Home /News /maharashtra /

महाराष्ट्र: यरवदा जेल की अस्थायी कोठरी से बाथरूम की सरिया काटकर दो कैदी फरार

महाराष्ट्र: यरवदा जेल की अस्थायी कोठरी से बाथरूम की सरिया काटकर दो कैदी फरार

यह चैनल 51 दिनों तक हर दिन एक से तीन मिनट की अवधि की कहानी कोरोना के दौरान जेलों और उनके योगदान की दुनिया को सामने लाता रहा.

यह चैनल 51 दिनों तक हर दिन एक से तीन मिनट की अवधि की कहानी कोरोना के दौरान जेलों और उनके योगदान की दुनिया को सामने लाता रहा.

कैदियों को कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते अस्थायी जेल में तब्दील किये गए सामाजिक न्याय विभाग के हॉस्टल में बंद किया गया था.

    पुणे. महाराष्ट्र (Maharshtra) के पुणे (Pune) जिले की यरवदा जेल (Yerawada Jail) की अस्थायी कोठरी से शनिवार को दो कैदी शौचालय में लगे सरिये काटकर फरार हो गए. एक अधिकारी ने बताया कि कैदियों को कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते अस्थायी जेल में तब्दील किये गए सामाजिक न्याय विभाग के हॉस्टल में बंद किया गया था. हाल ही में गिरफ्तार किये गए इन कैदियों को पिछले महीने से यरवदा जेल की इस अस्थायी कोठरी में रखा गया था.

    जेल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, 'हाल ही में अलग-अलग अपराधों के लिये इन कैदियों को गिरफ्तार किया गया था. शनिवार सुबह वे शौचालय में लगे सरिये काटकर फरार हो गए.' इस संबंध में यरवदा थाने में मामला दर्ज किया गया है.

    हाई सिक्योरिटी जेल मानी जाती है यरवदा
    आपको बता दें यरवदा जेल काफी हाई सिक्योरिटी जेल मानी जाती है. ये महाराष्ट्र की सबसे बड़ी जेल है और दक्षिण एशिया की सबसे बड़ी जेलों में से एक है. करीब 500 एकड़ में फैली इस जेल में करीब पांच हजार कैदी अलग-अलग बैरक और सिक्योरिटी जोन में रहते हैं.

    कसाब को यहीं दी गई थी फांसी
    26/11 मुंबई हमले के आरोपी अजमल कसाब को भी 2008 में इस जेल में रखा गया था और 2012 में उसे इसी जेल के अंदर फांसी दी गई थी.

    ये भी पढ़ें-
    पठानकोट में एक और आतंकी गिरफ्तार, 2 दिन पहले हथियार के साथ पड़के गए थे दो साथी

    बारिश में इलाके के अंदर घुस आया मगरमच्छ, गश्त लगाकर करता था शिकार, फिर...

    Tags: Central Jail, Jail, Maharashtra

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर