महाराष्ट्रः बच्चों को मिड-डे मील की जगह पहुंचा दिया पशु आहार, मेयर ने की जांच की मांग

सरकारी स्कूल के बच्चों को दिए जाने वाले मिड-डे मील की सप्लाई में पशुओं को खिलाने वाले आहार के पैकट की सप्लाई पकड़ी गई है.

सरकारी स्कूल के बच्चों को दिए जाने वाले मिड-डे मील की सप्लाई में पशुओं को खिलाने वाले आहार के पैकट की सप्लाई पकड़ी गई है.

Pune Mid-Day Meal: कोरोना की वजह से महाराष्ट्र में बच्चों के लिए सरकारी स्कूल फिलहाल बंद हैं, लेकिन स्कूलों को निर्देश है कि उन्हें बच्चों के मिड-डे मील को उनके घरों तक पहुंचाना है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 19, 2021, 9:28 PM IST
  • Share this:

पुणे. महाराष्ट्र (Maharashtra) के पुणे जिले में सरकारी स्कूल के बच्चों को मिलने वाले मिड-डे मील (Mid-Day Meal) में बड़ी लापरवाही सामने आई है. सरकारी स्कूल में बच्चों को बांटने के लिए खाना या कोई अन्य सूखा पदार्थ नहीं बल्कि पशुओं का चारा भेजा गया है. स्कूल में पशुओं का चारा (Cattle fodder) प्रशासन द्वारा भेजे जाने के बाद शिक्षक और अधिकारी भी हैरान हैं.

वहीं, इस पूरे मामले पर पुणे के मेयर का कहना है, 'मिड-डे मील योजना राज्य सरकार द्वारा चलाई जाती है. छात्रों के बीच केवल वितरण के लिए नगर निगम जिम्मेदार है. यह दुर्भाग्यपूर्ण है.' न्यूज एजेंसी ANI से बातचीत के दौरान पुणे के मेयर ने इस मामले में जांच की मांग की है.


FSSAI ने जब्त किए पशु चारे के पैकेट
स्थानीय लोगों को जब बच्चों के मिड-डे मील की सप्लाई में पशुचारे के होने की जानकारी मिली तो उन्होंने इसकी शिकायत भारतीय खाद्य संरक्षा एवं मानक प्राधिकरण (FSSAI) से की. शिकायत मिलने के बाद FSSAI ने सप्लाई में आए पशुचारे के सारे पैकेटों को जब्त कर लिया है और मामले की जांच की जा रही है. मामला पुणे के सरकारी स्कूल नंबर 58 का है.

ये भी पढ़ें: स्वास्थ्य मंत्री ने अफवाहों को किया खारिज, बोले- कोविड टीके पूरी तरह सुरक्षित, भ्रमित होने की जरूरत नहीं

घर तक पहुंचाया जा रहा है मिड-डे मील



कोरोना की वजह से महाराष्ट्र में बच्चों के लिए सरकारी स्कूल फिलहाल बंद हैं, लेकिन स्कूलों को निर्देश है कि उन्हें बच्चों के मिड-डे मील को उनके घरों तक पहुंचाना है. इसके लिए स्थानीय अधिकारियों से कहा गया है कि वे बच्चों के घरों में मिड-डे मील पहुंचाना सुनिश्चित करें.

उल्लेखनीय है कि देश के कई हिस्सों में सरकारी स्कूल के बच्चों को दिए जाने वाले मिड-डे मील में इस तरह की लापरवाही मामले पहले भी सामने आ चुके हैं. मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश में मिड-डे मील खाने में कीड़े जैसी चीजें कई बार मिल चुकी हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज