लाइव टीवी

महाराष्ट्र में सत्ता की खींचतान, 4 निर्दलीय सहित 7 विधायकों ने दिया शिवसेना को समर्थन

News18Hindi
Updated: October 31, 2019, 7:53 AM IST
महाराष्ट्र में सत्ता की खींचतान, 4 निर्दलीय सहित 7 विधायकों ने दिया शिवसेना को समर्थन
माना जा रहा है कि बीजेपी पर मुख्यमंत्री पद को लेकर दबाव बनाने से कई बड़े व दमदार मंत्रालय शिवसेना के कोटे में आ सकते हैं.

बीजेपी (BJP) पर मुख्यमंत्री (CM) पद को लेकर दबाव बनाने से कई बड़े व दमदार मंत्रालय शिवसेना (Shiv Sena) के कोटे में आ सकते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 31, 2019, 7:53 AM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र विधानसभा (Maharashtra Assembly Election 2019) में साथ-साथ चुनाव लड़ने वाली भारतीय जनता पार्टी (BJP) और शिवसेना (Shiv Sena) के बीच खींचतान जारी है. पहले ढाई साल के लिए मुख्यमंत्री की कुर्सी की चाहत रखने वाली शिवसेना बीजेपी के सामने झुकने को तैयार नहीं है. चुनाव पूर्व गठबंधन को पूर्ण बहुमत हासिल है फिर भी राज्य में सरकार गठन को लेकर असमंजस बरकरार है. ऐसे में बताया जा रहा है कि 4 निर्दलीय विधायक, मंजुला गावित, चंद्रकांत पाटिल, आशीष जायसवाल और नरेंद्र भोंडेकर ने शिवसेना को अपना समर्थन दिया है. इसके अलावा प्रहार जनशक्ति पार्टी के बच्चू कडू और राजकुमार पटेल, क्रांतिकारी शेतकरी पार्टी के शंकरराव गडक ने भी अपना समर्थन दिया है.



बीजेपी और शिवसेना के बीच गठबंधन की पूरी कोशिशें जारी
वहीं बीजेपी और सरकार पर दबाव बनाने के लिए सामना के जरिए शिवसेना लगातार हमला कर रही है. इस पर सीएम देवेंद्र देवेंद्र फडणवीस ने भी आपत्ति जताई है. हालांकि इन सब दांवपेच के बीच अब भी बीजेपी और शिवसेना के बीच गठबंधन की पूरी कोशिशें चल रही हैं.

उद्धव ठाकरे को मनाने की कोशिश भी जारी
बीजेपी पर मुख्यमंत्री पद को लेकर दबाव बनाने से कई बड़े व दमदार मंत्रालय शिवसेना के कोटे में आ सकते हैं. फिलहाल सीएम की कुर्सी का 50-50 खेल जारी है और बीजेपी-शिवसेना दोनों के बीच आपसी सामंजस्य अब तक नहीं बन पाया है. दिल्ली लगातार बीजेपी के प्रदेश नेताओं के साथ संपर्क में है. साथ ही उद्धव ठाकरे को हिंदुत्व के मुद्दे पर मनाने की कोशिश भी लगातार जारी है.

बीजेपी-शिवसेना विवाद खत्म होने के संकेत!
Loading...

हालांकि बीजेपी और शिवसेना के बीच चल रही रस्साकशी का अंत होने के संकेत मिलने लगे हैं. शिवसेना के नेता संजय राउत की ओर से आए बयान में ऐसा संदेश मिलता दिख रहा है. साथ ही उन्होंने यह भी कहा है कि बीजेपी के साथ शिवसेना का गठबंधन टूटा नहीं है. संजय राउत ने अपने नए बयान में कहा है कि व्यक्तिगत फायदा मायने नहीं रखता, राज्य जरूरी है. जिससे यह माना जा रहा है कि बीजेपी और शिवसेना को सत्ता में सहयोग का फॉर्मूला मिल चुका है.

ये भी पढ़ें: 

शिवसेना से नहीं बनी बात तो BJP का मास्टर प्लान है तैयार, इस तरह बन जाएगी सरकार
BJP की पंकजा मुंडे को हराने वाले NCP विधायक के फ्लैट को बैंक ने कब्जे में लिया

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 30, 2019, 11:13 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...