होम /न्यूज /महाराष्ट्र /मराठा आरक्षण : हिंसक हुआ प्रदर्शन, औरंगाबाद में बंद की गई इंटरनेट सर्विस

मराठा आरक्षण : हिंसक हुआ प्रदर्शन, औरंगाबाद में बंद की गई इंटरनेट सर्विस

मराठा आरक्षण  को लेकर प्रदर्शन करते प्रदर्शनकारी.

मराठा आरक्षण को लेकर प्रदर्शन करते प्रदर्शनकारी.

औरंगाबाद में जलसमाधि आंदोलन के दौरान एक आंदोलनकारी काका साहेब दत्तात्रेय शिंदे ने गोदावरी नदी में छलांग लगाकर जान दे दी ...अधिक पढ़ें

    मराठा आरक्षण को लेकर मंगलवार को बुलाए गए बंद का असर दिखने लगा है. विरोध प्रदर्शन को देखते हुए महाराष्‍ट्र में स्‍कूल और कॉलेजों को बंद कर दिया गया है. मामले की गंभीरता को देखते हुए औरंगाबाद में इंटरनेट सेवाएं पूरी तरह से रोक दी गईं हैं. बंद का सबसे ज्‍यादा असर मराठवाड़ा इलाके में देखने को मिल रहा है.

    आरक्षण की मांग पूरी न होने से नाराज मराठा मोर्चा ने मंगलवार को महाराष्‍ट्र में बंद का ऐलान किया है. बताया जाता है कि औरंगाबाद में जलसमाधि आंदोलन के दौरान एक आंदोलनकारी काका साहेब दत्तात्रेय शिंदे ने गोदावरी नदी में छलांग लगाकर जान दे दी थी. उसकी मौत के बाद इस प्रदर्शन ने उग्र रूप ले लिया है. हालांकि इस आंदोलन में मुंबई, सतारा, सोलापुर और पुणे को शामिल नहीं किया गया है.

    ये भी पढ़ेंः आरक्षण की मांग को लेकर की आत्महत्या, हिंसक हुआ मराठा आंदोलन

    महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने इस घटना को दुर्भाग्‍यपूर्ण बताया है और मृतक के परिवार को मुआवजा और भाई को नौकरी देने का वादा प्रशासन की ओर से किया गया है.

    ये भी पढ़ेंः  मराठा मोर्चा का आंदोलन खत्म, CM फडणवीस ने छात्रों के लिए स्कॉलरशिप का किया ऐलान

    मराठा आंदोलन उग्र होने की वजह से उस्मानाबाद शहर में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है. औरंगाबाद-पुणे मार्ग भी बंद है. यहां मराठा क्रांति मोर्चा समन्वय समिति के सदस्य विरोध-प्रदर्शन कर रहे हैं. औरंगाबाद में सरकारी बसों की सेवा मंगलवार को बंद है.

    आरक्षण की मांग करने वाले मराठा समूह के संयोजक रविन्द्र पाटिल ने बताया, ‘‘ जब तक मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस मराठा समुदाय से माफी नहीं मांग लेते हम अपना प्रर्दशन जारी रखेंगे. हम औरंगाबाद और राज्य के अन्य हिस्सों में आज बंद रखेंगे. कुछ मराठा समूहों ने भविष्य में मुंबई में भी प्रदर्शन करने की योजना बनायी है.

    मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने मराठा संगठनों की धमकी के बाद पंढरपुर की अपनी यात्रा स्थगित कर दी. मराठा संगठनों ने कहा था कि वो यात्रा में बाधा पहुंचाएंगे.




    उधर महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के प्रमुख राज ठाकरे ने मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस पर प्रस्तावित महा भर्ती अभियान में मराठा समुदाय के लिए नौकरियों में आरक्षण के मुद्दे पर समुदाय को 'गुमराह' करने का आरोप लगाया है. ठाकरे ने कहा, 'मुख्यमंत्री झूठ बोल रहे हैं. वह यह कहकर लोगों को गुमराह कर रहे हैं कि बंबई उच्च न्यायालय के समुदाय के लिए आरक्षण को मंजूरी देने पर सरकार बैकलॉग के रूप में मराठा उम्मीदवारों को 72,000 पदों में से 16 प्रतिशत पद आवंटित कर देगी. वह आम लोगों को गुमराह कर रहे हैं.'

    खबर यह भी आ रही है कि पंढरपुर में आयोजित वारी (एक धार्मिक यात्रा) में भाग लेने के लिए श्रद्धालुओं से भरी बस पिछली रात से लातूर बस स्टैंड पर फंसी हुई है. लोगों का कहना है कि वहां कोई स्टाफ नहीं हैं और उनके पैसे भी नहीं लौटाए गए हैं और उन्हें अपने रिस्क पर आगे जाने को कहा गया है.

    Tags: Maharashtra

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें