महाराष्ट्र का सत्ता संग्राम : फ्लोर टेस्ट से पहले हर पार्टी दावों में दिखा रही है 'दम', यहां देखें समीकरण

महाराष्ट्र में फ्लोर टेस्ट से पहले हर पार्टी दावों में सरकार बनाने का दम दिखा रही है. (फाइल फोटो)
महाराष्ट्र में फ्लोर टेस्ट से पहले हर पार्टी दावों में सरकार बनाने का दम दिखा रही है. (फाइल फोटो)

महाराष्ट्र (Maharashtra) में फ्लोर टेस्ट (Floor test) से पहले सभी दल अपने पक्ष में ज्यादा से ज्यादा विधायकों (MLA) के समर्थन का दावा कर रहे हैं. बीजेपी (BJP) 150 तो शिवसेना -एनसीपी - कांग्रेस 161 विधायकों के समथर्न का दावा कर रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 25, 2019, 11:25 AM IST
  • Share this:
मुंबई : महाराष्ट्र (Maharashtra) में सरकार बनाने के मामले में आज सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में दूसरे दिन सुनवाई होगी. सुनवाई में कोर्ट आज फ्लोर टेस्ट की तारीख तय कर सकता है. इस बीच महाराष्ट्र में एनसीपी, शिवसेना और कांग्रेस ने अपने-अपने विधायकों को ऑरेशन लोटस से बचाने के लिए पांच सितारा होटलों में कैद रखा है.

क्या सच में विधायक टूट रहे हैं
महाराष्ट्र में भाजपा, शिवसेना, एनसीपी और अजीत पवार सरकार बनाने के लिए अपने पक्ष में बहुमत के आंकड़े होने का दम भर रहे हैं. एनसीपी से टूटकर अलग हुए अजित पवार का दावा है कि उनके पास एनसीपी के 25 से ज्यादा विधायकों का समर्थन है.

पवार का कहाना है कि फ्लोर टेस्ट में फडणवीस सरकार को कोई हिला नहीं सकता. वहीं एनसीपी का दावा है कि उसके पास एनसीपी के 50 विधायकों का समर्थन है. शिवसेना अपने सभी 56 विधायकों के समर्थन की बात कह रही है. वहीं बाजेपी 150 विधायकों के समर्थन का दावा कर रही है.
क्या सभी के पास सरकार बनाने के लिए बहुमत है


ऐसे में सवाल यह खड़ा हो रहा है कि जब किसी भी दल के विधायक नहीं टूट रहे हैं तो भाजपा को कुल 150 और अजित पवार को एनसीपी के 25 से अधिक विधायकों का समर्थन कैसे मिल रहा है? आइए हम आपको महाराष्ट्र में विधायकों की संख्या बल के आधार पर बताते हैं कि किस पार्टी के दावों में कितना दम है.

किसके समर्थन में कितने विधायक
महाराष्ट्र की 288 विधायकों वाली विधानसभा में बीजेपी के 105 विधायक हैं. शिवसेना के 56 विधायक हैं, कांग्रेस के 44 और एनसीपी के 54 के विधायक हैं. महाराष्ट्र में 29 निर्दलीय विधायक भी हैं.

BJP ने किया 150 विधायकों के समर्थन का दावा
एनसीपी से अलग हुए अजित पवार का दावा है कि उनके पास एनसीपाी के 25 विधायकों का समर्थन है. वहीं भाजपा का दावा है कि 15 निर्दलीय विधायक उसके पक्ष में हैं. मतलब बीजेपी के पास 145 विधायकों का समर्थन है. बीजेपी ने 150 विधायकों के समर्थन का दावा किया है, जिसमें अभी भी पांच विधायकों की संख्या कम है.

विपक्ष ने कहा- हमारे पास हैं 161 विधायक
दूसरी ओर शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस कुल 161 विधायकों के समर्थन का दावा कर रहे हैं. इनमें शिवसेना के पास 56, एनसीपी के पास 54, कांग्रेस के पास 44 और 08 निर्दलीय विधायकों का समर्थन प्राप्त है.

निर्दलीय विधायक निभा सकते हैं बड़ी भूमिका
महाराष्ट्र में ऑपरेशन लोटस से बचने के लिए सभी राजनीतिक दलों ने अपने-अपने विधायकों को पांच सितारा होटल में ठहराया है. इन विधायकों से पार्टी के बड़े नेताओं के अलावा किसी और को नहीं मिलने दिया जा रहा है.

ऐसे में बचे हुए 29 निर्दलीय विधायकों से संपर्क करने की तमाम बड़ दल कोशिश कर रहे हैं. राजनीतिक जानकार बताते हैं कि जो भी दल ज्यादा से ज्यादा निर्दलीय विधायकों का समर्थन जुटा लेता है उसको सरकार बनाने में आसानी होगी. क्योंकि मौजूदा हालात में पार्टी से विधायकों को तोड़ना आसान नहीं है.

(इनपुट ः अभिषेक पांडे के साथ )



 

 

ये भी पढ़ें- शिवसैनिकों की पहरेदारी में NCP विधायक, भुजबल बोले- हमारे एक-दो विधायक गायब
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज