लाइव टीवी

आरे मामला : सुप्रीम कोर्ट ने कहा-मेट्रो प्रोजेक्ट पर कोई रोक नहीं, पेड़ नहीं कटने चाहिए

News18Hindi
Updated: October 21, 2019, 4:38 PM IST
आरे मामला : सुप्रीम कोर्ट ने कहा-मेट्रो प्रोजेक्ट पर कोई रोक नहीं, पेड़ नहीं कटने चाहिए
सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि वे सिर्फ कटाई वाले क्षेत्र को ही नहीं देखना चाहते हैं वे पूरा क्षेत्र देखना चाहते हैं. वे इस बात को सुनिश्चित करना चाहते हैं कि और पेड़ नहीं काटे जाएं. (फाइल फोटो)

शीर्ष कोर्ट (Supreme Court) ने पूछा- कितने पेड़ काटे गए, सभी के फोटो अदालत को दिखाए जाएं, साथ ही नए पौधे लगाए जाने के भी फोटो दिखाएं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 21, 2019, 4:38 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. आरे जंगल (Aarey) कटाई मामले में सोमवार को एक बार फिर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में सुनवाई हुई. इस दौरान कोर्ट ने साफ किया कि मेट्रो परियोजना (Metro Project) को रोकने के लिए कोर्ट ने कोई भी आदेश नहीं दिया है. हालांकि कोर्ट ने अब पेड़ कटाई पर रोक लगाई है और यथास्थिति बरकरार रखने का आदेश दिया है. साथ ही कोर्ट ने पूछा है कि इस परियोजना के दौरान कितने पेड़ काटे गए थे. साथ ही काटे गए पेड़ाें की जगह पर कितने नए पौधे लगाए गए हैं और उनमें से भी कितने पौधे बचे हैं.

सख्त हुआ कोर्ट
कोर्ट ने इस दौरान आदेश दिया कि उन्हें पौधों की और काटे गए पेड़ाें की तस्वीरें भी दिखाई जाएं. कोर्ट ने कहा कि आने वाले समय में आरे इलाके में पेड़ों की कटाई बिल्कुल नहीं होगी. साथ ही कोर्ट ने मेट्रो और मुंबई कॉरपोरेशन से पूछा है कि क्या इस इलाके में कोई व्यावसायिक परियोजना और भी प्रस्तावित है.

पूरे इलाके को दिखाओ

इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि वो सिर्फ कटाई वाले क्षेत्र को ही नहीं देखना चाहते हैं वो पूरा क्षेत्र देखना चाहते हैं. वो इस बात को सुनिश्चित करना चाहते हैं कि और पेड़ नहीं काटे जाएं. इसके साथ ही कोर्ट ने यह भी साफ किया कि मेट्रो परियोजना के काम पर कोई भी रोक नहीं है और इसका निर्माण हो सकता है. लेकिन पेड़ नहीं काटे जाएंगे, उसको लेकर यथास्थिति बरकरार रखी जाए.

मेट्रो के चलते दिल्ली की सड़कों पर कम हुई 7 लाख गाड़ियां
इस दौरान मुंबई मेट्रो की तरफ से पैरवी करते हुए मुकुल रोहतगी ने कोर्ट में बताया कि आदेश के बाद एक भी पेड़ नहीं काटा गया है और कोई भी बिल्डिंग प्रोजेक्ट नहीं चल रहा है. इसके साथ ही रोहतगी ने कोर्ट में जानकारी दी कि दिल्ली में मेट्रो के चलते काफी फायदा हुआ है और वहां पर 7 लाख गाड़ियों की सड़कों पर कमी हो गई है. इससे वायु प्रदूषण में काफी कमी आई है.
Loading...

500 पेड़ पहले ही लगाए
इस दौरान मुकुल रोहतगी ने बताया कि 500 पेड़ पहले ही वहां पर लगाए जा चुके हैं और सभी स्वस्‍थ्य हालत में हैं. इसके जवाब में याचिकाकर्ता ने आरोप लगाया कि जो पेड़ लगाए गए हैं वह काफी खराब स्थिति में हैं और उनका कोई रखरखाव नहीं हो रहा है. सुनवाई के बाद मुंबई मेट्रो की तरफ से मामले में जवाब दाखिल करने के लिए समय की मांग की गई जिसके बाद कोर्ट ने सुनवाई के लिए 15 नवंबर की तारीख तय की.

ये भी पढ़ेंः Assembly Election: एक महीने में मुंबई से 29 तो हरियाणा से जब्त हुए 23 करोड़

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 21, 2019, 3:40 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...