महाराष्ट्र में कोविड-19 के 9,350 नए मामले आए, 388 मौतें हुईं; 15,176 लोग ठीक हुए

मुंबई में संक्रमण के 572 मामले आए तथा 14 और मौतें हुईं (सांकेतिक तस्वीर)

Coronavirus Cases in Maharashtra: महाराष्ट्र में पिछले 24 घंटों में 15,176 मरीजों को अस्पतालों से छुट्टी दे दी गई, जिससे ठीक होने वाले लोगों की कुल संख्या बढ़कर 56,69,179 हो गई.

  • Share this:
    मुंबई. महाराष्ट्र में मंगलवार को कोरोना वायरस (Coronavirus Cases in Maharashtra) के 9,350 नए मामले आए, जिससे राज्य में संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 59,24,773 हो गए, जबकि 388 और मौतें होने से राज्य में मृतकों की संख्या बढ़कर 1,14,154 तक पहुंच गई. राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने यह जानकारी दी. स्वास्थ्य विभाग के एक बयान में कहा गया है कि पिछले 24 घंटों में 15,176 मरीजों को अस्पतालों से छुट्टी दे दी गई, जिससे ठीक होने वाले लोगों की कुल संख्या बढ़कर 56,69,179 हो गई.

    स्वास्थ्य विभाग ने कहा कि राज्य में अब 1,38,361 मरीजों का उपचार चल रहा है. सोमवार को, राज्य में कोविड​​-19 के 8,129 मामले आए थे, जो दो मार्च के बाद सबसे कम थे और 200 मौतें हुई थीं. बयान में कहा गया है कि 2,02,638 और लोगों की कोरोना वायरस की जांच की गई, जिससे राज्य में अब तक जांचे गए नमूनों की कुल संख्या 3,84,18,130 हो गई है.

    ये भी पढ़ें- कोरोना की उत्पत्ति की जांच में सहयोग देगा चीन? जानिए क्या बोले UNGA अध्यक्ष

    बयान में कहा गया कि राज्य की कोविड​​-19 रिकवरी दर 95.69 प्रतिशत है, जबकि मामले की मृत्यु दर 1.93 प्रतिशत है.

    बयान में कहा गया है कि मुंबई में संक्रमण के 572 मामले आए तथा 14 और मौतें हुईं, जिससे महानगर में संक्रमण के मामलों की संख्या 7,16,351 और मृतक संख्या 15,216 हो गई.

    कोविड-19 के नए स्वरूप का पता लगाने के लिए जीनोम अनुक्रमण के लिए भेजे गए सैंपल
    वहीं महाराष्ट्र सरकार ने विभिन्न जिलों से पर्याप्त संख्या में एकत्र किए गए नमूनों को जीनोम अनुक्रमण के लिए भेजा है ताकि यह पता लगाया जा सके कि कहीं सार्स-सीओवी-2 का कोई नया स्वरूप तो सामने नहीं आया है. इसका उद्देश्य कोविड-19 के 'डेल्टा प्लस' स्वरूप की पहचान करना है. एक अधिकारी ने पुणे में यह जानकारी दी.

    ये भी पढ़ें- पूर्व चीनी अधिकारी ने दिया 'बफर जोन' का सुझाव,कहा- भारत-चीन में बढ़ेगा विश्वास

    उन्होंने बताया कि बेहद तेजी से फैलने वाले कोविड-19 के डेल्टा स्वरूप ने खुद में और बदलाव करते हुए डेल्टा प्लस स्वरूप में बदल गया है और ऐसा माना जा रहा है कि हाल ही में कोविड-19 के उपचार के लिए अनुमत की गई मोनोक्लोनॉल एंटीबॉडी कॉकटेल थेरेपी भी बहुत कारगर नहीं है.

    राज्य निगरानी अधिकारी डॉ प्रदीप अवाटे ने कहा, '' हमने विभिन्न जिलों से नमूने एकत्र कर जांच के लिए भेजे हैं ताकि डेल्टा प्लस स्वरूप की उपस्थिति के बारे में पता लगाया जा सके. इनके नतीजे मंगलवार तक प्राप्त होने की उम्मीद है.''

    (Disclaimer: यह खबर सीधे सिंडीकेट फीड से पब्लिश हुई है. इसे News18Hindi टीम ने संपादित नहीं किया है.)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.