25 साल तक रहे डॉक्टर, अब गाय और कैंसर के मुद्दे पर लड़ रहे चुनाव

News18Hindi
Updated: April 24, 2019, 6:11 PM IST
25 साल तक रहे डॉक्टर, अब गाय और कैंसर के मुद्दे पर लड़ रहे चुनाव
टाटा कैंसर हॉस्पिटल में डॉक्टरी सेवाएं देने वाले डॉ. नवनाथ, गाय को अनाज खिलाते हुए।

25 साल तक टाटा कैंसर हॉस्पिटल में डॉक्टरी सेवाएं देने वाले डॉ. नवनाथ ने अपनी नौकरी सिर्फ इसलिए छोड़ दी ताकि वह लोगों को कैंसर से बचा सकें. इस बार वह चुनाव लड़ रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 24, 2019, 6:11 PM IST
  • Share this:
आमतौर पर एक चुनाव लड़ने के लिए क्या मुद्दे होते हैं? विकास, रोजगार, सड़क, पानी...इत्यादि. आमतौर पर देश में पार्टियां इस आधार पर भी चुनाव लड़ती हैं कि किस सीट पर कैसा जातिगत गणित है? लेकिन इस लोकसभा 'दंगल' में एक उम्मीदवार ऐसा भी है, जिसके मुद्दे बिल्कुल अलग हैं. ये प्रत्याशी हैं डॉ. नवनाथ दुधाल जो महाराष्ट्र की मावल लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रहे हैं. डॉ. नवनाथ टाटा कैंसर हॉस्पिटल में 25 साल तक विशेषज्ञ के तौर पर सेवाएं दे चुके हैं. इस चुनाव में डॉक्टर नवनाथ दो प्रमुख मुद्दों पर वोट मांग रहे हैं. पहला, देशी गायों का संवर्धन और दूसरा, कैंसर से बचाव. डॉ. नवनाथ जब भी जनता के बीच जाते हैं, लोगों को देशी गाय पालने और कैंसर से सतर्क रहने के लिए प्रेरित करते हैं.

डॉ. नवनाथ के सामने पार्थ पवार
महाराष्ट्र की जिस मावल सीट का जिक्र हम कर रहे हैं, उस पर पवार परिवार की तीसरी पीढ़ी के सदस्य पार्थ पवार चुनाव लड़ रहे हैं. वहीं इस सीट से शिवसेना ने एक बार फिर श्रीरंग बारणे को अपना उम्मीदवार बनाया है. हालांकि, दिग्गज नेताओं के बीच डॉ. नवनाथ का एजेंडा भी पॉपुलर है.

निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में हैं डॉ. नवनाथ

दरअसल, मावल सीट से डॉक्टर नवनाथ दुधाल निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में लड़ रहे हैं. डॉक्टर नवनाथ ने ढाई दशक से ज्यादा वक्त तक टाटा हॉस्पिटल में काम करने के बाद नौकरी छोड़ दी. इसके बाद से वह कैंसर से बचाव के लिए लोगों को जागरूक करने का काम कर रहे हैं. उनका चुनाव प्रचार भी काफी हटकर है. वह स्थानीय नागरिकों से करीब 15 से 20 मिनट तक बातचीत करते हैं. इस दौरान वह उन्हें गौ संवर्धन के महत्व के बारे में जानकारी देते हैं. साथ ही बताते है कि कैसे गाय के दूध, घी, छाछ और गोबर के जरिए कैंसर पर नियंत्रण पाया जा सकता है.

ये भी पढ़ें- पीएम मोदी ने कहा कुर्ते और मिठाई भेजती हैं ममता, तो TMC ने दिया ये जवाब

बैनर पर लिखा है 'दवा ना खाना'
Loading...

डॉक्टर नवनाथ के प्रचार के दौरान लगाया जाने वाला बैनर भी सबका ध्यान अपनी तरफ खींच रहा है. इस बैनर पर 'दवा ना खाना' लिखा हुआ है. यह निर्दलीय उम्मीदवार लोगों से बात करने के दौरान इस बात का महत्व भी बताता है. इसके अलावा वह गाय की पूजा भी करते है और घर-घर जाकर देशी गायों के संवर्धन के बारे में जानकारी साझा करते है.

यूं करते है वोट अपील
नेताओं की चुनावी सभाओं से बेहद अलग हटकर डॉक्टर नवनाथ छोटी-छोटी चौपाल लगाकर लोगों से सीधा संवाद करते है. इस दौरान वह अपने एजेंडे के बारे में लोगों को बताते है और इससे उनकी जिंदगी में होने वाले अच्छे बदलाव के बारे में बताने से नहीं चूकते है. अंत में वह केवल इतना कहते है कि यदि उनकी बातें अच्छी लगे तो उन्हें वोट दे सकते हैं.

ये भी पढ़ें- पीएम मोदी ने अक्षय कुमार के चुटकुले पर जमकर लगाए ठहाके, देखें Video

कौन हैं पार्थ पवार?
पार्थ पवार अजित पवार के बड़े बेटे हैं और 28 वर्ष के हैं. पिछले एक साल से वे मावल संसदीय क्षेत्र में जनता के बीच सक्रिय हैं. पुणे के नज़दीक पिंपरी चिंचवड़ का बड़ा हिस्सा इस संसदीय क्षेत्र का हिस्सा है. पिछले वर्ष अक्टूबर से पार्थ के इस क्षेत्र से लोकसभा के लिए उम्मीदवार होने की चर्चा चल रही थी.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 24, 2019, 2:14 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...