महाराष्ट्र सरकार की चेतावनी, जनवरी-फरवरी में आ सकती है कोरोना की दूसरी लहर

देश के कई राज्यों में अभी से कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ने लगी है.
देश के कई राज्यों में अभी से कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ने लगी है.

राज्य सरकार के स्वास्थ्य सेवा निदेशालय की ओर से जारी सर्कुलर में कहा गया है कि यूरोप में जो हो रहा है उसके आधार पर दूसरी लहर की आशंका जताई जा रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 13, 2020, 3:28 PM IST
  • Share this:
मुंबई. अगले साल जनवरी-फरवरी में कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर आने की आशंका जताते हुए महाराष्ट्र सरकार ने अधिकारियों से कहा है कि जांच में किसी प्रकार की कोताही नहीं बरती जाए. राज्य सरकार के स्वास्थ्य सेवा निदेशालय से 11 नवंबर को जारी एक सर्कुलर में कहा गया है कि अगले साल जनवरी-फरवरी में महामारी की दूसरी लहर आने की आशंका है.

राज्य सरकार के स्वास्थ्य सेवा निदेशालय की ओर से जारी सर्कुलर में कहा गया है कि यूरोप में जो हो रहा है उसके आधार पर दूसरी लहर की आशंका जताई जा रही है. सर्कुलर में कहा गया है कि अक्टूबर से महाराष्ट्र में कोविड-19 के मामलों में कमी देखी गई है. कोरोना वायरस की दूसरी लहर से कई देश प्रभावित हुए हैं खास तौर से यूरोप में इसका काफी असर देखा जा रहा है. सर्कुलर के अनुसार कोरोना वायरस की जांच में किसी प्रकार की कोताही नहीं बरती जानी चाहिए और सभी प्रयोगशालाएं भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद के दिशा-निर्देशों के अनुरूप काम करें.

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, प्रत्येक दस लाख लोगों पर 140 जांच होनी चाहिए. सरकार की ओर से जारी इस दस्तावेज में कहा गया है कि सभी जिलों में एवं नगर निगम के दायरे में कोविड-19 जांच के लिए प्रयोगशालाएं होनी चाहिए. इसमें कहा गया है कि यह समय की मांग है कि हम कोविड-19 के मरीजों एवं जिन लोगों को सांस लेने में समस्या है, उनके स्वास्थ्य हित को ध्यान में रखते हुए पटाखा मुक्त दीपावली मनाएं.
इसे भी पढ़ें :- Coronavirus Updates: देश में 24 घंटे में मिले कोरोना के 44879 नए मरीज, फिर डरा रही दिल्ली



सर्कुलर में लोगों से अपील की गई है कि वे अनावश्यक यात्रा से बचें एवं तनाव न लें. महाराष्ट्र में 12 नवंबर तक कोरोना वायरस संक्रमण के 17,36,329 मामले सामने आ चुके हैं और 45,682 की मौत हो चुकी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज