लाइव टीवी
Elec-widget

महाराष्ट्र में सरकार गठन पर भाजपा 'वेट एंड वाच' मोड में: सुधीर मुनगंतीवार

News18Hindi
Updated: November 12, 2019, 5:21 AM IST
महाराष्ट्र में सरकार गठन पर भाजपा 'वेट एंड वाच' मोड में: सुधीर मुनगंतीवार
भाजपा नेता सुधीर मुनगंतीवार ने कहा है कि पार्टी ने महाराष्ट्र में 'वेट एंड वाच' की नीति पर चलने का निर्णय लिया है. (फाइल फोटो)

एनसीपी-कांग्रेस (NCP-Congress) को भी सरकार बनाने के लिए शिवसेना (Shiv Sena) का समर्थन जरूरी होगा क्योंकि इस गठबंधन के विधायकों की संख्या केवल 98 है. महाराष्ट्र में सरकार गठन के लिए 145 विधायकों का समर्थन चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 12, 2019, 5:21 AM IST
  • Share this:
मुंबई: भारतीय जनता पार्टी (BJP) के नेताओं ने महाराष्ट्र (Maharashtra) में सरकार गठन के मामले में राहत की सांस ली है क्योंकि उनकी सहयोगी शिवसेना (Shiv Sena) सोमवार को सरकार बनाने के लिए आवश्यक समर्थन पाने में विफल रही. बीजेपी (BJP) नेता सुधीर मुनगंतीवार (Sudhir Mungantiwar) ने कहा, ‘हम महाराष्ट्र में चल रहे घटनाक्रमों पर कड़ी नजर रख रहे हैं और हमने 'वेट एंड वाच' की नीति पर चलने का फैसला किया है.’

सुधीर मुनगंतीवार ने कहा कि भाजपा राज्यपाल द्वारा दी गई समय-सीमा समाप्त होने के बाद राजनीतिक घटनाक्रम पर टिप्पणी करेगी. भाजपा ने सोमवार को अपने कोर ग्रुप की बैठक की. लगता है कि यह बैठक मुख्य रूप से राज्यपाल के साथ शिवसेना के नेताओं की बैठक के परिणाम पर विचार करने के लिए आयोजित की गई थी. उल्लेखनीय है कि राज्यपाल ने राकांपा को सरकार गठन के लिए अगले 24 घंटे का समय दिया है.

राज्यपाल ने एनसीपी को दिया न्यौता, मिला 24 घंटे का समय
सोमवार को महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी (Bhagat Singh Koshiyari) ने शिवसेना को बहुमत संख्या साबित करने के लिए अधिक समय देने से इनकार कर दिया और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी को सरकार बनाने का न्यौता दिया. उन्होंने सरकार बनाने के लिए शिवसेना को समर्थन जुटाने के लिए दी गई सोमवार शाम साढ़े सात बजे तक की समय-सीमा को आगे बढ़ाने से इंकार कर दिया. इसके बाद राज्यपाल ने अब राकांपा को सरकार गठन के लिए अगले 24 घंटे का समय दिया है.

एनसीपी-कांग्रेस गठबंधन के हैं 98 विधायक
एनसीपी-कांग्रेस, भाजपा-शिवसेना के बाद दूसरा सबसे बड़ा चुनाव पूर्व गठबंधन था और इस गठबंधन के विधायकों की संख्या 98 है. उन्हें निश्चित रूप से राज्य में सरकार बनाने के लिए 56 विधायकों वाले शिवसेना के समर्थन की आवश्यकता होगी.

घोर दक्षिणपंथी पार्टी के साथ सरकार बनाने का विरोध कर रहा है कांग्रेस का एक वर्ग
Loading...

सोमवार को शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कांग्रेस के समर्थन के लिए सोनिया गांधी से बात की, लेकिन उन्हे कोई ठोस आश्वासन नहीं मिला. कांग्रेस में एक वर्ग शिवसेना के नेतृत्व में सरकार को समर्थन देने के पक्ष में नहीं है क्योंकि विचारधारा के मामले में दोनों दल धुर विरोधी हैं. पार्टी के इस वर्ग का मानना है कि शिवसेना को समर्थन देने से कांग्रेस की चुनावी संभावनाओं पर विपरीत प्रभाव पड़ सकते हैं क्योंकि शिवसेना घोर दक्षिणपंथी पार्टी है.

राज्य में ये है सीटों की स्थिति
शिवसेना भाजपा के बाद महाराष्ट्र के 288 सदस्यीय सदन में दूसरी सबसे बड़ी पार्टी है जिसके 56 विधायक हैं. भाजपा के 105 विधायक हैं. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी और कांग्रेस के क्रमश: 54 और 44 विधायक हैं.

यह भी पढे़ं - 

ईरान को परमाणु समझौते की प्रतिबद्धताओं के पूर्ण कार्यान्वयन पर लौटना होगा: EU

NIA ने LeT के लिए धन जुटाने के आरोप में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 12, 2019, 5:21 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com