Home /News /maharashtra /

मनी लॉन्ड्रिंग केस में उद्धव के मंत्री अनिल परब को ED का नोटिस, संजय राउत बोले- कानूनी लड़ाई लड़ेंगे

मनी लॉन्ड्रिंग केस में उद्धव के मंत्री अनिल परब को ED का नोटिस, संजय राउत बोले- कानूनी लड़ाई लड़ेंगे

अनिल परब को ईडी की तरफ से नोटिस मिलने के बाद शिवसेना के सांसद संजय राउत ने कहा है कि इसके लिए कानूनी लड़ाई लड़ी जाएगी. (फ़ाइल फोटो)

अनिल परब को ईडी की तरफ से नोटिस मिलने के बाद शिवसेना के सांसद संजय राउत ने कहा है कि इसके लिए कानूनी लड़ाई लड़ी जाएगी. (फ़ाइल फोटो)

Maharashtra: 56 साल के अनिल परब को दिसंबर 2019 में कैबिनेट मंत्री बनाया गया था. ईडी के समन के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि इसका जवाब बाद में दिया जाएगा.

    मुंबई. पिछले हफ्ते केंद्रीय मंत्री नारायण राणे की गिरफ्तारी के बाद से महाराष्ट्र की राजनीति में हंगमा मचा है. शिवसेना और बीजेपी के बीच ज़ुबानी जंग लगातार जारी है. इस बीच प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate -ED) ने रविवार को महाराष्ट्र के मंत्री अनिल परब (Anil Parab) को पूछताछ के लिए तलब किया है. कहा जा रहा है कि ये मामला पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख से जुड़ा है. परब को मंगलवार को ED के सामने पेश होना होगा. अनिल परब के करीबियों का कहना है कि उन्हें इस तरह की नोटिस की पहले से ही उम्मीद थी. बता दें कि रत्नागिरी में राणे की गिरफ्तारी के बाद परब का एक वीडिया वायरल हुआ था. इस वीडियो में वो कथित तौर पर राणे को गिरफ्तार करने को लेकर पुलिस को हिदायत दे रहे थे.

    अनिल परब को ईडी की तरफ से नोटिस मिलने के बाद शिवसेना के सांसद संजय राउत ने कहा है कि इसके लिए कानूनी लड़ाई लड़ी जाएगी. उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा है, ‘उम्मीद के मुताबिक अनिल परब को ईडी का नोटिस मिल गया है. बहुत बढ़िया, जैसे ही जन आशीर्वाद यात्रा समाप्त हुई, अनिल परब को ED द्वारा उम्मीद के अनुरूप नोटिस भेजा गया. केंद्र सरकार ने अपना काम शुरू कर दिया. भूकंप का केंद्र रत्नागिरी था. परब जिले के प्रभारी मंत्री हैं. क्रोनोलॉजी को समझिए. हम कानूनी रूप से इस लड़ाई को लड़ेंगे. जय महाराष्ट्र.’

    ठाकरे के करीबी हैं परब
    कहा जा रहा है कि अनिल परब मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के सलाहकार है और वो उनके बेहद करीबी भी हैं. माना जा रहा है कि बीएमसी के चुनाव में परब की अहम भूमिका रहने वाली है. 56 साल के अनिल परब को दिसंबर 2019 में कैबिनेट मंत्री बनाया गया था. ईडी के समन के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि इसका जवाब बाद में दिया जाएगा.

    ये भी पढ़ें:- पिथौरागढ़ के जुम्मा में बादल फटने से 3 लोगों की मौत और 7 लापता, दर्जनों घर जमींदोज

    क्या है पूरा मामला?
    बता दें कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के खिलाफ विवादास्पद टिप्पणी के आरोप में राणे को गिरफ्तार किया गया था. बाद में अदालत ने उन्हें जमानत दे दी. राणे ने दावा किया था कि स्वतंत्रता दिवस के मौके पर अपने संबोधन में उद्धव ठाकरे ये भूल गए कि देश की आजादी को कितने साल हुए हैं. राणे ने कहा था, ‘ये शर्मनाक है कि मुख्यमंत्री को ये नहीं पता कि हमारी आजादी को कितने साल हो गए हैं. भाषण के दौरान वो पीछे मुड़कर इस बारे में पूछते नजर आए थे. अगर मैं वहां होता तो उन्हें एक जोरदार थप्पड़ मारता.’

    परब के खिलाफ कार्रवाई की मांग
    इस बीच महाराष्ट्र भाजपा अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी परमबीर सिंह और पूर्व पुलिसकर्मी सचिव वाजे से संबंधित मामलों के सिलसिले में उपमुख्यमंत्री अजित पवार तथा परिवहन मंत्री अनिल परब के खिलाफ सीबीआई जांच की मांग की है. पाटिल ने कहा, ‘प्रदेश भाजपा ने परमबीर सिंह और वाजे से संबंधित मामलों में कथित संलिप्तता के लिये उपमुख्यमंत्री अजित पवार और शिवेसना नेता तथा परिवहन मंत्री अनिल परब के खिलाफ सीबीआई जांच कराने की मांग से जुड़ा प्रस्ताव पारित किया है.’

    Tags: Maharashtra, Sanjay raut

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर