महाराष्ट्र सरकार ने मराठा छात्रों के लिए आरक्षण कोटा में किया संशोधन

असेंबली ने पीजी मेडिकल प्रवेश में मराठा छात्रों के लिए कोटा में संशोधन किया है. सरकार ने इससे पहले एक अध्यादेश जारी किया था.

News18Hindi
Updated: June 21, 2019, 5:43 AM IST
महाराष्ट्र सरकार ने मराठा छात्रों के लिए आरक्षण कोटा में किया संशोधन
देवेन्द्र फण्डनवी
News18Hindi
Updated: June 21, 2019, 5:43 AM IST
महाराष्ट्र विधानसभा ने गुरुवार को सामाजिक और शैक्षणिक रूप से पिछड़े वर्गों के लिए (एसईबीसी) अधिनियम 2018 के तहत एक संशोधन पारित किया, जिससे मराठा छात्रों को स्नातकोत्तर (पीजी) चिकित्सा और दंत चिकित्सा प्रवेश में आरक्षण दिया जाएगा.

कोटा में संशोधन 

असेंबली ने पीजी मेडिकल प्रवेश में मराठा छात्रों के लिए कोटा में संशोधन किया है. सरकार ने इससे पहले एक अध्यादेश जारी किया था. मालूम हो कि महाराष्ट्र विधानमंडल ने पिछले साल 29 नवंबर को सरकार द्वारा सामाजिक और शैक्षणिक रूप से पिछड़े वर्ग (एसईबीसी) के रूप में घोषित मराठों के लिए शिक्षा और सरकारी नौकरियों में 16 प्रतिशत आरक्षण का प्रस्ताव पारित किया था.

छात्रों ने पहले बॉम्बे हाईकोर्ट का किया था रुख 

पोस्ट-ग्रेजुएट मेडिकल पाठ्यक्रमों में 2 नवंबर से दाखिले शुरू हो गए थे. इसके बाद ओपन कैटेगरी के छात्रों ने पहले बॉम्बे हाईकोर्ट का रुख किया था. इसके बाद आरक्षण खत्म कर दिया गया था. वहीं, पिछले महीने बॉम्बे हाईकोर्ट की नागपुर पीठ ने कहा था कि एसईबीसी श्रेणी के तहत मराठा समुदाय के लिए 16 प्रतिशत आरक्षण इस साल के स्नातकोत्तर चिकित्सा पाठ्यक्रमों के लिए लागू नहीं होगा.

सुप्रीम कोर्ट ने भी हाईकोर्ट का आदेश रखा बरकरार

इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने भी हाईकोर्ट के आदेश को बरकरार रखा था. पिछले महीने राज्य सरकार ने पीजी मेडिकल पाठ्यक्रमों के लिए मराठा आरक्षण के लिए अध्यादेश लाने के लिए चुनाव आयोग (ईसी) से अनुमति ली थी. तब पहले से किए गए प्रवेशों को बहाल करने के लिए अध्यादेश जारी किया गया था.
Loading...

ये भी पढ़ें- 

बच्चों की मौत से आहत हैं मीसा, PM के डिनर में जाने से इनकार

लू पीड़ितों से मिलने गया पहुंचे नीतीश, डिप्टी CM भी थे सा
First published: June 21, 2019, 5:39 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...