और अंतिम संस्कार के लिए आवश्यक सामग्री मुहैया कराने में मदद करना है.

कम्पनी के एक साझेदार प्रणव छावरे ने बताया कि कम्पनी ‘गुरुजी ऑन डिमांड’ सेवा के जरिए अंतिम संस्कार के बाद किए जाने वाले अनुष्ठानों में शोक संतप्त परिवारों की सहायता करने की योजना भी बना रही है. लॉकडाउन के कारण रिश्तेदार और दोस्त अंतिम संस्कार में नहीं आ सकते. ऐसे में लोगों के लिए सभी काम अकेले करना मुश्किल हो जाता है. इस सेवा को शुरू करने का लक्ष्य परिवार को एक ही मंच पर सभी सेवाएं उपलब्ध कराना है.

ये भी पढ़ें : लॉकडाउन में UP बना देश का नंबर–1 चीनी उत्पादक, योगी सरकार ने लिखी नई इबारत



छावरे ने कहा कि समय की मांग को देखते हुए सामाजिक दूरी बनाए रखना जरूरी है. इसलिए पंडित पूजा-अर्चना वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए ही करें तो ठीक है. लेकिन अगर पंडित को मौके पर बुलाए जाने की मांग भी होगी तो उसे भी सभी एहतियात बरतते हुए पूरा किया जाएगा. कोरोना वायरस के कारण लगी पाबंदियों के चलते अंतिम संस्कार में अधिक लोगों के शामिल होने की अनुमति नहीं है.



छावरे कहते हैं कि एकल परिवारों में हालात और खराब हैं. ऐसे परिवारों में किसी की मौत होने पर अंतिम संस्कार के लिए जरूरी सामान जुटाना मुश्किल हो जाता है. वह कहते हैं, ऐसा देखा जा रहा है कि अगर परिवार में किसी की मौत हो गयी है तो घर के लोगों को अंतिम संस्कार की तैयारियों के लिए इधर उधर भागना पड.ता है. इस योजना का मकसद लोगों को एक ही जगह पर सारा सामान मुहैया कराना और संकट के समय में उनकी परेशानियों को कम करना है.

इस समय इस कंपनी के साथ पुणे और पिंपरीचिंचवड इलाके के 650 पुजारियों को शामिल किया गया है. लोग कंपनी के मोबाइल ऐप या उसकी वेबसाइट पर जाकर उसकी सेवाओं के लिए बुकिंग करा सकते हैं.

ये भी पढ़ें : कोरोना वायरस: मुंबई में 1500 से ज्यादा पुलिसकर्मी कोरोना पॉजिटिव
First published: June 2, 2020, 2:29 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading