लाइव टीवी

उद्धव ठाकरे से तनातनी के बीच शरद पवार ने बुलाई अहम बैठक, NCP के सभी मंत्री होंगे शामिल
Maharashtra News in Hindi

News18Hindi
Updated: February 17, 2020, 7:57 AM IST
उद्धव ठाकरे से तनातनी के बीच शरद पवार ने बुलाई अहम बैठक, NCP के सभी मंत्री होंगे शामिल
शिवसेना ने कहा महाराष्ट्र में गठबंधन सरकार पर किसी भी तरह का कोई खतरा नहीं है.

उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) और शरद पवार (Sharad Pawar) के बीच तल्खी की प्रमुख वजह भीमा कोरेगांव मामले की जांच एनआईए को देने को लेकर है. पहले कहा गया था कि भीमा कोरेगांव मामले की जांच महाराष्ट्र पुलिस करेगी, लेकिन इसके बाद उद्धव ठाकरे ने एनआईए को इस मामले की जांच सौंपने का फैसला कर लिया. इसके बाद से पवार और ठाकरे के बीच विवाद शुरू हो गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 17, 2020, 7:57 AM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र (Maharashtra) की शिवसेना सरकार में फिलहाल सबकुछ नहीं चल रहा है. कई मुद्दों पर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ तनातनी के बीच राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) प्रमुख शरद पवार ने आज अपने घर पर एक अहम बैठक बुलाई है. इस बैठक में राज्य सरकार में शामिल एनसीपी कोटे के सभी 16 मंत्री शामिल होंगे. इस मीटिंग को लेकर कई अटकलें लगाई जा रही हैं.

उद्धव ठाकरे और शरद पवार के बीच तल्खी की प्रमुख वजह भीमा कोरेगांव मामले की जांच एनआईए को देने को लेकर बताई जा रही है. पहले कहा गया था कि भीमा कोरेगांव मामले की जांच महाराष्ट्र पुलिस करेगी, लेकिन इसके बाद उद्धव ठाकरे ने एनआईए को इस मामले की जांच सौंपने का फैसला कर लिया. इसके बाद से पवार और ठाकरे के बीच विवाद शुरू हो गया.

पवार ने ऐसे जाहिर की थी नाराजगी
शरद पवार ने शिवसेना के प्रति नाराजगी जाहिर करते हुए कहा था, 'भीमा-कोरेगांव मामले में महाराष्‍ट्र पुलिस के कुछ अधिकारियों का व्‍यवहार आपत्तिजनक था. मैं चाहता था कि इन अधिकारियों के व्‍यवहार की भी जांच की जाए, लेकिन जिस दिन सुबह महाराष्‍ट्र सरकार के मंत्रियों ने पुलिस अधिकारियों से मुलाकात की, उसी दिन शाम को 3 बजे केंद्र ने पूरे मामले को एनआईए को सौंप दिया. संविधान के मुताबिक यह गलत है, क्‍योंकि आ‍पराधिक जांच राज्‍य के क्षेत्राधिकार में आता है.'



शरद पवार ने रविवार को एल्गार परिषद मामले में आरोप लगाया था कि महाराष्ट्र में इससे पहले की देवेंद्र फडणवीस सरकार कुछ छिपाना चाहती थी, इसलिए इस मामले की जांच राष्ट्रीय जांच एजेंसी को सौंप दी गई.




congress
शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस महाराष्ट्र महाअघाड़ी नाम से गठबंधन की सरकार चला रहे हैं.


NPR को लेकर भी बढ़ी दूरियां
इसके अलावा उद्धव ठाकरे ने महाराष्ट्र में राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (NPR) को भी मंजूरी दे दी है. ठाकरे ने कहा कि एनपीआर में जनता के खिलाफ कुछ भी नहीं है. हालांकि, एनसीपी और कांग्रेस इससे इत्तेफाक नहीं रखती. ऐसे में एनपीआर को लेकर भी पवार और ठाकरे में तनातनी है.

शिवसेना और कांग्रेस में भी खींचतान जारी
इस बीच कभी एक-दूसरे की धुर विरोधी रही शिवसेना और कांग्रेस के बीच विभिन्‍न मुद्दों लेकर तनातनी जारी है. सावरकर का मुद्दा अभी ठंडा नहीं पड़ा था कि नागरिक संशोधन अधिनियम और राष्ट्रीय जनसंख्या सूची (NPR) को लेकर शिवसेना-कांग्रेस में ठन गई है. महाराष्‍ट्र में कांग्रेस प्रवक्ता सचिन सावंत ने कहा है कि एनपीआर के प्रावधानों पर कांग्रेस का विरोध है. इस संबंध में कांग्रेस के मंत्री सरकार से बात करेंगे. (एजेंसी इनपुट के साथ)

ये भी पढ़ें:- Delhi Results पर शिवसेना ने कहा- केजरीवाल हनुमान भक्त के लिए जनता बन गई थी राम

महाराष्ट्र सरकार अप्राकृतिक और अवास्तविक, अगली बार अकेले लड़ेंगे चुनाव: जेपी नड्डा

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए महाराष्ट्र से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 17, 2020, 7:34 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading