लाइव टीवी

महाराष्ट्र में बात बन गई! गवर्नर से आज मिलेंगे शिवसेना, कांग्रेस और NCP के नेता

News18Hindi
Updated: November 16, 2019, 8:53 AM IST
महाराष्ट्र में बात बन गई! गवर्नर से आज मिलेंगे शिवसेना, कांग्रेस और NCP के नेता
सरकार बनाने की कोशिशों के बीच तीनों दल के नेता राज्यपाल से आज मुलाकात करने वाले हैं.

शनिवार को राज्यपाल से होने वाली इस मुलाकात को लेकर तीनों दलों के नेताओं ने कहा है कि यह बैठक वर्षा प्रभावित किसानों के लिए तत्काल सहायता मांगने के लिए है. इसका सरकार गठन से कोई संबंध नहीं है और न ही हम सरकार बनाने का दावा पेश करने जा रहे हैं. हालांकि राजनीतिक हलकों में इस मुलाकात को लेकर तमाम तरह की चर्चा हो रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 16, 2019, 8:53 AM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र (Maharashtra) में सत्ता का संकट सुलझने के संकेत मिल रहे हैं. शिवसेना (Shiv Sena) राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) और कांग्रेस (Congress) के साथ मिलकर सरकार बनाने की तरफ बढ़ रही है. विधानसभा चुनाव परिणाम आने के 22 दिन बाद भी राज्य में सरकार का गठन नहीं हो पाया है. वहीं चुनाव बाद होने जा रहे इस गठबंधन के भविष्य को लेकर तमाम तरह की आशंकाओं के बीच एनसीपी प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) ने कहा है कि तीनों दलों की सरकार पांच का कार्यकाल पूरा करेगी. सरकार गठन की कोशिशों के बीच शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी का प्रतिनिधिमंडल शनिवार को राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी (Bhagat Singh Koshyari) से मुलाकात करने वाला है.

शनिवार को राज्यपाल से होने वाली इस मुलाकात को लेकर तीनों दलों के नेताओं ने कहा है कि यह बैठक वर्षा प्रभावित किसानों के लिए तत्काल सहायता मांगने के लिए है. इसका सरकार गठन से कोई संबंध नहीं है और न ही हम सरकार बनाने का दावा पेश करने जा रहे हैं. हालांकि राजनीतिक हलकों में इस मुलाकात को लेकर तमाम तरह की चर्चा हो रही है.



कॉमन मिनिमम प्रोग्राम पर बनी सहमतिवहीं सरकार बनाने को लेकर तीनों दलों में कई दौर की बातचीत के बाद कॉमन मिनिमम प्रोग्राम पर सहमति बन गई है. शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी के बीच 14+14+12 फॉर्मूले के तहत विभागों के बंटवारे पर सहमति भी बन गई है. सूत्रों का कहना है कि फॉर्मूला तय होने के बाद संभव है कि शनिवार को राज्यपाल से मुलाकात के दौरान शिवसेना-एनसीपी और कांग्रेस सरकार बनाने का अपना दावा पेश करें.

जो भी सरकार बनेगी, पांच साल चलेगी
शुक्रवार को शरद पवार ने कहा कि सरकार गठन की प्रक्रिया शुरू हो गई है, जो भी सरकार बनेगी वो पांच साल तक चलेगी. पवार ने नागपुर में कहा कि मध्यावधि चुनाव की कोई आशंका नहीं है. यह सरकार बनेगी और पूरे पांच साल चलेगी. हम सभी यही आश्वस्त करना चाहेंगे कि यह सरकार पांच साल का कार्यकाल पूरा करेगी.

मुख्यमंत्री शिवसेना का होगा
शुक्रवार को ही मुंबई में एनसीपी के मुख्य प्रवक्ता नवाब मलिक ने कहा कि मुख्यमंत्री का पद शिवसेना के पास रहेगा. इससे पहले शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा था कि महाराष्ट्र में पांच साल नहीं, बल्कि 25 साल के लिए शिवसेना की सरकार होनी चाहिए. मलिक ने कहा, 'मुख्यमंत्री शिवसेना का होगा. मुख्यमंत्री पद के मुद्दे पर ही उसने महायुति (गठबंधन) को छोड़ा है. उनकी भावनाओं का सम्मान करना हमारी जिम्मेदारी है.'

संजय राउत और उद्धव ठाकरे


महाराष्ट्र में पहली बार ऐसा प्रयोग हो रहा है जब अलग अलग विचारधारा के ये दल सरकार बना रहे हैं जिसका नेतृत्व शिवसेना करेगी. इससे पहले पिछले दो दशक में राज्य की सियासत बीजेपी-शिवसेना और कांग्रेस-एनसीपी गठबंधन के इर्द-गिर्द घूमती रही है.

राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू है
बता दें कि चुनाव पूर्व बीजेपी-शिवसेना गठबंधन ने महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के नतीजों में पूर्ण बहुमत हासिल किया था. कुल 288 सीटों में से बीजेपी ने 105 और शिवसेना ने 56 सीटें जीती थीं, जो सरकार बनाने के लिए जरूरी बहुमत के आंकड़े से ज्यादा थी. वहीं कांग्रेस और एनसीपी ने क्रमश: 44 और 54 सीटें जीती थीं. लेकिन कोई भी दल सरकार गठन में कामयाब नहीं हो पाया. इसके बाद राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने बीते मंगलवार को केंद्र को एक रिपोर्ट भेजकर मौजूदा स्थिति को देखते हुए महाराष्ट्र में स्थिर सरकार के गठन को असंभव बताया था. इसके बाद राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू कर दिया गया था.

ये भी पढ़ें-

संजय राउत बोले- हम चाहते हैं अगले 25 साल तक महाराष्ट्र में शिवसेना का CM हो

महाराष्ट्र संकट पर नितिन गडकरी बोले- क्रिकेट और राजनीति में कुछ भी हो सकता है

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 16, 2019, 8:06 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर