लाइव टीवी

कब खत्म होगा महाराष्ट्र का महा'संकट', CM पद को लेकर कौन कंप्रोमाइज करेगा?

Ravishankar Singh | News18Hindi
Updated: November 6, 2019, 3:11 PM IST
कब खत्म होगा महाराष्ट्र का महा'संकट', CM पद को लेकर कौन कंप्रोमाइज करेगा?
महाराष्ट्र की सियासत में सरकार बनाने को लेकर 12वें दिन भी संशय बना हुआ है.

एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार (Sharad Pawar) के बयान से साफ हो गया है कि एनसीपी-कांग्रेस (NCP-Congress) महाराष्ट्र (Maharashtra) में सरकार बनाने को लेकर कोई हड़बड़ी में नहीं है. ऐसे में सवाल उठता है कि अब शिवसेना (Shiv Sena) के पास क्या विकल्प बचे हैं?

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 6, 2019, 3:11 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. महाराष्ट्र (Maharashtra) की सियासत में सरकार बनाने को लेकर 12वें दिन भी संशय बना हुआ है. इस बीच महाराष्ट्र के साथ-साथ दिल्ली (Delhi) का भी राजनीतिक तापमान गर्मा गया है. बुधवार सुबह से ही महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर नेताओं के बीच मीटिंग का दौर चल रहा है. मौजूदा दौर में महाराष्ट्र की राजनीति का सबसे बड़ा खिलाड़ी शरद पवार (Sharad Pawar) ने भी पासा फेंक दिया है. शरद पवार ने साफ कर दिया है कि हमारी भूमिका तय है और महाराष्ट्र में बीजेपी (BJP) और शिवसेना (Shiv Sena) सरकार बनाए. ऐसे में सवाल यह उठता है कि यह बयान पवार की राजनीतिक चाल है या फिर शिवसेना के लिए झटका? बीते कुछ दिनों से संजय राउत शिवसेना का चेहरा बन कर महाराष्ट्र से लेकर दिल्ली की राजनीति को गर्मा रखा है. यहां पर बता दें कि बीजेपी का शीर्ष नेतृत्व या शिवसेना के सर्वेसर्वा उद्धव ठाकरे की तरफ से कोई बयान नहीं आया है.

अगले दो दिनों में महाराष्ट्र की राजनीति किस करवट लेगी?

ऐसे में सवाल यह उठता है कि आखिरकार महाराष्ट्र में क्या राजनीतिक घटनाक्रम घटने वाली है? बुधवार को जिस तरह से एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार ने पीसी कर विपक्ष में बैठने का ऐलान किया है. उसके कई मायने निकाले जा रहे हैं. तकरीबन ये साफ हो गया है कि एनसीपी-कांग्रेस सरकार बनाने को लेकर कोई हड़बड़ी में नहीं है. एनसीपी सुप्रीमो ने साफ कर दिया है कि उनको विपक्ष में बैठने के लिए मत मिले हैं. शरद पवार के इस बयान के बाद शिवसेना के पास अब क्या-क्या विकल्प बचते हैं?

एनसीपी नेता शरद पवार
महाराष्ट्र की सत्ता का सबसे बड़ा खिलाड़ी शरद पवार ने भी अपना पासा फेंक दिया है.


कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता न्यूज 18 हिंदी के साथ बातचीत में साफ कर दिया है कि शिवसेना से किसी भी स्थिति में कांग्रेस-एनसीपी गठबंधन नहीं करने जा रही है. पिछले कई सालों से देवेंद्र फडणवीस की अगुआई में बीजेपी नेतृत्व पैसे और रसूख के दम पर महाराष्ट्र की सरकार चला रही थी वह अब चला कर दिखाए? क्यों महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadanvis) दिल्ली से लेकर नागपुर तक का दौरा कर रहे हैं?

शरद पवार की राजनीतिक चाल में कौन फंसेगा? 

बता दें कि मंगलवार रात को देवेंद्र फडणवीस नागपुर पहुंच कर संघ नेताओं से मुलाकात की थी. फडणवीस ने संघ नेताओं को मौजूदा राजनीतिक परिस्थिति से अवगत कराया था. इस मुलाकात के अगले दिन ही बुधवार को शिवसेना नेता संजय राउत ने एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार से मुलाकात की. इस मुलाकात के बाद संजय राउत ने कहा था कि महाराष्ट् की राजनीति में शरद पवार का कद सबसे बड़ा है. मौजूदा राजनीतिक परिस्थितियों से से अवगत कराने आए थे. बाद में शरद पवार ने भी मीडिया के सामने बोला कि हम विपक्ष में बैठेंगे. उन्होंने कहा कि सरकार बनाने को लेकर शिवसेना से अभी तक कोई प्रस्ताव नहीं मिला है. शरद पवार के मुताबिक, मेरे पास नंबर नहीं है कैसे सरकार बनाएं?
Loading...

FADANVIS
महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए सिर्फ दो दिन बचे हैं


बता दें कि अब महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए अब सिर्फ दो दिन का वक्त बचा है. शिवसेना नेता संजय राउत का शरद पवार के साथ मुलाकात से पहले लग रहा था कि एनसीपी-कांग्रेस और शिवसेना मिलकर सरकार बनाने जा रही है, लेकिन पवार के ताजा बयान के बाद लगने लगा है कि महाराष्ट्र में शिवसेना और बीजेपी मिलकर सरकार बनाएगी या फिर राज्य में राषट्रपति शासन की घोषणा हो जाएगी.  मौजूदा राजनीतिक परिस्थिति से लगता है कि बीजेपी को हर हालत में सीएम पद चाहिए. शिव सेना भी सीएम पद की मांग कर रही है.

9 नवंबर से पहले सरकार बनाने को लेकर रस्साकशी

कुलमिलाकर महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर अभी भी पिक्चर साफ नहीं हो रहा है. जानकारों का मानना है कि अगर 9 नवंबर तक महाराष्ट्र में नई सरकार के गठन को लेकर कोई हल नहीं निकलता है तो फिर राष्ट्रपति शासन लगा दिया जाएगा. महाराष्ट्र में नई सरकार के गठन की आखिरी तारीख 9 नवंबर है. बीजेपी और शिवसेना अपनी-अपनी बात पर अड़ी हुई है. दोनों तरफ से लगातार बयानबाजी हो रही है, जो रुकने का नाम नहीं ले रहा है. बीजेपी का शीर्ष नेतृत्व भी चुप्पी साधे हुए है.

ये भी पढ़ें: 

Delhi Police Protest: जो पुलिसकर्मी दोपहर को कमिश्नर के कहने पर भी नहीं माने, वह शाम को कैसे मान गए?

प्रदूषण पर किसने कहा कि 'अब सबकुछ भगवान भरोसे'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 6, 2019, 2:58 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...