लाइव टीवी

विकीपीडिया पर बदला शिवसेना का बायो- सेक्‍युलर से फिर हुई हिन्‍दुवादी

News18Hindi
Updated: November 27, 2019, 5:40 PM IST
विकीपीडिया पर बदला शिवसेना का बायो- सेक्‍युलर से फिर हुई हिन्‍दुवादी
उद्धव ठाकरे शिवसेना के प्रमुख हैं. (फाइल फोटो)

विकीपीडिया पर शिवसेना (Shiv sena) के बारे में हुआ बदलाव कुछ मिनटों बाद हट गया और शिवसेना फिर से हिंदुत्व विचारधारा वाली पार्टी बन गई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 27, 2019, 5:40 PM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र की सियासत पर छाए 'धुंध के बादल' अब छंट गए हैं. बीजेपी से अलग हुई शिवसेना (Shiv sena) अब कांग्रेस और एनसीपी के साथ गठबंधन कर सत्ता पर काबिज होने जा रही है. हिंदूवादी विचारधारा को समर्थन करने वाली शिवसेना, कांग्रेस-एनसीपी के साथ जुड़ते ही सेकुलर (Secular) हो गई है, ऐसा विकीपीडिया (Wikipedia) पर हुआ. हालांकि, कुछ देर बाद ही विकीपीडिया ने शिवसेना का बायो बदलते हुए उसकी पहचान फिर से महाराष्ट्र की 'हिंदू राष्ट्रवादी राजनीतिक संगठन' के रूप में कर दी.

विकीपीडिया पर शिवसेना के बायो में बदलाव एनसीपी के नेता नवाब मलिक की मीडिया को दिए गए उस बयान के बाद हुआ, जिसमें उन्होंने शिवसेना को कथित तौर पर सेकुलर पार्टी कहा था.

विकीपीडिया पर पहले शिवसेना को सेकुलर बताया गया था.


मीडिया से बात करते हुए एनसीपी के नेता नवाब मलिक ने कहा था कि शिवसेना का जन्म सांप्रदायिक राजनीति करने के लिए नहीं हुआ था, वे महाराष्ट्र के लोगों की सेवा के लिए अस्तित्व में आए. बीजेपी से हाथ मिलाने के बाद शिवसेना खराब हो गई थी.

हालांकि, शिवसेना के बायो में हुआ बदलाव कुछ मिनटों के लिए ही रहा. लेकिन, नवाब मलिक की शिवसेना को लेकर की गई टिप्पणी पर ट्विटर पर कई तरह के कमेंट आने शुरू हो गए.

मीडिया से बात करते एनसीपी के नेता नवाब मलिक


ट्विटर यूजर सागर ने ट्वीट करते हुए लिखा, 'अरे ये तो कुछ भी नहीं है, अभी शिवसेना सीना तान कर बोलेगी हिन्‍दू आतंकवादी होता है, देखते जाईए. सोहबत का असर धीरे-धीरे रंग दिखाता है.'
Loading...

ट्विटर पर यूजर्स के कमेंट


एक अन्य ट्विटर यूजर धर्मेंद्र ठाकुर लाला ने लिखा, "शिवसेना वालों, 'कसम राम की खाते हैं से लेकर कसम सोनिया की खाते हैं' तक का सफर देश भूलेगा न महाराष्ट्र की जनता."

ट्विटर पर यूजर का कमेंट


बता दें, राजनीतिक कार्टूनिस्ट बाल साहेब ठाकरे ने महाराष्ट में शिवसेना का स्थापना 19 जून 1966 को की थी. पार्टी मूल रूप से मुंबई में हुए एक आंदोलन से निकली, जो शहर में प्रवासियों के लिए महाराष्ट्रियों के लिए अधिकार की मांग कर रही थी. बाला साहेब के निधन के बाद समझ जाता था कि उनकी राजनीतिक विरासत को उनके भतीजे राज ठाकरे संभालेंगे लेकिन ऐसा हुआ नहीं. राज ठाकरे ने शिवसेना से अलग होकर महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) पार्टी बना ली. और शिवसेना का नेतृत्व उद्धव ठाकरे करने लगे. शिवसेना के कार्यकर्ताओं को शिवसैनिकों के रूप में जाना जाता है.

ये भी पढ़ें-

Analysis: एक मास्टर स्ट्रोक से सबको ठिकाने लगा गए शरद पवार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 27, 2019, 5:40 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...