फ्लाइट के लिए नहीं थे पैसे, बुखार से तड़पते बेटे को देखने 5 दिन स्कूटर चलाकर पुणे से जमशेदपुर पहुंची महिला
Maharashtra News in Hindi

फ्लाइट के लिए नहीं थे पैसे, बुखार से तड़पते बेटे को देखने 5 दिन स्कूटर चलाकर पुणे से जमशेदपुर पहुंची महिला
पुणे से जमशेदपुर की दूरी 1800 किलोमीटर है.

महाराष्ट्र स्थित पुणे (Pune) से जमशेदपुर (JamshedPur) के सफर में सोनिया 10 पेट्रोल पंप्स और तीन ढाबों पर रुकीं. सोनिया के जमशेदपुर पहुंचने पर उनकी कोविड-19 की जांच भी हुई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 28, 2020, 11:19 AM IST
  • Share this:
जमशेदपुर. कोरोना वायरस के चलते लागू लॉकडाउन (Coronavirus Lockdown) के बीच एक महिला अपने बीमार बेटे से मिलने के लिए महाराष्ट्र से झारखंड तक दो पहिया गाड़ी से चली गई. बताया गया कि लॉकडाउन के दौरान बेरोजगार 26 वर्षीय महिला अपने बीमार पांच साल के बेटे से मिलने के लिए पुणे से जमशेदपुर (Pune To Jamshedpur) तक गईं. कदमा स्थित भाटिया बस्ती की रहने वाली सोनिया दास अपनी सहेली- साबिया बानो के साथ पुणे से 1,800 किलोमीटर का सफर तय करके शुक्रवार शाम जमशेदपुर पहुंचीं. सोमवार सुबह उनके पति ने बताया कि उनके बेटे को बुखार हो गया है.

दोनों शुक्रवार को जमशेदपुर पहुंचीं और वहां पहुंचने के तुरंत बाद उनकी कोविड जांच हुई. जमशेदपुर के डीएसपी (हेडक्वार्टर II) अरविंद कुमार ने बताया, 'हमने एंटीजन टेस्ट करवाए. नेगेटिव पाए जाने के बाद उन्हें क्वारंटाइन रहने के लिए कहा.'

'बालकनी में बेटे को देखा..'
सोनिया ने कहा कि महाराष्ट्र और झारखंड सरकार से उन्होंने ट्वीट के जरिए मदद मांगी, लेकिन कोई उम्मीद बंधती ना देख उन्होंने टू व्हीलर (स्कूटर) से आने का फैसला किया. सोनिया ने बताया, 'टाटानगर और पुणे या मुंबई के बीच कोई पैसेंजर ट्रेन नहीं है और हमारे पास हवाई टिकट खरीदने के लिए पैसे नहीं थे.' उन्होंने कहा, 'सरकार से कोई मदद नहीं मिलने के कारण मैंने गाड़ी चलाने का फैसला किया क्योंकि मैं अपने बेटे को लेकर बहुत चिंतित थी.'
सोनिया ने साथ ही कहा, 'मैंने अपने बेटे और परिवार के अन्य सदस्यों को शुक्रवार शाम को अपनी दोस्त सबिया के साथ टेल्को क्वारंटाइन सेंटर में शिफ्ट होने से पहले बालकनी में देखा.'



सोनिया मुंबई में एक प्रोडक्शन हाउस के साथ काम कर रही थीं और लॉकडाउन के दौरान उनकी नौकरी छूट गई. घर का किराया ना दे पाने की वजह से उन्हें मुंबई वाले रेंट के घर से निकाल दिया था. इसके बाद वह पुणे में साबिया के घर आ गईं. सोनिया ने बताया कि  1800 किलोमीटर के सफर में वह दस पेट्रोल पंप्स और तीन ढाबों पर रुकी थीं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading