लेटर बम: अनिल देशमुख को लेकर अपने दावे पर घिरे शरद पवार, बीजेपी ने वीडियो जारी कर उठाए सवाल

शरद पवार ने की प्रेस कॉन्‍फ्रेंस. (pic- ANI)

शरद पवार ने की प्रेस कॉन्‍फ्रेंस. (pic- ANI)

एनसीपी प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) ने सोमवार को कहा कि जिन तारीखों के बीच अनिल देशमुख पर आरोप लगाए गए हैं, उस दौरान यानी 5 से 15 फरवरी के बीच अनिल देशमुख अस्‍पताल में भर्ती थे. बीजेपी ने देशमुख का एक पुराना वीडियो जारी करते हुए पवार के इस दावे पर सवाल उठाए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 22, 2021, 2:58 PM IST
  • Share this:
मुंबई. मुंबई (Mumbai) के पूर्व पुलिस कमिश्‍नर परमबीर सिंह (Param Bir Singh) की ओर से महाराष्‍ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) पर लगाए गए आरोपों के बाद उत्‍पन्‍न हुआ सियासी भूचाल थमने का नाम नहीं ले रहा है. सोमवार को इस सिलसिले में एनसीपी प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) ने प्रेस कॉन्‍फ्रेंस की. इस दौरान उन्‍होंने साफतौर पर कहा कि अनिल देशमुख को इस्‍तीफा देने की कोई जरूरत नहीं है. हालांकि इस दौरान उनकी ओर से किए गए एक दावे पर बीजेपी ने उनपर हमला बोला है.

एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने सोमवार को कहा कि जिन तारीखों के बीच अनिल देशमुख पर आरोप लगाए गए हैं, उस दौरान यानी 5 से 15 फरवरी के बीच अनिल देशमुख अस्‍पताल में भर्ती थे. उसके बाद वह कुछ दिन के लिए क्‍वारंटाइन भी हुए थे. इसके बाद मीडियाकर्मियों ने भी उनसे कई सवाल किए. इस पर शरद पवार ने कुछ दस्‍तावेज दिखाते हुए अपने दावे को पुष्‍ट किया. उनके इस दावे पर बीजेपी की ओर से अमित मालवीय ने निशाना साधा.

अमित मालवीय ने अनिल देशमुख का एक पुराना ट्वीट रिट्वीट किया. इस ट्वीट के अनुसार अनिल देशमुख 15 फरवरी को ही एक प्रेस कॉन्‍फ्रेंस को संबोधित कर रहे थे.

हालांकि अनिल देशमुख ने साफ किया है कि, '15 फरवरी को अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद मैंने अस्पताल के ही कैंपस में पत्रकारों से बात की थी. 15 फरवरी से 27 फरवरी तक मैं होम क्‍वारंटाइन था.'
Youtube Video


वहीं शरद पवार ने यह भी साफ कहा कि अनिल देशमुख पर जो आरोप लगाए जा रहे हैं, उनमें कोई दम नहीं है. इसलिए ऐसे में उनका इस्‍तीफा देने का कोई सवाल ही नहीं होता है. उनके मुताबिक इस विवाद से महाराष्‍ट्र सरकार पर कोई असर नहीं पड़ेगा. ये आरोप सिर्फ ध्‍यान भटकाने के लिए हैं. जिन अफसर ने यह आरोप लगाए हैं वह स्‍वयं संदेह के घेरे में हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज