अपना शहर चुनें

States

महाराष्ट्र : 13 साल की दो स्कूली छात्राओं ने खोजे 6 एस्ट्रॉयड, पूर्व राष्ट्रपति कलाम से मिली प्रेरणा

(प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)
(प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)

लोहेगांव स्थित विखे पाटिल मेमोरियल स्कूल में पढ़ाई करने वालीं दोनों छात्राएं 9 नवंबर से लेकर 3 दिसंबर तक आयोजित हुए विश्वस्तरीय कार्यक्रम का हिस्सा बनीं. उन्होंने 6 शुरुआती एस्ट्रॉयड की खोज की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 23, 2020, 1:30 PM IST
  • Share this:
मुंबई. स्पेस साइंस (Space Science) में रुचि रखने वाली महाराष्ट्र की दो छात्राओं ने एस्ट्रॉयड (Asteroid) की खोज की है. 13 साल की दो स्कूली छत्राओं आर्या पुलाटे (Arya Pulate) और श्रेया वाघमारे (Shreya Waghmare) ने 6 शुरुआती एस्ट्रॉयड का पता लगाया है. दोनों छात्राओं ने कलाम सेंटर एस्ट्रॉयड सर्च कैंपेन में हिस्सा लिया था. इस अभियान का आयोजन कलाम सेंटर ने इंटरनेशनल एस्ट्रोनॉमिकल सर्च कोलेबोरेशन (IASC) के साथ मिलकर किया था. इस अभियान के तहत शामिल हुए लोगों को पृथ्वी के नजदीक चीजें या मेन बेल्ट एस्ट्रॉयड खोजने का मौका दिया था.

स्पेस साइंस में दिलचस्पी रखने वाली आर्या ने घर में पर अपना समय एस्ट्रोनॉमी पर ऑनलाइन वेबिनार और कोर्स देखते हुए बिताया है. वह कहती हैं, 'मैं होमी लैब्स आयोजित वेबिनार और कोर्स देख रही थी. इस दौरान मैंने एक कोर्स अटेंड किया था, जिसका नाम मेकिंग ऑफ एन एस्ट्रोनॉट विद सुनीता विलियम्स (Sunita Williams) था और इसमें हुई बातों ने मुझे प्रेरित किया.' वहीं, ऑनलाइन कोर्स में शामिल आर्या ने जाकर कलाम सेंटर एस्ट्रॉयड सर्च कैंपेन में दाखिला ले लिया. उन्होंने बताया, 'मुझे दो लोगों के साथ टीम बनाने की जरूरत थी इसलिए मैंने अपनी दोस्त श्रेया के साथ टीम बनाई.'

इसके बाद हुई कठिन चयन प्रक्रिया में दोनों सफल हुईं. बाद में दोनों छात्राएं 9 नवंबर से लेकर 3 दिसंबर तक आयोजित हुए विश्वस्तरीय कार्यक्रम का हिस्सा बनीं. श्रेया ने बताया, 'हमें कलाम सेंटर्स के सदस्यों के साथ ऑनलाइन मीटिंग के जरिए ट्रेन किया गया. एस्ट्रोमैट्रिका नाम के एक सॉफ्टवेयर के साथ हमारा परिचय कराया गया.' उन्होंने बताया, 'इसे हमें अपनी डिवाइस पर रखना होता है और यह सेलेस्टियल बॉडीज (Celestial Bodies) का पता लगाने में हमारी मदद करता है.'

दोनों छात्राएं लोहेगांव स्थित विखे पाटिल मेमोरियल स्कूल में पढ़ाई करती हैं. आर्या कहती हैं कि एस्ट्रॉयड खोजने का अनुभव बहुत ही शानदार रहा. खास बात है कि डॉक्टर एपीजे अब्दुल कलाम (Dr APJ Abdul Kalam) के बारे में पढ़ने के बाद उन्हें स्पेस में दिलचस्पी आई थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज