• Home
  • »
  • News
  • »
  • maharashtra
  • »
  • MAHARASHRA CORONAVIRUS FADANVIS LETTER TO UDDHAV THAKRE SAID BMC IS HIDING DEATH TOLL IN MUMBAI

फड़णवीस ने लिखी उद्धव ठाकरे को चिट्ठी, कहा 'BMC ने छिपाए कोरोना से मौत के आंकड़े'

देवेंद्र फड़णवीस ने सीएम उद्धव ठाकरे को चिट्ठी लिखी.

महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण के बीच सियासत भी खूब हो रही है. सरकार जहां कोरोना संक्रमण पर उठाए जा रहे कदम गिना रही है वहीं नेता प्रतिपक्ष देवेंद्र फड़णवीस ने आंकड़ों के साथ सीएम उद्धव ठाकरे को एक चिट्ठी लिखी है. चिट्ठी में बीएमसी पर कोरोना से हुई मौतों को छिपाने का आरोप लगाया गया है.

  • Share this:
    मुंबई. महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण पर सियासत भी जारी है. राज्य में विपक्षी पार्टी बीजेपी के नेता देवेंद्र फड़णवीस ने कोरोना इंफेक्शन को लेकर BMC पर गंभीर आरोप लगाए हैं. फड़णवीस का आरोप है कि शिवसेना शासित नगर निकाय कोविड-19 से हुई मौत के मामलों को कम करके बता रहा है और मुंबई में संक्रमण की दर से भी छेड़छाड़ कर रहा है. उन्होंने इस मामले को लेकर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को एक चिट्ठी लिखी है. अपनी चिट्ठी को देवेंद्र फड़णवीस ने अपने ट्विटर अकाउंट से शेयर भी किया है.

    चिट्ठी में फड़णवीस ने क्या लिखा?
    फड़णवीस ने अपनी चिट्ठी में लिखा है कि बृह्नमुंबई नगर निगम (बीएमसी) कुछ कोविड-19 मरीजों की मौत के अन्य कारण बताकर संक्रमण से हुई मृत्यु के मामलों के आंकड़ों से छेड़छाड़ कर रहा है और इसे कम दिखा रहा है. फड़णवीस ने लिखा है कि - अन्य कारणों से हुई मौत की श्रेणी में कुछ विशिष्ट मामलों को रखा जाता है, जैसे कि कोविड-19 रोगी का आत्महत्या कर लेना, दुर्घटना में मृत्यु, हत्या, ब्रेन डेड घोषित किया जाना या रोगी के कैंसर की चौथी स्टेज में पहुंच जाना. बीएमसी कोविड-19 से हुई कुछ मौतों को संदिग्ध तरीके से इसी श्रेणी में रख रही है. फड़णवीस ने कहा है कि बीएमसी ने फरवरी से अप्रैल के बीच 683 कोविड-19 मरीजों की मौत के मामलों को 'अन्य कारणों से हुई मौत' की 'संदिग्ध श्रेणी' में रखा. उन्होंने दावा किया कि यह इस अवधि के दौरान हुई कुल 1,773 मौतों का 39.4 प्रतिशत है. पूर्व सीएम फड़णवीस ने अपने पत्र में लिखा है कि इसी अवधि के दौरान राज्य के बाकी हिस्सों में कम से कम 15,958 लोगों की मौत हुई, जिसमें से 199 यानि 0.7 प्रतिशत मौतों को 'अन्य कारणों से हुई मौत' बताया गया है. ऐसे में बीएमसी की आंकड़ों से की गई छेड़छाड़ दिखाई देती है.

    कोरोना टेस्ट पर भी सवाल
    महाराष्ट्र विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष फड़णवीस ने आरोप लगाया कि बीएमसी ज्यादातर रैपिड एंटीजन टेस्ट पर निर्भर रहती है, जिससे भी आंकड़ों में छेड़छाड़ संभव है. शहर में एक दिन में 1 लाख आरटी-पीसीआर जांच करने की क्षमता है, लेकिन पिछले 10 दिन में इसका औसत 34,191 रहा है. इनमें से 30 प्रतिशत रैपिड एंटीजन जांच की गईं. फडणवीस ने कहा, कि भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद आरटी-पीसीआर क्षमता कम होने पर 30 प्रतिशत रैपिड-एंटीजेन जांच करने की सलाह देता है, वरना रैपिड-एंटीजेन जांचों की संख्या 10 प्रतिशत से अधिक नहीं होनी चाहिए. क्योंकि इसी विश्वनीयता सिर्फ 50 फीसदी होती है और ये भ्रम पैदा करती है.

    कांग्रेस ने फड़णवीस की चिट्ठी को कहा 'ईर्ष्या'
    फड़णवीस की चिट्ठी और उनके आरोपों पर प्रतिक्रिया देते हुए कांग्रेस की राज्य इकाई के प्रवक्ता सचिन सावंत ने कहा कि यह बीएमसी के अच्छे काम के चलते पैदा हुई ईर्ष्या है, इसलिए देवेंद्र फड़णवीस ये आरोप लगा रहे हैं. आपको याद दिला दें कि उच्चतम न्यायालय ने महामारी की दूसरी लहर से प्रभावी ढंग से निपटने के लिये हाल ही में बीएमसी की प्रशंसा की थी. जिसके बाद बीजेपी नेता की ओर से ये आरोप लगाए गए हैं.