अजित पवार का कदम अनुशासनहीनता, शिवसेना-NCP-कांग्रेस बनाएगी सरकार: शरद पवार
Mumbai News in Hindi

अजित पवार का कदम अनुशासनहीनता, शिवसेना-NCP-कांग्रेस बनाएगी सरकार: शरद पवार
राकांपा प्रमुख ने कहा, ‘सुबह करीब साढे छह-पौने सात बजे, मेरे पास यह फोन कॉल आया कि राकांपा के कुछ विधायकों को राजभवन ले जाया गया है. कुछ देर बाद, हमें पता चला कि देवेंद्र फड़णवीस और अजित पवार ने क्रमश: मुख्यमंत्री एवं उप मुख्यमंत्री पद की शपथ ली है.’ (फाइल फोटो)

राकांपा अध्यक्ष (NCP President) शरद पवार (Sharad Pawar) ने कहा कि, उनके भतीजे अजीत पवार (Ajit Pawar) और पाला बदलने वाले पार्टी के अन्य विधायकों पर ‘दल-बदल विरोधी कानून’ के प्रावधान लागू होंगे.

  • Share this:
मुंबई. एनसीपी अध्यक्ष (NCP President) शरद पवार (Sharad Pawar) ने महाराष्ट्र (Maharashtra) में सरकार बनाने के लिए भाजपा (BJP) से हाथ मिलाने के अजित पवार (Ajit Pawar) के फैसले को शनिवार को अनुशासनहीनता करार दिया. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) प्रमुख ने दावा किया कि भाजपा नीत नई सरकार विधानसभा में बहुमत साबित नहीं कर पाएगी. उन्होंने जोर देकर कहा कि ‘शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस’ के पास संयुक्त रूप से संख्या बल है और तीनों दल सरकार बनाएंगे.

अब मुझे नहीं लगता कि चुनाव कराने की भी कोई जरूरत है: उद्धव ठाकरे
शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने भी तीनों दलों के साथ मिलकर सरकार बनाने की बात दोहराई. शनिवार सुबह चौंका देने वाले राजनीतिक घटनाक्रम के बाद पवार ने शिवसेना प्रमुख के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस की. ठाकरे ने कहा, ‘पहले ईवीएम का खेल चल रहा था और अब यह एक नया खेल है. अब मुझे नहीं लगता कि चुनाव कराने की भी कोई जरूरत है.’

दल-बदल करने वाले विधायकों की सदस्यता छिन जाएगी: शरद पवार
शरद पवार ने कहा कि जिन विधायकों ने दल-बदल किया है, उनकी विधानसभा की सदस्यता छिन जाएगी और जब उपचुनाव होंगे, तब कांग्रेस-एनसीपी-शिवसेना गठबंधन उनकी हार सुनिश्चित करेंगे. शरद पवार ने कहा कि, ‘उनके मतदाता भी उपयुक्त रुख अख्तियार करेंगे.’



मुझे नहीं पता कि ईडी के डर से मेरे भतीजे ने भाजपा को समर्थन का फैसला लिया: शरद पवार
शरद ने कहा कि उन्हें नहीं पता कि क्या उनके भतीजे ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के डर से भाजपा का समर्थन करने का फैसला लिया. अजित पवार उन लोगों में शामिल हैं, जो करोड़ों रुपये के महाराष्ट्र राज्य सहकारी बैंक घोटाले मामले में नामजद किए गए हैं. एनसीपी प्रमुख ने इन अटकलों को भी खारिज कर दिया कि मुख्यमंत्री पद को लेकर उनकी बेटी सुप्रिया सुले के साथ सत्ता संघर्ष के परिणामस्वरूप अजित ने यह अवज्ञा की है.

कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना को निर्दलीयों समेत 169-170 विधायकों का समर्थन हासिल
राकांपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा, ‘सुप्रिया की राज्य की राजनीति में रूचि नहीं है. वह सांसद है और राष्ट्रीय स्तर की राजनीति करना चाहती हैं.’ उन्होंने कहा कि कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना को निर्दलीय और छोटे दलों के विधायकों के साथ 169-170 विधायकों का समर्थन हासिल है और वे सरकार बनाने के लिए तैयार हैं.

राजभवन में मौजूद विधायकों में से 3 पार्टी में लौट आए हैं दो और लौट रहे हैं: शरद पवार
शरद पवार ने कहा कि एनसीपी के जो 10 से 11 विधायक राजभवन में अजित के साथ उपस्थित थे, उनमें से तीन पार्टी में लौट आए. ‘दो और लौट रहे हैं.’ उन्होंने कहा, ‘टीवी फुटेज और तस्वीरों से हमने विधायकों की पहचान कर ली है.’

 

ये भी पढ़ें - 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज