लाइव टीवी

Aditya Thackeray: फोटोग्राफर, कवि और गीतकार के बाद अब चुनावी राजनीति में आजमा रहे हाथ

Abhishek Tiwari | News18Hindi
Updated: October 12, 2019, 8:28 AM IST
Aditya Thackeray: फोटोग्राफर, कवि और गीतकार के बाद अब चुनावी राजनीति में आजमा रहे हाथ
ठाकरे परिवार के आदित्य पहले व्यक्ति हैं जो चुनावी राजनीति में हिस्सा ले रहे हैं. (फाइल फोटो)

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव 2019 (Maharashtra Assembly Election 2019) में ठाकरे परिवार (Thackeray Family) से पहली बार कोई चुनावी राजनीति में भाग्य आजमा रहा है. ठाकरे परिवार की तीसरी पीढ़ि के सदस्य और पार्टी के भविष्य आदित्य ठाकरे (Aditya Thackeray) मुंबई (Mumbai) की वर्ली (Worli) सीट से चुनाव लड़ रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 12, 2019, 8:28 AM IST
  • Share this:
मुंबई. इस बार का महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव (Maharashtra Assembly Election 2019) शिवसेना (Shiv Sena) के लिए बेहद खास है. वर्ष 1966 में बनी इस पार्टी से पहली बार ठाकरे परिवार (Thackeray Family) का कोई सदस्य चुनावी राजनीति में प्रवेश कर रहा है. ठाकरे परिवार ने बिना चुनाव लड़े लंबे समय तक शिवसेना के जरिए मुंबई (Mumbai) और महाराष्ट्र (Maharashtra) पर 'एक तरह' से राज किया. पार्टी के संस्थापक बाल ठाकरे (Bal Thackeray) के बारे में कहा जाता था कि सरकार किसी भी पार्टी की हो या मुख्यमंत्री कोई हो, लेकिन मुंबई में चलती तो बस बाला साहब ठाकरे की ही है.

शिवसेना संस्थापक बाल ठाकरे खुद कभी चुनाव नहीं लड़े. जीवन के आखिरी समय में उन्होंने बेटे उद्धव ठाकरे को अपना उत्तराधिकारी घोषित किया. उद्धव फिलहाल शिवसेना प्रमुख हैं लेकिन अभी तक कोई चुनाव नहीं लड़े हैं और आगे भी ऐसी उम्मीद नजर नहीं आती. वहीं एक समय पर बाल ठाकरे के उत्तराधिकारी माने जाने वाले राज ठाकरे के रास्ते भले ही अलग हो गए हैं लेकिन उन्होंने भी अबतक चुनावी राजनीति में प्रवेश नहीं किया है. ऐसे में ठाकरे परिवार की तीसरी पीढ़ी का कोई सदस्य जब चुनावी राजनीति में आ रहा है तो इसकी चर्चा खूब हो रही है.

मुंबई की वर्ली सीट से लड़ रहे चुनाव
भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ रही शिवसेना ने आदित्य ठाकरे को मुंबई की वर्ली सीट से टिकट दिया है. बीते चार अक्टूबर को उन्होंने अपने दादा बाल ठाकरे की तस्वीर के सामने सिर झुकाकर आशीर्वाद लिया और नामांकन दाखिल किया. जानकार बताते हैं कि वर्ली विधानसभा क्षेत्र शिवसेना का गढ़ है. ऐसे में ठाकरे परिवार के पहले उम्मीदवार को जीत में कोई परेशानी नहीं आने वाली.

आदित्य ठाकरे के बारे में क्या जानते हैं?
जीत-हार के अपने मायने हैं. लेकिन ठाकरे परिवार के पहले चुनावी उम्मीदवार के बारे में जानना भी कम दिलचस्प नहीं है. अगर आप आदित्य ठाकरे के परिवार की राजनीतिक विरासत को छोड़ दें तो आदित्य की रुचि और उनके काम से आपको लगेगा नहीं कि वो राजनीति में आ सकते हैं. लेकिन अब जबकि वो आ गए हैं, इस पर एक नजर जरूर डालना चाहिए.

Aaditya Thackeray Shiv Sena Mumbai Worli
वर्ली विधानसभा सीट से पर्चा दाखिल करने के लिए जाने से पहले आदित्य ठाकरे. (फाइल फोटो)

Loading...

2007 में आ चुकी है आदित्य ठाकरे की पहली पोएट्री की किताब
शिवसेना के भविष्य और युवा आदित्य ठाकरे एक कवि और फोटोग्राफर हैं. उनकी पहली पोएट्री की किताब 12 साल पहले आ चुकी है. वर्ष 2007 में आदित्य की पहली कविता की किताब 'My Thoughts In White And Black' आई थी. इसी साल वो 17 वर्ष की उम्र में गीतकार बन गए. उनका 'उम्मीद' नाम से एक म्यूजिक वीडियो आया. इसमें कुल आठ गाने थे और सभी आदित्य ठाकरे ने ही लिखे थे. इस म्यूजिक वीडियो के लिए आदित्य के लिखे गीत को शंकर महादेवन, कैलाश खेर, सुरेश वाडकर और सुनिधि चौहान जैसे प्रसिद्ध गायकों ने गाया था. इतना ही नहीं, महानायक अमिताभ बच्चन ने इसे रिलीज किया था.

मुंबई यूनिवर्सिटी के सिलेबस से हटवाया था किताब
बाद में आदित्य ठाकरे पार्टी यूथ विंग 'युवा सेना' के अध्यक्ष बनाए गए. अध्यक्ष बनने के कुछ समय बाद ही मुंबई यूनिवर्सिटी के सिलेबस (पाठ्यक्रम) से कनाडा के एक लेखक की किताब को उन्होंने बाहर करवाया. उनका कहना था कि एक छात्र के माता-पिता के नाते आप उसे इस तरह की किताब नहीं पढ़ने देंगे. इस किताब का नाम 'Such A Long Journey' था.

ये भी पढ़ें-

BMW कार के मालिक हैं आदित्य ठाकरे, चुनावी हलफनामे में बताया कितनी है संपत्ति

आदित्य ठाकरे की चुनावी डेब्यू पर कन्हैया कुमार का तंज, दिया बड़ा बयान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 12, 2019, 8:12 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...