वाशिम में भीड़ जमा होने के मामले में महाराष्ट्र के मंत्री संजय राठौड़ की मुश्किलें बढ़ीं

महाराष्ट्र में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं

महाराष्ट्र में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं

Maharashtra News: वाशिम के एसपी वसंत परदेशी का कहना है कि इस मामले कोरोना के नियमों का ना पालन करने के आरोप में 8-10 हजार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 24, 2021, 6:15 PM IST
  • Share this:
मुंबई. शिवसेना नेता और महाराष्ट्र सरकार में कैबिनेट मंत्री संजय राठौड़ (Sanjay Rathore) की मुश्किलें कम होती नज़र नहीं आ रही है. मंत्री संजय राठौड़ का नाम पुणे में हुए पूजा चव्हाण की खुदकुशी मामले में आया था और अब महाराष्ट्र के वाशिम में पोरवदेवी मंदिर के दर्शन के समय उनके साथ दस हजार से ज्यादा की भीड़ पहुंच गई. महाराष्ट्र में कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं, और सरकार सभी से अनुरोध कर रही है कि कोरोना के नियमों का पालन करें, उसी समय सरकार के ही एक कैबिनेट मंत्री के मंदिर दर्शन के समय दस हजार से ज्यादा लोगों की भीड़ जमा होना, उद्धव सरकार के लिए गले की फांस बन गया है. यही वजह है अब सरकार ने पूरे मामले के जांच के आदेश दिए.

महाराष्ट्र के वाशिम जिले के पोरवादेवी मंदिर के आस-पास मंगलवार को दस हजार से ज्यादा लोगों की भीड़ जमा हो गई. दरहसल पूजा चव्हाण खुदकुशी मामले में शिवसेना नेता और महाराष्ट्र के कैबिनेट मंत्री संजय राठौड़ का नाम आने के 15 दिन बाद पहली बार संजय राठौड़ सामने आए थे. उनके साथ-साथ मंदिर के पास हजारों लोग जमा होने लगे. कोरोनकाल में भीड़ के इधर-उधर करने के लिए पुलिस ने लाठी चार्ज भी किया. जिसके बाद विपक्ष ने मुद्दा उठाया लिया की कोरोनाकाल में इतनी भीड़ कैसे हुई. इस घटना से खुद महाराष्ट्र सरकार भी काफी ज्यादा नाराज़ दिखी. यह वजह से ही पुलिस ने उसी दिन कोरोना के नियमों का पालन न करने की वजह से दस हजार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया.

8-10 हजार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज
वाशिम के एसपी वसंत परदेशी का कहना है कि इस मामले कोरोना के नियमों का ना पालन करने के आरोप में 8-10 हजार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है. इस घटना से खुद एनसीपी प्रमुख शरद पवार काफी ज्यादा नाराज़ थे. सीएम उद्धव ठाकरे ने भी इस मामले को काफी गंभीरता से लेते हुए कार्रवाई करने के आदेश दिए थे.



महाराष्ट्र सरकार में मंत्री नवाब मलिक का कहना है कि वाशिम के पोरवादेवी मंदीर में कैसे 10 हजार लोग पहुंचे, इस पर सीएम ने जांच के आदेश दिए है. क्या वो भीड़ किसी नेता और मंत्री के कहने पर पहुंची वो जांच के बाद पता चलेगा. पर मंत्री हो या कोई नेता, अगर जांच में दोषी पाया जाता है तो कार्रवाई जरूर होगी. हालांकि की पूरे मामले में महाराष्ट्र सरकार दावे कर रही है वो जांच करा रही और कोई भी नेता या मंत्री अगर जांच में दोषी पाया जाता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई जरूर होगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज