लाइव टीवी

वोटिंग से एक दिन पहले शिवसेना ने दिखाए तेवर, BJP के लिए कही ये बात...

भाषा
Updated: October 20, 2019, 7:15 PM IST
वोटिंग से एक दिन पहले शिवसेना ने दिखाए तेवर, BJP के लिए कही ये बात...
शिवसेना ने बीजेपी पर फिर उठाया सवाल

'मुख्यमंत्री कहते रहे हैं कि चुनाव अभियान में विपक्ष ‘मौजूद नहीं है.’ सवाल उठता है कि पूरे महाराष्ट्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र (PM Narendra Modi) की 10, (केंद्रीय गृह मंत्री) अमित शाह (Amit Shah) की 30 और स्वयं फडणवीस द्वारा 100 रैलियां करने का क्या उद्देश्य है.’

  • Share this:
मुम्बई. महाराष्ट्र विधानसाभ चुनाव (Maharashtra Assembly Election) बीजेपी और शिवसेना (BJP and Shivsena) साथ मिलकर लड़ रही हैं, लेकिन उनके बीच बयानबाजी का सिलसिला भी लगातार जारी है. अब वोटिंग से ठीक एक दिन से पहले शिवसेना (Shivsena) ने फिर बीजेपी के खिलाफ बयान दिया है. शिवसेना ने सवाल के लहजे में कहा कि अगर चुनाव मैदान में विपक्ष नहीं है तो बीजेपी के शीर्ष स्तर के इतने सारे नेताओं ने यहां इतनी रैलियां क्यों की?

शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ में लिखे एक लेख में पार्टी के राज्यसभा सदस्य संजय राउत ने यह भी दावा किया कि शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के पुत्र आदित्य ठाकरे के चुनाव मैदान में उतरना आने वाले वर्षों में राज्य का राजनीतिक इतिहास बदलने वाला साबित होगा.

फडणवीस ने कहा था...
फडणवीस ने विपक्षी दलों की घटती ताकत पर निशाना साधते हुए हाल ही में कहा था कि महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों में भाजपा नीत गठबंधन से मुकाबले के लिए ‘विपक्ष के पास कोई पहलवान नहीं है.’

शरद पवार का किया समर्थन
राउत ने कहा, 'मुख्यमंत्री कहते रहे हैं कि चुनाव अभियान में विपक्ष ‘मौजूद नहीं है.’ सवाल उठता है कि पूरे महाराष्ट्र में (प्रधानमंत्री नरेंद्र) मोदी की 10, (केंद्रीय गृह मंत्री) अमित शाह की 30 और स्वयं फडणवीस द्वारा 100 रैलियां करने का क्या उद्देश्य है.’ उन्होंने कहा कि यही सवाल राकांपा प्रमुख शरद पवार द्वारा भी उठाया गया जो गलत नहीं है.

राउत ने ‘सामना’ में अपने स्तंभ ‘रोखठोक’ में लिखा, ‘यद्यपि फडणवीस ने कहा कि उनके सामने विपक्ष की कोई चुनौती नहीं है, वास्तविकता में एक चुनावी चुनौती है जिसने भाजपा नेताओं को इतनी रैलियां करने के लिए बाध्य किया’.
Loading...

आदित्य ठाकरे को लेकर किया ये ऐलान
उन्होंने कहा कि शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के पुत्र आदित्य ठाकरे के चुनाव मैदान में उतरना, आने वाले वर्षों में राज्य का राजनीतिक इतिहास बदलने वाला साबित होगा. उन्होंने दावा किया, ‘वह केवल विधानसभा में बैठने के लिए चुनाव नहीं लड़ रहे हैं बल्कि नयी पीढ़ी चाहती है कि वह राज्य का नेतृत्व करें’

आदित्य ठाकरे अपने परिवार से चुनाव मैदान में उतरने वाले पहले सदस्य हैं और वह मुम्बई के वर्ली विधानसभा सीट से चुनाव लड़ रहे हैं.

राउत ने यह भी कहा कि उनकी पार्टी राज्य की ‘भौगोलिक सीमाओं’ को अक्षुण रखने के लिए चुनाव मैदान में है. चुनाव प्रचार के दौरान फडणवीस ने कहा था कि ‘विदर्भ राज्य की मांग भाजपा का सैद्धांतिक रुख है’. उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी का मानना है कि छोटे-छोटे राज्य होने चाहिए. लेकिन इस पर फैसला कब करना है यह केंद्रीय नेतृत्व पर निर्भर करता है. शिवसेना विदर्भ क्षेत्र के लिए अलग राज्य का विरोध कर रही है.

ये भी पढ़ें:

पूर्व एनकाउंटर स्पेशलिस्ट पर वोट के लिए पैसे बांटने का आरोप, हंगामा

मुंबई पुलिस ने टेम्पो से बरामद किया 4.3 करोड़ कैश, हुआ चौंकाने वाला खुलासा!

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 20, 2019, 6:32 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...