BMC लॉन्च करेगी मिशन यूनिवर्सल टेस्टिंग, बिना पर्चे के घर पर जांच कर सकेंगे लोग, आधे घंटे में आएंगे नतीजे!

बीएमसी मिशन यूनिवर्सल टेस्टिंग प्रोग्राम लॉन्च करने जा रही है.
बीएमसी मिशन यूनिवर्सल टेस्टिंग प्रोग्राम लॉन्च करने जा रही है.

बीएमसी (BMC) के इस मिशन के तहत कॉर्पोरेट घराने भी अपने कर्मचारियों के लिए ये किटें खरीदकर उनका परीक्षण कर सकते हैं. 70 साल से ऊपर के बुजुर्ग बिना किसी पर्चे के घर पर कोरोना वायरस (Coronavirus) की जांच कर सकते हैं.

  • Share this:
मुंबई. बृह्नमुंबई महानगर पालिका (Brihanmumbai Mahanagar Palika) जल्द ही मिशन यूनिवर्सल टेस्टिंग (Mission Universal Testing) प्रोग्राम लॉन्च करने जा रही है. इसके लिए बीएमसी (BMC) को 1 लाख एंटीजेन टेस्ट किट मुहैया कराई जाएंगी. इन किट्स से आधे घंटे में परिणाम प्राप्त हो जाएंगे. बीएमसी की तरफ से प्राइवेट अस्पतालों को एंटीजन टेस्टिंग किट खरीदने के निर्देश दिए गए हैं. कॉर्पोरेट घराने भी अपने कर्मचारियों के लिए ये किटें खरीदकर उनका परीक्षण कर सकते हैं. 70 साल से ऊपर के बुजुर्ग बिना किसी पर्चे के घर पर ये परीक्षण कर सकते हैं.

बता दें महाराष्ट्र (Maharashtra) में कोरोना वायरस (Coronavirus) के सबसे ज्यादा केस हैं. आखिरी अपडेट मिलने तक राज्य में एक लाख 35 हजार से ज्यादा लोग संक्रमित पाए जा चुके हैं. ऐसे में सरकार पर भी ज्यादा लोगों की जांच करने का दबाव है जिससे कि संक्रमितों की पहचान कर जल्द से जल्द मरीजों को इलाज मुहैया कराया जा सके. इससे पहले सोमवार को आईसीएमआर (ICMR) की एक रिपोर्ट में खुलासा हुआ था कि महाराष्‍ट्र में कोरोना संक्रमण की सकारात्‍मकता दर सबसे ज्‍यादा है. राज्य में महाराष्‍ट्र में कोविड-19 पॉजिटिविटी रेट (Covid-19 Positivity Rate) 31.76% है जबकि यहां 7,70,711 सैंपल टेस्‍ट किए गए हैं. सरकार इसी संख्या को बढ़ाना चाहती है जिसके चलते बीएमसी इस टेस्टिंग प्रोग्राम को लॉन्च करने जा रही है जिससे कि अस्पतालों में 70 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को जांच के लिए न जाना पड़े. इसके अलावा कॉर्पोरेट घरानों के कर्मचारियों की जांच करने से भी सरकार पर पड़ने वाला बोझ काफी हद तक कम हो जाएगा.

ये भी पढ़ें- ‘कैदी के कोरोना संक्रमित पाए जाने के 48 घंटे के भीतर परिवार को दी जाए सूचना’



मुंबई में कम हो रहे केस पर बाकी शहरों की परेशानी बढ़ी
वहीं एक रिपोर्ट में यह भी पता चला है कि मुंबई में कोरोना के प्रतिदिन आने वाले नए मामलों (New Covid-19 Cases) में कमी आई है. हालांकि आस-पास के शहरों में मरीजों की संख्या बढ़ी है. अब महाराष्ट्र के कुल कोरोना मामलों में मुंबई का प्रतिशत 34 ही रह गया है. इससे पहले जब मार्च महीने में कोरोना के मामले आना शुरू हुए थे तब मुंबई में पूरे राज्य के 30 प्रतिशत मरीज थे. इसके बाद अप्रैल और मई महीने में मुंबई में बहुत तेजी के साथ नए मामले सामने आए.

अप्रैल के आखिरी तक मुंबई में राज्य के कुल मरीजों का 67 प्रतिशत हिस्सा था. जो मई महीने में घटकर 58 प्रतिशत रह गया था.

ये भी पढ़ें- जानिए डायग्नोस्टिक और एंटीबॉडी टेस्ट से कैसे होती है, कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज की जांच!

ठाणे में स्कूल में बनाया गया कोविड सेंटर
राज्य में बढ़ते मामलों को देखते हुए ठाणे शहर में नगर निगम ने एक शैक्षणिक संस्थान के परिसर में 700 बिस्तरों वाला कोविड-19 केंद्र स्थापित किया है. एक अधिकारी ने कहा कि ठाणे नगर निगम ने विद्या प्रसारक मंडल (वीपीएम) की सात इमारतों के 70 कमरों में कोविड-19 मरीजों के इलाज की सुविधा उपलब्ध कराई है. यहां पहले कक्षाएं संचालित होती थी. (भाषा के इनपुट सहित)

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज